यदि कांग्रेसम् सत्तायामागतम् तदानुच्छेद ३७० इतम् निरस्तस्य निर्णये कारिष्यति पुनर्विचारं- दिग्विजय सिंह: ! अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो आर्टिकल 370 को निरस्त करने के फैसले पर करेंगे पुनर्विचार- दिग्विजय सिंह !

0
322

एकं परिघातनगृहम् वार्तायाः कालम् पकिस्तानी वार्ताकारै: सह वार्तालापे कांग्रेस दलस्य वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह: कथितरूपे कथितः तत यदि कांग्रेस केंद्रस्य सत्तायामागच्छति, तदा सः जम्मू-कश्मीरे अनुच्छेद ३७० इतम् निरस्तस्य निर्णये पुनर्विचारं करिष्यति !

एक क्लब हाउस चैट के दौरान पाकिस्तानी पत्रकार के साथ बातचीत में कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कथित तौर पर कहा है कि अगर कांग्रेस केंद्र की सत्ता में आती है, तो वह जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के फैसले पर पुनर्विचार करेगी !

कथित वार्ताम् भाजपा नेतु: भाजपा आईटी सेल इत्यस्य च् प्रमुखः अमित मालवीय: ट्वितरे प्रस्तुत: !

कथित चैट को भाजपा नेता और बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्विटर पर जारी किया !

सः ट्वीत कृतमानः कथितः परिघातनगृहम् वार्तायाम्, राहुल गांधिण: शीर्ष सह्योगिम् दिग्विजय सिंह: एकम् पकिस्तानिम् वार्ताकारेण कथ्यति तत यदि कांग्रेस सत्तायामागच्छति तदा ते अनुच्छेद ३७० इतम् निरस्तस्य निर्णये पुनर्विचार करिष्यन्ति ! वास्तवे ? इदमेव तदा पकिस्तान इच्छति !

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा क्लब हाउस चैट में, राहुल गांधी के शीर्ष सहयोगी दिग्विजय सिंह एक पाकिस्तानी पत्रकार से कहते हैं कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो वे अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के फैसले पर पुनर्विचार करेंगे ! वाकई में ? यही तो पाकिस्तान चाहता है !

प्रसृतं भवितं परिघातनगृहम् वार्तायां दिग्विजय सिंह: कथ्यति, यदा तै: कश्मीरात् अनुच्छेद ३७० निर्वर्तितं तदा तत्र लोकतंत्रं नासीत्, तत्र मानवतापि नासीत् कुत्रचित प्रत्येकम् कारागारस्य पश्च प्रेषितमासीत् !

वायरल हो रही क्लबहाउस चैट में दिग्वजिय सिंह कहते हैं, जब उन्होंने कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया तो वहां लोकतत्र नहीं था, वहां इंसानियत भी नहीं थी क्योंकि हर किसी को जेल के पीछे डाल दिया गया था !

कश्मीरियत इति धर्मनिरपेक्षतायाः जड़मस्ति ! एके मुस्लिम बहुल राज्ये एकः हिंदू नृपः आसीत् द्वयो एकेन सह कार्यम् करोति स्म ! कश्मीरे कश्मीरी ब्राह्मणान् सर्वकारी सेवाषु आरक्षणं दत्तम् स्म !

कश्मीरियत धर्मनिरपेक्षता की बुनियाद है ! एक मुस्लिम बहुल राज्य में एक हिंदू राजा था और दोनों एक साथ काम करते थे ! कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को सरकारी सेवाओं में आरक्षण दिया गया था !

अनुच्छेद ३७० इतम् निरस्तस्य जम्मू-कश्मीरस्य च् राज्यस्य स्थानम् न्यूनस्य निर्णयम् अतीव दुःखद निर्णयमस्ति कांग्रेस दलम् च् निश्चित रूपेणास्य प्रकरणेषु पुनः विचार्तुम् भविष्यति !

अनुच्छेद 370 को रद्द करने और जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा कम करने का निर्णय अत्यंत दुखद निर्णय है और कांग्रेस पार्टी को निश्चित रूप से इस मुद्दे पर फिर से विचार करना होगा !

दिग्विजय सिंहस्य कथितप्रसृतः वार्ता प्रतिक्रिया व्यक्तमानः, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह: ट्वीत कृत्वा कथितः कांग्रेसस्य प्रथम प्रीति पकिस्तानं अस्ति !

दिग्विजय सिंह के कथित वायरल चैट प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट करके कहा कांग्रेस का पहला प्यार पाकिस्तान है !

दिग्विजय सिंह: राहुल गांधिण: संदेशम् पकिस्तानैव दत्त: ! कांग्रेस कश्मीरं अधिग्रहणे पकिस्तानस्य सहाय्य करिष्यति !

दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी का संदेश पाकिस्तान तक पहुंचाया है ! कांग्रेस कश्मीर को हथियाने में पाकिस्तान की मदद करेगी !

भवन्तः ज्ञापयन्तु तत केंद्रे पीएम मोदिण: नेतृत्वं सर्वकार: ६ अगस्त, २०१९ तमम् भारतस्य संविधानस्यानुच्छेद ३७० इतम् निरस्तं कृतवान यस्य बाह्य जम्मूम् कश्मीरं च् द्वयो केंद्रशासित प्रदेशयो विभाजितं कृतः स्म ! जम्मू-कश्मीरस्य लद्दाखस्य च् केंद्र शासित प्रदेशम् निर्मित: स्म !

आपको बता दें कि केंद्र में पीएम मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने 6 अगस्त, 2019 को भारत के संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया था जिसके बाहर जम्मू और कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था ! जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बना दिया था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here