24 C
New Delhi

राहुल गांधिण: दृढ़कथनं, कोविडेण गुजराते त्रयाणां लक्षाणां जनानां अभवत् निधनानि ! राहुल गांधी का दावा, कोविड से गुजरात में 3 लाख लोगों की हो चुकी है मौत !

Date:

Share post:

किं गुजराते कोविडेण त्रयाणां लक्षाणां जनाः निधनं अभवत् ! इदम् प्रश्नं येनकारणमस्ति कुत्रचित् कांग्रेस सांसद राहुल गांधी दृढ़कथनं कृतवान ! तस्य कथनं अस्ति तत कोरोनाया भयावह रूपं गुजरातस्य जनाः दर्शितं ! कोविडस्य कारणम् मृतकानां संख्या त्र्याणि लक्षाणि अस्ति !

क्या गुजरात में कोविड से तीन लाख लोग जान गंवा चुके हैं ! यह सवाल इसलिए है क्योंकि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने दावा किया है ! उनका कहना है कि कोरोना का भयावह रूप गुजरात के लोगों ने देखा है ! कोविड की वजह से जान गंवाने वालों की संख्या तीन लाख है !

स्व आंकड़ानां समर्थने सः कांग्रेस कार्यकर्ताभि: धरा स्तरीय सूचनानां उल्लेखम् कृतवान ! राहुल गांधिण: इति कथनस्यानंतरम् राजनीतिक क्षेत्रे प्रतिक्रिया उत्थितं स्वाभाविकमस्ति ! राहुल गांधी कथित: तत ओमिक्रोनस्य संकटम् गृहीत्वा सर्वकारम् अति संवेदनशीलम् अति सक्रियम् रमस्यावश्यकतामस्ति !

अपने आंकड़े के समर्थन में उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा ग्राउंड रिपोर्टिंग का जिक्र किया ! राहुल गांधी के इस बयान के बाद राजनीतिक हल्के में प्रतिक्रिया उठनी स्वाभाविक है ! राहुल गांधी ने कहा कि ओमिक्रॉन के खतरे को लेकर सरकार को और संवेदनशील और सक्रिय रहने की जरूरत है !

भारतं ओमिक्रोनस्य द्वयोप्रकरणयो पुष्टिम् कृतं, विश्व स्वास्थ्य संगठनमद्य कथितं तत दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्रस्य देशान् विषाणु यस्यच् प्रकाराणांप्रसारं न्यूनाय कोविड-१९ प्रतिक्रिया उपायान् अति दृढ़ करणीयं !

भारत ने ओमिक्रॉन के दो मामलों की पुष्टि की, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आज कहा कि दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र के देशों को वायरस और इसके प्रकारों के प्रसार को कम करने के लिए COVID-19 प्रतिक्रिया उपायों को और मजबूत करना चाहिए !

कश्चितापि नव संस्करणस्यायात वर्तमान च् विषाणु तस्यच् रूपानां संचरणस्य तीव्रतायाज्ञाताय निरीक्षणं दृढ़कृतम्, डब्ल्यूएचओ दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्रस्य क्षेत्रीय निदेशक: डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह कथिता, कैलिब्रेटेड सार्वजनिक स्वास्थ्य सामाजिक उपायान् च् प्रारंभ कर्तुम् टीकाकरण वृद्धिम् च् बर्धने अस्माकं ध्यानकेंद्रितम् भवनीयं !

किसी भी नए संस्करण के आयात और मौजूदा वायरस और उसके रूपों के संचरण का तेजी से पता लगाने के लिए निगरानी को मजबूत करना, डब्ल्यूएचओ दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र की क्षेत्रीय निदेशक डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा, कैलिब्रेटेड सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को लागू करने और टीकाकरण कवरेज को बढ़ाने पर हमारा ध्यान केंद्रित होना चाहिए !

चिंतायाः एकस्य नवरूपस्य रूपे ओमिक्रोनस्य घोषणायाः एकस्य सप्ताहस्याभ्यांतरम्, भारतं श्व कोविड-१९ इत्येनसह ळब्धुं द्वयोजनयो संस्करणस्य पुष्टिम् कृतं, डब्ल्यूएचओ दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्रे पूर्व केचन प्रकरणानि !

