असमे मदरसानि सम्प्रति सरकारी सहयोगम् न, प्रस्तुताभव्यते विधेयकम् ! असम में मदरसों को अब सरकारी मदद नहीं, पेश हो गया विधेयक !

0
325

असम कैबिनेट इति सर्वाणि सरकारी मदरसानि संस्कृत विद्यालयानि निरूधस्य प्रस्तावम् पूर्वेव सहमतिम् अददात् स्म सम्प्रति इति संबंधे विधेयक अद्य विधानसभायाम् प्रस्तुतमाक्रियते !

असम कैबिनेट ने सभी सरकारी मदरसों और संस्कृत स्कूलों को बंद करने के प्रस्ताव को पहले ही मंजूरी दे दी थी अब इस संबध में विधेयक आज विधानसभा में पेश किया गया !

मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा: अकथयत् तत विधानसभायाम् मदरसानि गृहित्वा विधेयक प्रस्तुताभवत् इति विधेयकस्य पार्श्व भवस्य अनन्तरं असमे सरकारी मदरसानां संचालनम् निरूधम् भविष्यते !

मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा कि विधानसभा में मदरसों को लेकर विधेयक पेश हुआ इस विधेयक के पास होने के बाद असम में सरकारी मदरसों का संचालन बंद हो जाएगा !

असम विधानसभायाः शीतकालीन सत्र २८ दिसबंर तः आरम्भयते,मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवालस्य अध्यक्षतायां अभवत् कैबिनेट इत्यस्य सभायाः कालम् सरकारी मदरसानि संस्कृत विद्यालयानि च् निरूधस्य निर्णयम् अग्रिह्यते स्म !

असम विधानसभा का शीतकालीन सत्र 28 दिसंबर से शुरू हुआ है,मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक के दौरान सरकारी मदरसों और संस्कृत स्कूलों को बंद करने का निर्णय लिया गया था !

सरमा: अकथयत् वयं एकम् विधेयकम् प्रस्तुत कृतवान यस्य अनुरूपम् सर्वाणि मदरसानि सामान्य शिक्षण संस्थानेषु परिवर्तिष्यते भविष्ये च् सरकारेण कश्चित मदरसा इति स्थापित न करिष्यते !

सरमा ने कहा हमने एक विधेयक पेश किया है जिसके तहत सभी मदरसों को सामान्य शिक्षण संस्थानों में बदल दिया जाएगा और भविष्य में सरकार द्वारा कोई मदरसा स्थापित नहीं किया जाएगा !

वयं शिक्षा प्रणालीयाम् वास्तवे धर्मनिरपेक्ष पाठ्यक्रम आनयतुम् इति विधेयकम् प्रस्तुत कृतं गृहित्वा प्रसन्नम् सन्ति !

हम शिक्षा प्रणाली में वास्तव में धर्मनिरपेक्ष पाठ्यक्रम लाने के लिए इस विधेयक को पेश करने को लेकर प्रसन्न हैं !

शिक्षामंत्री हेमंत बिस्वा सरमा: अक्टूबर इत्ये अकथयत् स्म तत असमे ६१० सरकारी मदरसानि सन्ति सरकार: च् एते संस्थानेषु प्रति वर्ष: २६० कोटि रूप्यकानि व्ययम् करोति ! सः अकथयत् स्म तत राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड इति असमम् भंगम् कृतदाष्यते !

शिक्षा मंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने अक्टूबर में कहा था कि असम में 610 सरकारी मदरसे हैं और सरकार इन संस्थानों पर प्रति वर्ष 260 करोड़ रुपये खर्च करती है ! उन्होंने कहा था कि राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड असम को भंग कर दिया जाएगा !

मंत्री: अकथयत् स्म सर्वाणि सरकारी मदरसानि उच्च विद्यालयेषु परिवर्तनं कृतदाष्यते वर्तमान छात्रेभ्यः च् नव नामांकन नियमित छात्राणां भांति भविष्यति !

मंत्री ने कहा था कि सभी सरकारी मदरसे को उच्च विद्यालयों में तब्दील कर दिया जाएगा और वर्तमान छात्रों के लिए नया नामांकन नियमित छात्रों की तरह होगा !

सरमायाः अनुरूपम् संस्कृत विद्यालयानि कुमार भास्कर वर्मा संस्कृत प्राचीन अध्ययन च् विश्वविद्यालयं प्रदाष्यते !

सरमा के मुताबिक संस्कृत स्कूलों को कुमार भास्कर वर्मा संस्कृत और प्राचीन अध्ययन विश्वविद्यालय को सौंप दिया जाएगा !

सः अकथयत् स्म तत संस्कृत विद्यालयाणां संरचनायाः प्रयोगम् तेन भारतीय संस्कृतियाः, सभ्यतायाः राष्ट्रवादस्य च् शिक्षण शोधन च् केन्द्राणां भांति करिष्यते !

उन्होंने कहा था कि संस्कृत स्कूलों के ढांचे का इस्तेमाल उन्हें भारतीय संस्कृति,सभ्यता और राष्ट्रवाद के शिक्षण एवं शोधन केंद्रों की तरह किया जाएगा !

भाजपाया: वरिष्ट नेता विधानसभाया: उपाध्यक्ष च् अमीनुल हक लश्कर: अकथयत् स्म तत स्वायत्त मदरसानि निरूधम् न करिष्यते !

भाजपा के वरिष्ट नेता और विधानसभा के उपाध्यक्ष अमीनुल हक लश्कर ने कहा था कि निजी मदरसों को बंद नहीं किया जाएगा !

लश्कर: नवंबर इत्ये कछार जनपदे एकस्य मदरसायाः आधारशिला धृतमानः अकथयत् स्म,एते (स्वायत्त) मदरसानि निरूधम् न करिष्यते कुत्रचित येन मुस्लिमानि जीवितं धारयतैस्ति !

लश्कर ने नवंबर में कछार जिले में एक मदरसे की आधारशिला रखते हुए कहा था,इन (निजी) मदरसों को बंद नहीं किया जाएगा क्योंकि इन्होंने मुस्लिमों को जिंदा रखा है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here