वैश्विक हिताय हिंदुत्व सम्मेलनस्य एक तः त्रय अक्टूबरस्य मध्यायोजनस्याभवत् शुभारंभ ! वैश्विक हित के लिए हिन्दुत्व कांफ्रेंस का एक से तीन अक्टूबर के बीच आयोजन का हुआ शुभारंभ !

0
474

हिंदुत्वस्य विरुद्धम् विश्वे भ्रांतिपूर्ण प्रचारस्याभियान डिस्मेंटलिंग ग्लोबल हिंदुत्वस्य निरस्तं ! तत्रैव द्वितीयं प्रतीतम् नव प्रेरणाम् जन्मम् दत्त:, यत् विश्वम् हिन्दुत्वस्य सकारात्मकं जगहितैषीम् वास्तविक स्वरूपम् संमुखमानीतुमिच्छति !

हिन्दूत्व के खिलाफ दुनिया में भ्रांतिपूर्ण प्रचार की मुहिम डिस्मेंटलिंग ग्लोबल हिन्दुत्व की हवा निकल चुकी है ! वहीं दूसरी ओर इसने नई प्रेरणा को जन्म दिया है, जो दुनिया को हिन्दुत्व के सकारात्मक और जगहितैषी असल स्वरूप को सामने लाना चाहती है !

कार्यक्रम का मूल मंत्र है, निरपेक्षो निर्विकारो निर्भरः शीतलाशयः ! अगाधबुद्धिरक्षुब्धो भव चिन्मात्रवासन: ! अर्थात आप इच्छारहित, विकाररहित, घन (ठोस), शीतलता के धाम, अगाध बुद्धिमान हैं, शांत होकर केवल चैतन्य की इच्छा वाले हो जाइये !

अस्यैव क्रमे हिंदुत्व फॉर ग्लोबल गुड ( वैश्विक हिताय हिदुत्वम्) सम्मेलनस्याद्यतः शुभारंभमभवत्, यस्यारंभ डॉ सत पाराशर: राष्ट्रहितस्य कामनाम् प्रकटकर्ता मंत्रेण कृतः !

इसी क्रम में हिंदुत्व फॉर ग्लोबल गुड (वैश्विक हित के लिए हिन्दुत्व) कांफ्रेंस का आज से शुभारंभ हुआ, जिसकी शुरुआत डॉ सत पाराशर ने राष्ट्रहित की कामना को प्रकट करने वाले मन्त्र से की !

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयः सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद दुःख भाग भवेत्, अर्थात सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े !

यस्योपरांत डॉ पराशर महोदयः यत् आईआईएम इंदौर, मध्यप्रदेशस्य निदेशक: रमित: सः कार्यक्रमस्य रूपरेखायाः वर्णनम् कृतमानः कथित:, सम्मेलने त्र्याणि दिवसानि २० पलस्य षड्-षड् सत्राणि भविष्यति ! येषु हिदुत्वेण संलग्नम् भ्रांतिन: सत्यता च्, विश्व शांति पर्यावरण संरक्षणाय हिंदुत्व !

इसके उपरांत डॉ पराशर जी जो आईआईएम इंदौर, मध्य प्रदेश के निदेशक रह चुके हैं उन्होंने कार्यक्रम की रूपरेखा का वर्णन करते हुए कहा, कांफ्रेंस में तीन दिन 20 मिनट के छह-छह सत्र होंगे ! इनमें हिन्दुत्व से जुड़ी भ्रांतियां और सच्चाई, विश्व शांति, पर्यावरण भलाई के लिए हिन्दुत्व !

गर्वम् करोतु हिन्दुत्वे, विदेशी मीडिया इत्ये हिन्दुत्वस्य विरुद्धम् दुष्प्रचारम्, वैदिक ज्ञानम् ! राम: हिन्दुत्वस्य सहनशीलतायाः प्रतीकं, शत्रुतापूर्ण काले हिन्दुत्वस्य सहनशीलताम् हिंदुत्व मानवतायाः एकतायाः सूत्रधारम् यथा विषयम् रमिष्यन्ति !

गर्व करो हिन्दुत्व पर, विदेशी मीडिया में हिन्दुत्व के खिलाफ दुष्प्रचार, वैदिक ज्ञान ! राम हिन्दुत्व की सहनशीलता के प्रतीक, शत्रुतापूर्ण महौल में हिन्दुत्व की सहनशीलता और हिन्दुत्व मानवता की एकता का सूत्रधार जैसे विषय रहेंगे !

डॉ पराशर: ज्ञापित: प्रथम दिवसम् षड् जनाः वक्ता भविष्यन्ति, येषु डॉ सुजाता त्रिपाठी, लालबहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, डॉ संगीत रागी, प्रवक्ता, दिल्ली विश्वविद्यालय, प्रणय कुमार: वार्ताकार:, रतन शर्मा वार्ताकार: !

डॉ पराशर ने बताया प्रथम दिवस 6 लोग वक्ता होंगे, जिनमें डॉ सुजाता त्रिपाठी, लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, डॉ संगीत रागी, प्रोफेसर, दिल्ली विश्वविद्यालय, प्रणय कुमार पत्रकार, रतन शर्मा पत्रकार !

डॉ चंदन उपाध्याय: प्रवक्ता बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, संदीप सिंह: मीडिया समीक्षक: भविष्यन्ति ! द्वितीय दिवसं प्रो मिलिंद महोदयः ऑस्ट्रेलिया, आदित्य सत्संगी, संस्थापक अमेरिकन फॉर हिन्दूज, अवनीश कुमार सिंह: शैक्षिक नेता !

डॉ चंदन उपाध्याय, प्रोफेसर, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, संदीप सिंह मीडिया समीक्षक होंगे ! द्वितीय दिवस प्रो मिलिंद जी ऑस्ट्रेलिया, आदित्य सत्संगी, संस्थापक, अमेरिकन फॉर हिन्दुज, अवनीश कुमार सिंह शैक्षिक नेता !

पंकज जायसवाल: शिक्षण क्षेत्रम्, प्रो मिनी श्रीवास्तव, डॉ के परमेश्वरन्:, प्राध्यापक: गुजरात कायदा राष्ट्रीय विश्विद्यालयं भविष्यन्ति, तृतीय दिवसं शान्तनु गुप्ता सामाजिक कार्यकर्ता, दीपेन मित्रा विश्व हिंदू संगठन बांग्लादेशम्, डॉ ओमेंद्र रत्नू चिकित्सक: जयपुर, राजस्थानम् !

पंकज जायसवाल शिक्षण क्षेत्र, प्रो मिनी श्रीवास्तव,
डॉ के परमेश्वरन्, प्राध्यापक, गुजरात कायदा राष्ट्रीय विश्वविद्यालय होंगे, तृतीय दिवस शान्तनु गुप्ता सामाजिक कार्यकर्ता, दीपेन मित्रा विश्व हिंदू संगठन बांग्लादेश, डॉ ओमेंद्र रत्नू, चिकित्सक जयपुर, राजस्थान !

रोहन अग्रवाल: जयपान विशेषज्ञ:, स्वामी सच्चिदानंद: हिंदू धर्मगुरु भविष्यन्ति ! डॉ पराशर: कथित: तत इमे सर्वा: वक्ता: स्व स्व कार्यक्षेत्रस्य विशेषज्ञ: सन्ति !

रोहन अग्रवाल जापान विशेषज्ञ, स्वामी सच्चिदानंद हिन्दू धर्मगुरु होंगे ! डॉ पराशर ने कहा कि यह सभी वक्ता अपने अपने कार्यक्षेत्र के विशेषज्ञ हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here