चिंता के एक नए रूप के रूप में ओमिक्रॉन की घोषणा के एक सप्ताह के भीतर, भारत ने कल COVID-19 के साथ पाए गए दो व्यक्तियों में संस्करण की पुष्टि की, WHO दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र में पहले कुछ मामले !

ओमिक्रोनस्य संप्रेषणीयतायाः, गम्भीर्यतायाः पुनः संक्रमणस्यात्ययः, प्रतिरक्षाया सुरक्षाया क्षमताम्, नैदानिक प्रस्तुतिं, अन्योपलब्धम् प्रति-उपायान् प्रति प्रतिक्रिया इत्यादयस्य मुल्यांकनाय अध्ययनम् चरन्ति !

ओमिक्रॉन की संप्रेषणीयता, गंभीरता, पुन: संक्रमण के जोखिम, प्रतिरक्षा से बचने की क्षमता, नैदानिक ​​प्रस्तुति, अन्य उपलब्ध प्रति-उपायों के प्रति प्रतिक्रिया आदि का मूल्यांकन करने के लिए अध्ययन चल रहे हैं !

प्रारंभिक साक्ष्योच्च संप्रेषणक्षमतायाः संभावित प्रतिरक्षा पलायनस्य च् उपदेशम् ददान्ति यस्मात् प्रकरणेषु वृद्धिम् भवितुम् शक्नोति ! गम्भीर्यतायां परिवर्तनस्य उपरांत, एकल प्रकरणेषु वृद्धिम् स्वास्थ्य संरक्षण प्रणालीषु बहु याचनां उत्पादितुम् शक्नोति यस्मात् च् रुग्णतायां मृत्यु दरे च् वृद्धिम् भवितुम् शक्नोति !

प्रारंभिक साक्ष्य उच्च संप्रेषण क्षमता और संभावित प्रतिरक्षा पलायन का सुझाव देते हैं जिससे मामलों में वृद्धि हो सकती है ! गंभीरता में बदलाव के बावजूद, अकेले मामलों में वृद्धि स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों पर भारी मांग पैदा कर सकती है और इससे रुग्णता और मृत्यु दर में वृद्धि हो सकती है !

क्षेत्रीय निदेशक: कथित: तत बर्धितं निरीक्षणस्य अंशस्य रूपे, देशान् इदम् सुनिश्चितस्यावश्यकताम् अस्ति तत तस्य पार्श्व बहु संकेतकानि यथा तत प्रकरणेषु तीव्रताया वृद्धिं परीक्षणं च् सकारात्मकता दराभ्यां निर्मितं प्रारंभिक चेतन् प्रणालिमस्ति !

क्षेत्रीय निदेशक ने कहा कि बढ़ी हुई निगरानी के हिस्से के रूप में, देशों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि उनके पास कई संकेतकों जैसे कि मामलों में तेजी से वृद्धि और परीक्षण सकारात्मकता दर से बना प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली है !

आमस्य गम्भीर्यतायां स्वास्थ्य परिचर्या प्रणालिषु भारेण संबंधितसंकेतकानां निरीक्षणमपि महत्वपूर्णं अस्ति-यथा रुग्णकक्षाणि गम्भीर्य परिचर्या क्षेत्रेषु च् शय्यायां रमितं ! घटनाधारितं निरीक्षणं बर्धनीयं यथा स्वास्थ्य सौविध्येषु समुदायेषु च् प्रकोपानां तीव्रताया प्रसारम् यत् एकेन इदृशं प्रकारेण आरंभितुम् शक्नोति !

रोग की गंभीरता और स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों पर दबाव से संबंधित संकेतकों की निगरानी करना भी महत्वपूर्ण है-जैसे वार्डों और गहन देखभाल इकाइयों में बिस्तर पर रहना ! घटना आधारित निगरानी को बढ़ाया जाना चाहिए जैसे-स्वास्थ्य सुविधाओं या समुदायों में प्रकोपों ​​​​का तेजी से प्रसार जो एक ऐसे प्रकार से शुरू हो सकता है !

