स्थगनस्य गाजीपुर सीमायाम् यातायाते प्रभावं, अन्य स्थानेषु कश्चित प्रभावं न ! बंद का गाजीपुर बार्डर पर यातायात पर असर, अन्य जगहों पर कोई प्रभाव नहीं !

0
241

foto credit by ANI

त्रय नव कृषि विधेयकानां विरुद्धम् लगभगम् चतुर्भि: मासै: इंद्रप्रस्थस्य सीमाषु प्रदर्शनम् कारित: कृषकसंगठना: अद्य भारतस्थगन आहूत: !

तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ करीब चार महीने से दिल्ली की सीमाओं पर धरना प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों ने आज भारत बंद बुलाया है !

कृषकाणाम् भारतस्थगनस्य प्रभावं गाजीपुर सीमायाम् दृश्यते ! संयुक्त कृषकदलस्यानुरूपम् इदम् स्थगनं प्रातः ६ तः आरंभिष्यति सायं ६ वादनमेव संचारिष्यति !

किसानों के भारत बंद का असर गाजीपुर बार्डर पर नजर आ रहा है ! संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक, यह बंद सुबह 6 से शुरू होगा और शाम 6 बजे तक जारी रहेगा !

कृषकाणाम् अस्य भारत स्थगनम् राजनीतिक दलानां समर्थनमपि प्राप्यतमस्ति ! यस्मिन् वाम दलानि सम्मिलिता: सन्ति ! कृषकदलानि जनै: अस्य स्थगनस्य समर्थनस्य प्रार्थनां कृतानि !

किसानों के इस भारत बंद को राजनीतिक दलों का समर्थन भी प्राप्त है जिनमें वामदल शामिल हैं ! किसान मोर्चा ने लोगों से इस बंद का समर्थन करने की अपील की है !

कृषकसंगठनै: आहूता: अस्य भारतस्थगनस्य कारणेन रेल मार्गम् च् परिवहन प्रभावितुम् शक्नोति यद्यपि बहु स्थानेषु आपणमपि अवरुद्धस्य आशाम् सन्ति !

किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए इस भारत बंद की वजह से रेल और सड़क परिवहन प्रभावित सकता है जबकि कई जगहों पर बाजार भी बंद रहने के आसार हैं !

केंद्रस्य नव कृषि विधेयकानां विरोधम् कारित: कृषकसंगठना: संपूर्ण भारतस्थगनस्य आह्वानं कृताः येन कारणेनाशामस्ति ततावश्यकम् वस्तुनामपि संकटम् भवितुम् शक्नोति !

केंद्र के नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों ने संपूर्ण भारत बंद का आह्वान किया है इसलिए अंदेशा है कि लोगों को जरूरी सामान की भी दिक्कत हो सकती है !

संयुक्त कृषकदलानां नेता दर्शनपाल: एके चलचित्रसंदेशे कथितः तत स्थगनस्य कालम् शाकानां दुग्धस्य चापूर्त्याप्यवरोधिष्यते ! यद्यपि पंच निर्वाचनी राज्येषु इदम् स्थगनं न भविष्यति !

संयुक्त किसान मोर्चे के नेता दर्शनपाल ने एक वीडियो संदेश में कहा कि बंद के दौरान सब्जियों और दूध की आपूर्ति भी रोकी जाएगी ! हालांकि पांच चुनावी राज्यों में यह बंद नहीं होगा !

संयुक्त कृषक दलानि एकम् कथनं प्रसृतमानः कथितानि, संपूर्ण भारत स्थगनस्यानुरूपम् सर्वाणि आपणानि, संस्थान च् अवरुद्धिष्यते ! सर्वाणि लघु दीर्घ च् मार्गाणि अवरुद्धम् करिष्यते तथा धूमयानान् अवरोधिष्यते !

संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बयान जारी करते हुए कहा है, संपूर्ण भारत बंद के तहत सभी दुकानें, मॉल, बाजार और संस्थान बंद रहेंगे ! सभी छोटे और बड़े मार्ग अवरुद्ध किए जाएंगे तथा ट्रेनों को रोका जाएगा !

