24 C
New Delhi

7 अनूठी बातें यूनेस्को की विश्व विरासत रामाप्पा रुद्रेश्वर मंदिर, तेलंगाना की

Date:

Share post:

हाल ही में यूनेस्को यानी United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization (UNESCO) ने 25 जुलाई 2021 को तेलंगाना के रामाप्पा मंदिर को विश्व विरासत घोषित किया है. विश्व विरासत समिति के 44वें सत्र के दौरान फुज़ोउ, चीन में इसकी घोषणा की गई. ‘विश्व विरासत’ यानी पृथ्वी के वह स्थान हैं, जिनका बेजोड़ सनातन मोल है और जिन्हे मानवजाति को अपनी अगामी पुश्तो के लिए बचाए रखना है.

Photo: Nirav Lad | Wikimedia

काकटिया काल की गौरवगाथा की ये मिसाल साल 1234 ईस्वी में निर्मित है.  मुलुगु जिले के पालमपेट में 800 साल पुराना ये पूरा मंदिर परिसर वास्तुशिल्प सहित कई लिहाज़ से अनुपम है. आइए जानते हैं, इस मंदिर की 7 अनूठी ख़ूबियाँ, जो इसे ख़ास बनाती हैं…

UNESCO Official Tweet on Ramappa Temple

1) मंदिर जो इसे बनाने वाले कारीगर के नाम से जाना जाता है. इस मंदिर को काकटिया राजा गणपति देव के राज में बनवाया था. और इसे बनाने वाले कारीगर का नाम था रामाप्पा सतपथि. इसलिए इस पूरे परिसर को रामाप्पा मंदिर समूह कहते हैं. इस में प्रमुख शिवालय को रुद्रेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है. रुद्रेश्वर इसलिए कि इसे सेनापति रेचेरला रुद्र की निगरानी में बनाया गया था. यानी राजा की बजाय कारीगर और सेनापति को क्रेडिट!

Photo: Muralidhara Rao Patri | Wikmedia

2) तैरने वाली ईंटो से बना ! मंदिर में इस्तेमाल की गई ईंटे बहुत ही कम वज़न की हैं. आर्कियोलॉजिस्ट (पुराविदों) का कहना है कि, इस मंदिर में आम पत्थर की बजाय ख़ास तकनीक से बलुआ पत्थर जैसी सामग्री से बनी ऐसी हल्की-फुल्की और स्पाँजी ईंटे इस्तेमाल हुई हैं कि वह पानी में तैर सकती हैं. ये उस काल में भारत की उन्नत टेक्नोलॉजी की मिसाल है.

Photo: Parag Sane from Twitter

3) सतर्क नंदी ! इस मंदिर का एक और आकर्षण है नंदी मंड़पम में बैठा नंदी. जो शिवलिंग की और मुँह करके बेहद सचेत अंदाज़ में बैठा है. जबकि अक्सर शिवालयो में ऐसी मुद्रा में नंदी नहीं होते हैं. इस चौकन्ने नंदी को आभुषणो से सजाकर इतनी बारीकी से बनाया है कि इसकी नसे भी दिखती हैं. एक और अदभुत बात ये है कि इस मंदिर में नौ फीट ऊंचा शिवलिंग है.

Photo: Tamil Brahmins

4) दीवारों पर रामायण और शिव पुराण की गाथाएँ ! मंदिर के गर्भ गृह और दीवारों पर इन महान ग्रंथो के अलावा कई अन्य ग्रंथो से प्रेरित दृश्य खुदे हुए हैं.  यानी पत्थरो पे इन ग्रंथो की गाथाओं को सजीव किया गया है. मंदिर में नर्तकियों और पौराणिक पशुओ की मुर्तियाँ काफ़ी तादाद में हैं और आकर्षक व सजीव हैं.

Photo: Parag Sane

5) सुरीले और सुंदरियो वाले खम्भे! मंदिर की दीवारे और छत ही नहीं, बल्कि इसके खम्भो की सुंदर कारीगरी और उस पे बनी मुर्तियाँ भी सुंदर बनावट की मिसाल हैं. वहीं इन खम्भो पर प्रहार करने पर संगीतमय सुर निकलते हैं.  

Photo: Varsha Bhargavi Vikimedia

6) 40 साल की मेहनत! तेलंगाना सरकार की वेबसाइट के अनुसार इस मंदिर परिसर को बनने में लगभग चालीस साल लगे थे.

Photo Parag Sane Twitter

7) भूकम्प में भी सलामत ! सत्रहवी शताब्दी में इस इलाके में तेज भूकम्प आया था. जिससे इसे नुकसान हुआ लेकिन अपनी ‘sandbox technique’ नींव में तकनीक के कारण इस मंदिर का मुख्य हिस्सा बच गया.

Photo: Parag Sane | Twitter

इस सूची में भारत की यह 39वी विरासत है. इस में शामिल होना सम्मान की बात है, जो ना सिर्फ तेलंगाना, बल्कि भारत के लिए भी एक बड़ी उपलब्धि है.

Source: https://www.batangad.com/7-unique-facts-about-unesco-world-heritage-ramappa-rudreshwara-temple-telangana/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

जोधपुरस्य सर्वकारी विद्यालये हिजाब धारणे संलग्ना: छात्रा: ! जोधपुर के सरकारी स्कूल में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राएँ !

राजस्थानस्य जोधपुरे हिजाब इतम् गृहीत्वा प्रश्नं अभवत् ! सर्वकारी विद्यालये छात्रा: हिजाब धारणे गृहीत्वा संलग्नवत्य:, तु तेषां परिजना:...

मेलकम् दर्शनमगच्छन् हिंदू महिला: शमीम: सदरुद्दीन: चताडताम्, उदरे अकुर्वताम् पादघातम् ! मेला देखने गईं हिन्दू महिलाओं को शमीम और सदरुद्दीन ने पीटा, पेट पर...

उत्तरप्रदेशस्य फर्रुखाबाद जनपदे एकः हिंदू युवके, तस्य मातरि भगिन्यां च् घातस्य वार्ता अस्ति ! घातस्यारोपम् शमीमेण सदरुद्दीनेण च्...

हल्द्वानी हिंसायां आहूय-आहूय हिंदू वार्ताहरेषु अभवन् घातम् ! ऑपइंडिया इत्यस्य ग्राउंड सूचनायां रहस्योद्घाटनम् ! हल्द्वानी हिंसा में चुन-चुन कर हिंदू पत्रकारों पर हुआ हमला...

उत्तराखंडस्य हल्द्वानी हिंसायां उत्पातकाः आरक्षक प्रशासनस्यातिरिक्तं घटनायाः रिपोर्टिंग कुर्वन्ति हिंदू वार्ताहरानपि स्वलक्ष्यमकुर्वन् स्म ! ते आहूय-आहूय वार्ताहरेषु घातमकुर्वन्...

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्,...