यत् एकेन जनेण द्वितीये जने अत्यधिक सरलताया प्रसरति पूर्व संक्रमणभि: वौच्चटीकाकरण वृद्धिभि: सहोच्चस्तरस्य प्रतिरक्षायाः आशायुक्त जनसंख्यायाः मध्य प्रकरणेषु वृद्धिम्, यत् प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाया रक्षणे सक्षम: एकस्य प्रकारस्य उपस्थित्या: संकेतम् दत्तुम् शक्नोति !

जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अधिक आसानी से फैलता है या पूर्व संक्रमणों या उच्च टीकाकरण कवरेज के साथ उच्च स्तर की प्रतिरक्षा होने की उम्मीद वाली आबादी के बीच मामलों में वृद्धि, जो प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचने में सक्षम एक प्रकार की उपस्थिति का संकेत दे सकती है !

सः कथित: तत मास्क इतस्य उपयोग, शारीरिक क्षीणताम्, अभ्यांतर स्थानस्य वेंटिलेशन, सम्मर्देण मुक्तम् हस्तानां स्वच्छताम् च् कोविड-१९ इतस्य संचरणं न्यूनाय महत्वपूर्णमस्ति, अत्रैव ततोद्भवन् रूपानां संदर्भे अपि, तं कथित: ! एतान् उपायान् बर्धनस्यावश्यकताम् भवितुम् शक्नोति !

उन्होंने कहा कि मास्क का उपयोग, शारीरिक गड़बड़ी, इनडोर स्थान का वेंटिलेशन, भीड़ से बचना और हाथ की स्वच्छता COVID-19 के संचरण को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है, यहां तक ​​​​कि उभरते हुए रूपों के संदर्भ में भी, उसने कहा ! इन उपायों को बढ़ाने की आवश्यकता हो सकती है !

पारस्परिक संपर्कमति सीमितं कर्तुमधिक पारगम्य संस्करणेन सह संचरणम् नियंत्रितुं, स्वास्थ्यपरिचर्या सेवाषु वृहद याचनाया रक्षार्थम् देशान् कालबद्ध प्रकारेण सार्वजनिक स्वास्थ्यं सामाजिकोपाये अग्रम् बर्धनाय तत्परणीयं !

पारस्परिक संपर्क को और सीमित करने के लिए, अधिक पारगम्य संस्करण के साथ संचरण को नियंत्रित करने के लिए, स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं पर भारी मांग से बचने के लिए देशों को समयबद्ध तरीके से सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को आगे बढ़ाने के लिए तैयार रहना चाहिए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

जोधपुरस्य सर्वकारी विद्यालये हिजाब धारणे संलग्ना: छात्रा: ! जोधपुर के सरकारी स्कूल में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राएँ !

राजस्थानस्य जोधपुरे हिजाब इतम् गृहीत्वा प्रश्नं अभवत् ! सर्वकारी विद्यालये छात्रा: हिजाब धारणे गृहीत्वा संलग्नवत्य:, तु तेषां परिजना:...

मेलकम् दर्शनमगच्छन् हिंदू महिला: शमीम: सदरुद्दीन: चताडताम्, उदरे अकुर्वताम् पादघातम् ! मेला देखने गईं हिन्दू महिलाओं को शमीम और सदरुद्दीन ने पीटा, पेट पर...

उत्तरप्रदेशस्य फर्रुखाबाद जनपदे एकः हिंदू युवके, तस्य मातरि भगिन्यां च् घातस्य वार्ता अस्ति ! घातस्यारोपम् शमीमेण सदरुद्दीनेण च्...

हल्द्वानी हिंसायां आहूय-आहूय हिंदू वार्ताहरेषु अभवन् घातम् ! ऑपइंडिया इत्यस्य ग्राउंड सूचनायां रहस्योद्घाटनम् ! हल्द्वानी हिंसा में चुन-चुन कर हिंदू पत्रकारों पर हुआ हमला...

उत्तराखंडस्य हल्द्वानी हिंसायां उत्पातकाः आरक्षक प्रशासनस्यातिरिक्तं घटनायाः रिपोर्टिंग कुर्वन्ति हिंदू वार्ताहरानपि स्वलक्ष्यमकुर्वन् स्म ! ते आहूय-आहूय वार्ताहरेषु घातमकुर्वन्...

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्,...