ज्ञानवापी मस्जिदस्यानुसंधानस्य काळम् शुद्धिस्थाने एकस्य वृहत् आकारस्य शिवलिंगं ळब्धं-विष्णु जैन: ! ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान वजूखाने में एक बड़े आकार का शिवलिंग मिला-विष्णु जैन !

0
219

ज्ञानवापी मस्जिदस्यानुसंधानस्य काळम् संमुखम् आगतं शिवलिंगे कलहमुत्पादितं ! एआईएमआईएम प्रमुख: असदुद्दीन ओवैसिणा सह मुस्लिमपक्षस्य जनाः येन उत्स: ज्ञापयन्ति !

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान सामने आए शिवलिंग पर विवाद खड़ा हो गया है !एआईएमआईएम सुप्रीमो असदुद्दीन ओवैसी सहित मुस्लिम पक्ष के लोग इसे फव्वारा बता रहे हैं !

यद्यपि हिंदूपक्षस्याधिवक्ता विष्णु जैनस्य कथनमस्ति ततानुसंधानस्य काळम् तत्र शुद्धिस्थानस्याभ्यांतरम् एकं वृहत् शिवलिंगम् ळब्धं सः च् येन द्रष्टमस्ति ! जैन: सोशल मीडिया इत्यां प्रसृतं शिवलिंगस्य चलचित्रम् सत्यं ज्ञापितमस्ति ! सः कथितमस्ति तत इदम् चलचित्रम् तमेव शुद्धिस्थानकं स्थानस्यास्ति !

जबकि हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन का कहना है कि सर्वे के दौरान वहां वजूखाने के भीतर एक बड़ा शिवलिंग मिला और उन्होंने इसे देखा है ! जैन ने सोशल मीडिया में वायरल शिवलिंग के वीडियो को सही बताया है ! उन्होंने कहा है कि यह वीडियो उसी वजूखाने वाले स्थान का है !

ज्ञानवापी प्रकरणे भौमवासरम् सर्वोच्चन्यायालये अपि शृणुनम् भवितमस्ति ! हिंदूपक्षस्य ज़ कर्ताधिवक्ता विष्णु जैन: कथित: तत सोमवासरम् ज्ञानवापी मस्जिदस्यानुसंधानस्य काळम् तत्र शुद्धि स्थानस्याभ्यांतरम् एकं वृहत् शिवलिंगं ळब्धं !

ज्ञानवापी मामले में मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई होनी है ! हिंदू पक्ष का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील विष्णू जैन ने कहा कि सोमवार को ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान वहां वजूखाने के भीतर एक बड़ा शिवलिंग मिला !

शिवलिंगं ळब्धस्य त्वरितानंतरमहम् न्यायालये याचिका कृतः येन साक्ष्यस्य रूपे संरक्षितुं सुरक्षा दीयेत् ! यस्यानंतरम् न्यायालयं शुद्धिस्थानमवरुद्धस्य आदेश पारितं ! जैनस्य कथनमस्ति तत सोशल मीडिया इत्यां शुद्धिस्थानस्य यत् चलचित्रम् प्रसृतं अभवत्, तत मस्जिदस्याभ्यांतरस्यास्ति !

शिवलिंग मिलने के तुरंत बाद हमने कोर्ट में अर्जी लगाई कि इसे साक्ष्य के रूप में संरक्षित रखने के लिए सुरक्षा दी जाए ! इसके बाद कोर्ट ने वजूखाने को सील करने का आदेश पारित किया ! जैन का कहना है कि सोशल मीडिया में वजूखाने का जो वीडियो वायरल हुआ है, वह मस्जिद के भीतर का है !

जैनस्य कथनमस्ति तत सः शिवलिंगं दर्शित: ! सः कथित: सः केचन सोपानानि अवतरित्वाधो गतः तत स्थाने च् प्राप्त: यत्र शिवलिंगमासीत् ! सः अग्रम् कथित: सर्वोच्चन्यायालयस्य संमुखम् अंजुमनस्य याचिकायाः कश्चितार्थम् नास्ति !

जैन का कहना है कि उन्होंने शिवलिंग देखा ! उन्होंने कहा वह कुछ सीढ़ियां उतरकर नीचे गए और उस स्थान पर पहुंचे जहां शिवलिंग था ! उन्होंने आगे कहा सुप्रीम कोर्ट के सामने अंजुमन की अर्जी का कोई मतलब नहीं है !

कुत्रचित सः अनुसंधानम् एवं अधिवक्तायुक्तस्य नियुक्तिमह्वेयता दत्तमस्ति ! जैन: कथित: तत यत्रैव प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट इत्या: वार्तास्ति तर्हि यस्य सब क्लाज द्वे स्थानस्य धार्मिक चरित्रम् प्रत्यां वार्ता करोति !

क्योंकि उन्होंने सर्वे एवं एडोवोकेट कमिश्नर के नियुक्ति को चुनौती दी है ! जैन ने कहा कि जहां तक प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट की बात है तो इसका सब क्लॉज दो जगह के धार्मिक चरित्र के बारे में बात करता है !

उदाहरणाय यदि कश्चित जनाः कश्चितैव मस्जिदे कश्चित मूर्ति इति स्थाप्यति तर्हि इदम् मन्दिरम् न भवति ! येन प्रकारेण मन्दिरम् प्रत्यां अपि इदमेव वार्ता भवति ! जैन: कथित: अनुसन्धाने यत् वस्तूनि ळब्धानि सन्ति अहम् तं प्रत्यां वार्ता न कथयामि !

उदाहरण के लिए यदि कोई व्यक्ति किसी मस्जिद में कोई मूर्ति रख देता है तो यह मंदिर नहीं हो जाता है ! इसी तरह से मंदिर के बारे में भी यही बात लागू होती है ! जैन ने कहा सर्वे में जो चीजें मिली हैं मैं उनके बारे में बात नहीं कह रहा हूँ !

कुत्रचित इदम् प्रकरणम् सम्प्रति न्यायालयायुक्तं न्यायालयस्य संमुखमस्ति ! अहम् केवलं शिवलिंगम् प्रत्यां वार्ता कृतमस्ति कुत्रचित एकस्य महत साक्ष्यस्य रूपे येन संरक्षितस्यावश्यकतामस्ति !

क्योंकि यह मामला अब कोर्ट कमिश्नर एवं अदालत के सामने है ! मैंने केवल शिवलिंग के बारे में बात की है क्योंकि एक अहम साक्ष्य के रूप में इसे संरक्षित रखने की जरूरत है !

शिवलिंगमुत्स: ज्ञापने जैन: कथित: तत यदि इदम् उत्स: अस्ति तर्हि तत्रे कश्चित पाइप तस्मात् संलग्नं कश्चितान्य वस्तूनि अपि वा भवनीयं स्म तु तत्रे इदृशं केचन न ळब्धं !

शिवलिंग को फव्वारा बताए जाने पर जैन ने कहा कि यदि यह फव्वारा है तो वहां पर कोई पाइप या उससे जुड़ी कोई अन्य चीज भी होनी चाहिए थी लेकिन वहां पर ऐसा कुछ नहीं मिला !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here