अमित शाह: बदित:, मानः सम्मान: एवं स्वाभिमान: ददाति हिंदी, पीएम देशवासिन् दत्त: शुभाषय: ! अमित शाह बोले, मान, सम्मान एवं स्वभिमान देती है हिंदी, PM ने देशवासियों को दी शुभकामनाएं !

0
240

ट्रयूनिकल परिवार की ओर से देशवासियों को हिंदी दिवस की आत्मीय शुभकामना !
मत कर भारत चिंदी तुझे हिंदी मिलेगी !
सूर कबीर तुलसी जैसी बिंदी मिलेगी !!

हिंदी दिवसस्यावसरे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह: देशवासिन् संबोधित: ! स्व इति संबोधने शाह: राजभाषा हिंद्या: क्षेत्रीय भाषानां महत्वस्योल्लेखम् कृतः !

हिंदी दिवस के मौके पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने देशवासियों को संबोधित किया ! अपने इस संबोधन में शाह ने राजभाषा हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं के महत्व का जिक्र किया !

गृहमंत्री कथित: तत मातृभाषायाः विकासम् विना देशस्य विकासम् संभवम् नास्ति ! हिंद्या: क्षेत्रीय भाषाणां मध्य सेतु निर्मणीयम् यद्यपि द्वितीय भाषाणां श्रेष्ठ साहित्यम् जनान् पठनम् ळब्धम् !

गृह मंत्री ने कहा कि मातृ भाषा के विकास के बिना देश का विकास संभव नहीं है ! हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं के एक बीच सेतु बनाया जाना चाहिए ताकि दूसरे भाषाओं का श्रेष्ठ साहित्य लोगों को पढ़ने को मिले !

हिंदी दिवसस्यावसरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: देशवासिन् बधाई दत्त: ! पीएम स्व ट्वीते कथित: तत सर्वानां प्रयासानां चरतैव हिंदी विश्वपटलम् सततं स्व स्पष्ट परिचयं ददाति !

हिंदी दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को बधाई दी है ! पीएम ने अपने ट्वीट में कहा कि सभी के प्रयासों के चलते ही हिंदी विश्व पटल अपनी लगातार अपनी मजबूत छाप छोड़ रही है !

गृहमंत्री कथित: हिंदीभाषास्माभिः मानः, सम्मान: एवं स्वाभिमान: प्रदानम् करोति ! आधुनिक हिंद्या: पितामह कथक: भारतेंदु हरिश्चंद्र महोदयः कथित: तत मातृभाषायाः विकासम् विना कश्चितापि सामजस्योन्नतिम् संभवम् नास्ति !

गृह मंत्री ने कहा हिंदी भाषा हमें मान, सम्मान एवं स्वभिमान प्रदान करती है ! आधुनिक हिंदी के पितामह कहे जाने वाले भारतेंदु हरिश्चंद्र जी ने कहा है कि मातृ भाषा के विकास के बिना किसी भी समाज की उन्नति संभव नहीं है !

हिंद्या: विकासभारतस्य क्षेत्रीय भाषाभि: सहाभवत् ! एतेषु सर्वेषु भाषासु भारतीय संस्कृत्या: मृत्तिकायाः वासमागच्छति ! इदमावश्यकमस्ति तत क्षेत्रीय भाषाणां संरक्षणम्, संवर्धनम् विकासम् च् करणीयम् !

हिंदी का विकास भारत की क्षेत्रीय भाषाओं के साथ हुआ है ! इन सभी भाषाओं में भारतीय संस्कृति की मिट्टी की खूशबू आती है ! यह जरूरी है कि क्षेत्रीय भाषाओं का संरक्षण, संवर्धन और विकास किया जाना चाहिए !

एतानां क्षेत्रीय भाषानां एवं हिंद्या: मध्य एक: सेतु निर्माणस्यावश्यक्तामस्ति ! यस्मात् भारतीय साहित्य संवृद्धम् भविष्यति ! यस्मात् देशस्य भाषारूपी एवं राष्ट्रीयैकता अतिबलवती भविष्यति !

इन क्षेत्रीय भाषाओं एवं हिंदी के बीच एक सेतु बनाने की जरूरत है ! इससे भारतीय साहित्य संवृद्ध होगा। इससे देश की भाषाई एवं राष्ट्रीय एकता और मजबूत होगी !

प्रधानमंत्री स्वबधाई संदेशे कथित: भवतः सर्वान् हिंदी दिवसस्य बहु बहु बधाई ! हिंदीम् एकं सक्षमम् समर्थम् च् भाषा निर्माणे भिन्न-भिन्न क्षेत्राणां जनाः उल्लेखनीय भूमिका निर्वहताः !

प्रधानमंत्री ने अपने बधाई संदेश में कहा आप सभी को हिन्दी दिवस की ढेरों बधाई ! हिन्दी को एक सक्षम और समर्थ भाषा बनाने में अलग-अलग क्षेत्रों के लोगों ने उल्लेखनीय भूमिका निभाई है !

इदम् भवतानां सर्वानां प्रयासानां परिणाममस्ति तत वैश्विक मंचे हिंदी सततं स्व स्पष्टम् परिचयं निर्मीति !

यह आप सबके प्रयासों का ही परिणाम है कि वैश्विक मंच पर हिन्दी लगातार अपनी मजबूत पहचान बना रही है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here