रुग्णवाहनं अन्य चावश्यक सेवान् मुक्तवा सर्वाणि सेवानि अवरुद्धिष्यते ! भारतस्थगनस्य प्रभावं इंद्रप्रस्थे अपि द्रक्ष्यते !

एंबुलेंस और अन्य आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद रहेंगी ! भारत बंद का प्रभाव दिल्ली में भी दिखेगा !

आंदोलनकारी कृषकै: प्रार्थनामस्ति तत ते स्थगनस्य कालम् शांति धृताः कश्चितापि च् अनृतं चर्चायाम् समाघाते वा सम्मिलिता: न भवन्तु ! दलानि कथितानि तत राष्ट्रीय राजधान्यामपि स्थगनम् करिष्यते !

आंदोलकारी किसानों से अपील है कि वे बंद के दौरान शांति बनाए रखें और किसी भी गलत चर्चा या टकराव में शामिल न हों ! मोर्चे ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में भी बंद किया जाएगा !

देशे अष्ट कोटि व्यापारिनां प्रतिनिधित्वस्य दृढ़कथनं कर्ता कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स इति कथितः तत २६ मार्च इतम् आपणं अनावृतम् भविष्यति कुत्रचित तत् भारतस्थगने सम्मिलित: नास्ति !

देश में आठ करोड़ व्यापारियों के प्रतिनिधित्व का दावा करने वाली कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने कहा कि 26 मार्च को बाजार खुले रहेंगे क्योंकि वह भारत बंद में शामिल नहीं है !

संगठनस्य महासचिव: प्रवीण खंडेलवाल: पीटीआई इत्येन वार्ता कृतमानः कथितः अहम् श्व भारतस्थगने सम्मिलित: न भवामि ! इंद्रप्रस्थस्य देशस्य च् अन्य क्षेत्रेषु आपणं अनावृतिष्यते !

संगठन के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने पीटीआई से बात करते हुए कहा हम कल भारत बंद में शामिल नहीं हो रहे हैं ! दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में बाजार खुले रहेंगे !

संचरितं गतिरोधस्य समाधानम् केवलं वार्ता प्रक्रियाया कर्तुम् शक्नोति ! कृषि विधेयकेषु संशोधने चर्चाम् भवनीय: यत् वर्तमान कृषिम् लाभयोग्यम् निर्मितुम् शक्नोन्ति !

जारी गतिरोध का समाधान केवल वार्ता प्रक्रिया से किया जा सकता है ! कृषि कानूनों में संशोधन पर चर्चा होनी चाहिए जो मौजूदा कृषि को लाभ योग्य बना सकते हैं !

कृषक संगठनै: आहूतानि अस्य स्थगनस्य सर्वाधिक प्रभावं पंजाबे हरियाणायाम् च् पश्यम् प्राप्यतुम् शक्नोति यत्रास्य आंदोलनस्य समर्थने वृहद संख्ययाम् जनाः एकत्रितं भवन्ति ! तत्रैव उत्तरप्रदेशस्य केचन क्षेत्रेषु अपि स्थगनस्य प्रभावं पश्यम् प्राप्यतुम् शक्नोति !

किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए इस बंद का सर्वाधिक असर पंजाब और हरियाणा में देखने को मिल सकता है जहां इस आंदोलन के समर्थन में बड़ी संख्या में लोग जुट रहे हैं ! वहीं यूपी के कुछ हिस्सों में भी बंद का असर देखने को मिल सकता है !

भवन्त: ज्ञापयन्तु तत इंद्रप्रस्थे २६ जनवरी इत्यस्य दिवसं अभवत् हिंसायाः केचन दिवसं अनंतरमेव वाहनावरुद्धस्य घोषणामक्रियते स्म तु अनंतरे तेन उत्तरप्रदेशे उत्तराखंडे पुनर्नीता: स्म !

आपको बता दें कि दिल्ली में 26 जनवरी के दिन हुई हिंसा के कुछ दिन बाद ही चक्‍का जाम की घोषणा की गई थी लेकिन बाद में उसे यूपी उत्तराखंड में वापस ले लिया गया था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here