32.1 C
New Delhi

श्री राम का अलौकिक रूप

Date:

Share post:

  1. सुर नर मुनि कोऊ नाहि जेहि  न मोह माया प्रबल |

     अस बिचारि  मन माहि भजिअ  महामाया पतिहि ||

                इन पंक्तियों में गोस्वामी तुलसीदासजी ने प्रभु श्री राम के शक्तिशाली मायावी रूप-स्वरुप का वर्णन किया है |  देवता ,ऋषि –मुनि तथा सभी मनुष्य प्रभु की माया से मोहित हो जाते हैं | ऐसा सोचकर हमें प्रभु राम की भक्ति में अपने आपको  लीन कर देना चाहिए |

2.  जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता |

    गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिन्धुसुता प्रिय कंता ||

    पालन सुर धरनी अद्भुत करनी मरम न जानइ कोई |

    जो सहज कृपाला दीनदयाला करउ अनुग्रह  सोई ||

                    गोस्वामी तुलसीदासजी ने इन पंक्तियों में भगवान श्री राम के सर्वव्यापी एवं अलौकिक रूप का वर्णन किया है |प्रभु श्री राम अविनाशी और सबके हृदय को असीम सुख प्रदान करने वाले हैं | ऐसे महाप्रभु श्री राम की कवि तुलसीदासजी ने जय जयकार की है | संसार से विरक्त अनेक ज्ञानी पुरुष रात-दिन इसीलिए प्रभु श्री राम का ध्यान करते हैं | ऐसे प्रभु की गोस्वामी तुलसीदासजी  बार –बार वंदना करते हैं | ऐसे प्रभु श्री राम के सच्चिदानंद स्वरुप का हमें निरंतर ध्यान करना चाहिए | सारे कष्टों से मुक्ति का एकमात्र यही उपाय है |

Tiwari Rita
Tiwari Rita
मैंने नवोदय विद्यालय समिति में तीस वर्षो तक उपप्राचार्य के पद पर कार्य किया है | मैंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से हिंदी में एम.ए और पीएच-डी की डिग्री प्राप्त की है | मेरी रूचि हिंदी धर्म ग्रंथों को पढ़ने तथा उनमें निहित जीवन मूल्यों को अपने जीवन में अपनाने और समाज के लोगों तक उन्हें पहुँचाने में है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

कन्हैया लाल तेली इत्यस्य किं ?:-सर्वोच्च न्यायालयम् ! कन्हैया लाल तेली का क्या ?:-सर्वोच्च न्यायालय !

भवतम् जून २०२२ तमस्य घटना स्मरणम् भविष्यति, यदा राजस्थानस्योदयपुरे इस्लामी कट्टरपंथिनः सौचिक: कन्हैया लाल तेली इत्यस्य शिरोच्छेदमकुर्वन् !...

१५ वर्षीया दलित अवयस्काया सह त्रीणि दिवसानि एवाकरोत् सामूहिक दुष्कर्म, पुनः इस्लामे धर्मांतरणम् बलात् च् पाणिग्रहण ! 15 साल की दलित नाबालिग के साथ...

उत्तर प्रदेशस्य ब्रह्मऋषि नगरे मुस्लिम समुदायस्य केचन युवका: एकायाः अवयस्का बालिकाया: अपहरणम् कृत्वा तया बंधने अकरोत् त्रीणि दिवसानि...

यै: मया मातु: अंतिम संस्कारे गन्तुं न अददु:, तै: अस्माभिः निरंकुश: कथयन्ति-राजनाथ सिंह: ! जिन्होंने मुझे माँ के अंतिम संस्कार में जाने नहीं दिया,...

रक्षामंत्री राजनाथ सिंहस्य मातु: निधन ब्रेन हेमरेजतः अभवत् स्म, तु तेन अंतिम संस्कारे गमनस्याज्ञा नाददात् स्म ! यस्योल्लेख...

धर्मनगरी अयोध्यायां मादकपदार्थस्य वाणिज्यस्य कुचक्रम् ! धर्मनगरी अयोध्या में नशे के कारोबार की साजिश !

उत्तरप्रदेशस्यायोध्यायां आरक्षकः मद्यपदार्थस्य वाणिज्यकृतस्यारोपे एकाम् मुस्लिम महिलाम् बंधनमकरोत् ! आरोप्या: महिलायाः नाम परवीन बानो या बुर्का धारित्वा स्मैक...