अहमदाबाद विस्फोटाभियोगे आगतं निर्णयम्, ४९ आरोपिण: अपराधिण: अभवन्, दंडस्योद्घोषणाम् श्व ! अहमदाबाद ब्लास्ट केस में आया फैसला, 49 आरोपी दोषी करार, सजा का ऐलान कल !

0
113

गुजरातस्य एकं न्यायालयं २००८ तमस्याहमदाबाद क्रमबद्ध रणगोल: विस्फोट प्रकरणे भौमवासरम् ४९ आरोपिन् अपराधिण: कृतं २८ अन्यम् च् मुक्तं कृतं ! न्यायमूर्ति एआर पटेल: श्व दंडस्यघोषणां करिष्यति ! दंडाश्रावयस्य काळम् सर्वान् दोषिन् न्यायालये आनिष्यति !

गुजरात की एक अदालत ने 2008 के अहमदाबाद सिलसिलेवार बम विस्फोट मामले में मंगलवार को 49 आरोपियों को दोषी ठहराया और 28 अन्य को बरी कर दिया ! न्यायमूर्ति एआर पटेल कल सजा की घोषणा करेंगे ! सजा सुनाए जाने के दौरान सभी दोषियों को अदालत में लाया जाएगा !

दृष्टिगतासि तत ७० पलस्याभ्यांतरम् २६ जुलै २००८ तममहमदाबादे २१ रणगोलः विस्फोटमभवत् स्म ! इति आतंकिन् घाते ५६ जनाः हतम् स्म, यत् रणगोल: विस्फोटानां कारणं नगरस्य विभिन्न स्थानेषु अक्षिपन् स्म ! २०० जनाः आहत: अपि अभवन् स्म ! इस्लामिक आतंकिन् समूहम् हरकत-उल- जिहाद-अल-इस्लामी घातानां जिम्मेवारिम् नीतं स्म !

गौर हो कि 70 मिनट के भीतर 26 जुलाई 2008 को अहमदाबाद में 21 बम विस्फोट हुए थे ! इस आतंकवादी हमले में 56 लोग मारे गए थे, जो बम विस्फोटों के कारण शहर के विभिन्न स्थानों पर मारे गए थे ! 200 लोग घायल भी हुए थे ! इस्लामिक आतंकवादी समूह हरकत-उल-जिहाद-अल- इस्लामी ने हमलों की जिम्मेदारी ली थी !

ज्ञापयन्तु तत २००९ तमे विधिक कार्यवाहिमारंभितं स्म ११६३ साक्ष्यकानां च् साक्ष्यं नीतं ! ६००० अभिलेखी साक्ष्यं प्रस्तुतं ! ३४७८०० पृष्ठानां केवलं अभियोगपत्रम् तत्परं कृतं स्म ! ९८०० पृष्ठानां केवलं प्राथमिकाभियोगपत्रमस्ति ! ७७ अरोपिनां संमुखम् १४ वर्षाणि अनंतरम् तर्काः पूर्णितं !

बता दें कि 2009 में कानूनी कार्यवाही शुरू हुई थी और 1163 विटनेस की गवाही ली गई ! 6000 दस्तावेजी सबूत पेश किए गए ! 3,47,800 पेज की 547 चार्जशीट तैयार की गई थी ! 9800 पेज की सिर्फ प्रायमरी चार्जशीट है ! 77 आरोपियों के सामने 14 साल बाद दलीलें पूरी हुई !

७ न्यायाधीशा: परिवर्तितं, कोरोना काले अपि प्रतिदितं शृणुम् चरितानि ! ३ आरोपिण: पाकिस्तानं १ आरोपिन् सीरिया पलायिता: स्म ! केरलस्य वने विस्फोटस्य षड्यंत्रमरचयत् स्म ! १९ दिवसे ३० अपराधिण: परिग्रहीताः स्म, २६ जुलै २००८ तमम् सायं काळम् ७० पले २१ विस्फोटमभवत् स्म !

7 जज बदले गए, कोरोना काल में भी डे-टू-डे सुनवाई चली ! 3 आरोपी पाकिस्तान और 1 आरोपी सीरिया भाग गया था ! केरल के जंगल में ब्लास्ट का षड्यंत्र रचा गया था ! 19 दिन में 30 अपराधी पकड़ लिए गए थे, 26 जुलाई 2008 को शाम के समय 70 मिनट में 21 ब्लास्ट हुए थे !

५६ जनानां निधनमभवन् स्म २०० तः अधिकं च् आहता: स्म ! इकबाल:, यासीन भटकल: रियाज भटकल: च् प्रमुखा: आसन् ! यासीन भटकल: अधुना इंदप्रस्थस्य कारागारे अवरुद्ध: ! तस्य विरुद्धं नवक्रमेणाभियोगम् चरिष्यति, कुत्रचित् यासीन: पकिस्तानम् पलायित: स्म !

56 लोगों की मौत हो गई थी और 200 से ज्यादा घायल हुए थे ! इकबाल, यासीन भटकल और रियाज भटकल मास्टरमाइंड थे ! यासीन भटकल फिलहाल दिल्ली की जेल में बंद है ! उसके खिलाफ नए सिरे से केस चलेगा, क्योंकि यासीन पाकिस्तान भाग गया था !

अनंतरे परिग्रहीत: स्म मुफ्ती अबू बसर: स्लीपर सेल एक्टिव कृतवन्तः स्म ! ७७ आरोपिषुतः ४९ अहमदाबाद साबरमती कारागारे सन्ति, भोपाल कारागारे १०, मुम्बय्या: तलोजा कारागारे ४, बेंगलुरु कारागारे ५, केरल कारागारे ६, जयपुर कारागारे २ इंदप्रस्थ कारागारे अपि आरोपिण: सन्ति !

बाद में पकड़ा गया था मुफ्ती अबू बसर ने स्लीपर सेल एक्टिव किया था ! 77 आरोपियों में से 49 अहमदाबाद साबरमती जेल में हैं, भोपाल जेल में 10, मुम्बई की तलोजा जेल में 4, बेंगलुरु जेल में 5, केरल जेल में 6, जयपुर जेल में 2 और दिल्ली जेल में भी आरोपी हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here