21.1 C
New Delhi

जयपुरे रोहिंग्या शरणार्थि अप्रमाणिताभिलेखेण निर्मित: पारपत्रम्, सऊदी अरबस्य यात्रामपि कृत: ! जयपुर में रोहिंग्या शरणार्थी ने फर्जी दस्तावेज से बनवाया पासपोर्ट, सऊदी अरब की यात्रा भी की !

Date:

Share post:

देशस्य बाह्यतः आगत: शरणार्थिन् नागरिकता दत्तस्य प्रकरणस्य मध्य राजस्थानतः वृहद प्रकरण संमुखमागतवान ! अत्र एकं रोहिंग्या शरणार्थिम् संपूर्ण तन्त्रे इव प्रश्नमोद्तिष्ठितं !

देश के बाहर से आए शरणार्थियों को नागरिकता देने के मसले के बीच राजस्थान से बड़ा मामला सामने आया है ! यहां एक रोहिंग्या शरणार्थी ने पूरे सिस्टम पर ही सवाल खड़ा कर दिया है !

तस्य विरुद्धम् राजस्थानस्य राजधानी जयपुरे लुण्ठनेण सह बहु प्रकरणेषु अभियोगम् पंजीकृत: ! जयपुरारक्षकम् लगभगम् विंशति मासानामनंतरम् ज्ञातमभवत् सः अप्रमाणित अभिलेखं तत्परित्वा पारपत्रं निर्मित: !

उसके खिलाफ राजस्थान की राजधानी जयपुर में ठगी समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है ! जयपुर पुलिस को करीब बीस महीने के बाद पता चला उसने फर्जी दस्तावेज तैयार कर पासपोर्ट बनवा लिया !

इति पारपत्रस्य सहाय्येन सः सऊदी अरबस्य यात्राम् कृत्वापि पुनरागत: ! तस्यागमनस्य विंशति मासानामनंतरम् सम्प्रति तस्य विरुद्धम् अभियोगम् पंजीकृत: ! गम्भीर्य प्रकरणस्य कारणमारक्षकमुख्यालयेण गृहविभागमपि अस्याभिज्ञानम् दत्तम् !

इस पासपोर्ट की मदद से वह सउदी अरब की यात्रा करके लौट भी आया ! उसके आने के बीस महीने के बाद अब उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है ! गंभीर मामला होने के चलते पुलिस मुख्यालय के जरिए गृह विभाग को भी इसकी जानकारी दी गई है !

जयपुर एसएचओ पृथ्वीपालस्यानुसारम् रोहिंग्या रोहिंग्या शरणार्थि मोहम्मद सुल्तान: तस्य पारपत्रे सः स्वं हसनपुरा क्षेत्रस्य बदित: !

जयपुर एसएचओ पृथ्वीपाल के अनुसार रोहिंग्या शरणार्थी मोहम्मद सुल्तान उसके पासपोर्ट में उसने खुद को हसनपुरा क्षेत्र का बताया है !

सुल्तान: अप्रमाणिताभिलेखानि यथा, परिचय पत्रेण, आधारपत्रेण, मतदानपत्रेण सहान्य सर्वकारी अभिलेखानां सहाय्येण अप्रमाणित पारपत्रमेव निर्मयत: ! अस्य वैधता वर्षम् २०१४ वर्षतः गृहित्वा २०२४ तमेवासीत् !

सुल्तान ने फर्जी दस्तावेजों जैसे पहचान पत्र, आधार कार्ड, वोटिंग कार्ड समेत अन्य सरकारी दस्तावेजों की मदद से फर्जी पासपोर्ट तक बनवा लिया ! इसकी वैधता साल 2014 से लेकर 2024 तक थी !

अस्य पारपत्रेण सः वर्ष २०१९ तमे जनवरी मासे सऊदी अरबं गतवान तैव वर्षम् सितंबर मासे पुनः भारतागतः ! द्वयो काले तस्य पारपत्रं निरक्षिते, तु यं प्रत्ये कश्चितमपि ज्ञानम् नाभवन् तत पारपत्रं कूटमस्ति !

इस पासपोर्ट के जरिए वह साल 2019 में जनवरी महीने में सउदी अरब गया और उसी साल सितंबर महीने में वापस भारत लौटा ! दोनों समय उसका पासपोर्ट चैक किया गया, लेकिन इस बारे में किसी को भी पता नहीं चल सका वह पासपोर्ट जाली है !

अनंतरे लगभगम् विंशति मासानां आरक्षकस्य अन्वेषणे संमुखमागतः तत पारपत्रं कूटमासीत् अप्रमाणिताभिलेखै: तेन निर्मयत: स्म ! सम्प्रति तस्य विरुद्धम् आईपीसी सेक्शन ४२०, ४६७, ४६८, ४७१, १२०बी इत्यस्य चनुरूपमभियोगम् पंजीकृत: ! वर्तमाने सुल्तान: करणी विहार क्षेत्रे न्यवसति !

बाद में करीब बीस महीने की पुलिस जांच में सामने आया है वह पासपोर्ट जाली था और फर्जी दस्तावेजों के जरिए उसे बनवाया गया था ! अब उसके खिलाफ आईपीसी सेक्शन 420, 467, 468, 471 और 120 बी के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है ! वर्तमान में सुल्तान करणी विहार क्षेत्र में रह रहा है !

दृष्टिगतास्ति तत पूर्व मासमेव देशस्य गृहमंत्री अमित शाह: देशे आगताः शरणार्थिन् वैध अभिलेखं दत्तस्य वार्ता कथितः स्म ! इति प्रकरणस्यानंतरम् देशस्य सर्वेषु राज्येषु शरणार्थिन् प्रति गुप्ताभिज्ञानम् संग्रहितं कर्तुम् आरंभितानि !

गौरतलब है कि पिछले महीने ही देश के गृह मंत्री अमित शाह ने देश में आए शरणार्थियों को वैध दस्तावेज देने की बात कही थी ! इस मामले के बाद देश के सभी राज्यों में शरणार्थियों के बारे में गुप्त जानकारी जुटाना शुरू कर दिया गया है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

अंकुरस्य प्रीतौ सबाभवत् सोनी ! अंकुर के प्यार में सबा बन गई सोनी !

उत्तर प्रदेशस्य बरेल्यां सबा बी नामक बालिका हिंदू बालक: अंकुर देवलतः पाणिग्रहण कर्तुं पुनः गृहमागतवती ! सम्प्रति सा...

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया