लवजिहादस्य विरुद्धम् गुजरात विधानसभायाम् विधेयकम् स्वीकृतम् ! लवजिहाद के खिलाफ गुजरात विधानसभा में विधेयक पारित !

0
703

गुजरात विधानसभा गुरुवासरम् लवजिहादस्य संबंधे एकम् संशोधनविधेयकम् स्वीकृतम् यस्मिन् दशवर्ष यावतस्य कारागारस्य दंडम् पाणिग्रहणेन कैतवम् बलात् धर्मपरिवर्तनाय वा अधिकतम् ५ लक्ष रूप्यकस्य अर्थदंडारोपिता: !

गुजरात विधानसभा ने गुरुवार को लव जिहाद के संबंध में एक संशोधन विधेयक पारित किया जिसमें दस साल तक की जेल की सजा और विवाह द्वारा धोखाधड़ी या जबरन धर्म परिवर्तन के लिए अधिकतम 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया !

अस्य विधेयके २००३ तमस्य एके विधेयके संशोधनमक्रियते ! सर्वकारस्यानुरूपम्, गुजरात फ्रीडम ऑफ रिलीजन (अमेंडमेंट) विधेयकम्, २०२१ तमे उद्भावितम् प्रवृत्तिम् यस्मिन् महिला: धार्मिक परिवर्तनस्य उद्देश्येन पाणिग्रहणस्य घस्मरता दियतैति तस्मिन् तोदनस्य व्यवस्थामस्ति !

इस विधेयक में 2003 के एक कानून में संशोधन किया गया है। सरकार के अनुसार, गुजरात फ्रीडम ऑफ रिलिजन (अमेंडमेंट) बिल, 2021 में उभरती प्रवृत्ति जिसमें महिलाओं को धार्मिक परिवर्तन के उद्देश्य से शादी का लालच दिया जाता है उस पर अंकुश लगाने की व्यवस्था है !

कांग्रेसम् विधेयकस्य विरुध्दम् मतदानं कृतवान ! भाजपा शासित मध्यप्रदेशं उत्तरप्रदेशं च् शीघ्रैवे पाणिग्रहणस्य माध्यमेन कैतवन् धर्मांतरणे प्रतिबंधस्य समम् विधिम् प्रारंभिते !

कांग्रेस ने विधेयक के खिलाफ मतदान किया। भाजपा शासित मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश ने हाल ही में शादी के माध्यम से धोखाधड़ी धर्मांतरण पर प्रतिबंध लगाने के समान कानून लागू किए !

कश्चितापि पीड़ित जनाः, तस्य पितरौ भ्रातरौ रक्त वा पाणिग्रहण वा दत्तकेन वा संबंधित कश्चित अन्यतमः जनाः विधेयकस्यानुरूपम् प्राथमिकी पंजीकृतं कर्तुम् शक्नोति !

कोई भी पीड़ित व्यक्ति, उसके माता-पिता, भाई-बहन, या रक्त, विवाह या गोद लेने से संबंधित कोई अन्य व्यक्ति कानून के तहत प्राथमिकी दर्ज कर सकता है !

अधिनियमस्यानुरूपम् पातकसंज्ञेय अमुक्तिपत्रं च् भविष्यत: एकस्य आरक्षकोपाधीक्षकस्य पदात् न्यूनस्याधिकारिभिः अनुसंधानं न करिष्यते !

अधिनियम के तहत अपराध संज्ञेय और गैर-जमानती होंगे और एक पुलिस उपाधीक्षक के पद से नीचे के अधिकारी द्वारा जांच नहीं की जाएगी !

संशोधनस्यानुरूपम् बलात् पाणिग्रहणं कृत्वा कश्चित जनानां पाणिग्रहण कारित्वा वा कश्चित जनानां पाणिग्रहणाय सहाय्य कृते वा त्रयात् पंचवर्षस्य बंधनानि २ लक्ष रूप्यकस्यैवार्थदंडं भविष्यति !

संशोधन के अनुसार जबरन विवाह करके या किसी व्यक्ति की शादी करवाकर या किसी व्यक्ति की शादी करने के लिए सहायता करने पर तीन से पांच साल की कैद और 2 लाख रुपये तक का जुर्माना होगा !

यदि पीडिता: अवयस्क, महिला, दलित, आदिवासी सन्ति, तदा पातकिम् चत्वारः तः सप्तवर्षस्य कारागरस्य दंडम् ३ लक्ष रूप्यकात् न्यूनस्यार्थदंडं भवितुम् न शक्नोति !

यदि पीड़ित नाबालिग, महिला, दलित या आदिवासी है, तो अपराधी को चार से सात साल की जेल की सजा और 3 लाख रुपये से कम का जुर्माना नहीं हो सकता है !

यदि कश्चित संगठन विधेयकस्य उल्लंघनं करोति, तदा प्रभारी जनान् न्यूनतम् त्रय वर्षम् अधिकतम् दश वर्षम् कारागारस्य दंडम् भवितुम् शक्नोति ! इदृशेषु प्रकरणेषु ५ लक्ष रूप्यकैवस्यार्थदंडमपि आरोपितुम् शक्नोति !

यदि कोई संगठन कानून का उल्लंघन करता है, तो प्रभारी व्यक्ति को न्यूनतम तीन साल और अधिकतम दस साल जेल की सजा हो सकती है ! ऐसे मामलों में 5 लाख रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है !

सदने एकस्य दिवसस्य चर्चायाः अनंतरम् विधेयकम् स्वीकृतम् ! गृहराज्यमंत्री प्रदीप सिंह जडेजा: सदने विधेयकम् प्रस्तुतमानः कथितः तत लवजिहाद धार्मिक धर्मांतरणस्य पश्च एकम् गोप्यन् कार्ययोजनामस्ति अस्य प्रकारस्य कथित घटनान् गुजराते अन्यतमः स्थानेषु सुचिबद्धम् कृतवान !

सदन में एक दिन की चर्चा के बाद विधेयक पारित किया गया ! गृह राज्य मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने सदन में विधेयक पेश करते हुए कहा कि लव जिहाद धार्मिक धर्मांतरण के पीछे एक छिपा हुआ एजेंडा है और इस तरह की कथित घटनाओं को गुजरात और अन्य जगहों पर सूचीबद्ध किया !

नेता प्रतिपक्ष परेश धनानी: कथितः तत प्रीति धर्म जाति वा न दृश्यति ! कांग्रेस नेता कथितः तत प्रेमस्य कश्चित सीमा नास्ति ! इदम् कश्चित धर्म न, कश्चित जाति न दृश्यति ! इदम् एकम् भावनामस्ति यस्मिन् च् कश्चित तोदनमारोपितुम् न शक्नोति !

नेता प्रतिपक्ष परेश धनानी ने कहा कि प्यार धर्म या जाति नहीं देखता है ! कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रेम की कोई सीमा नहीं है ! यह कोई धर्म नहीं, कोई जाति नहीं देखता है ! यह एक भावना है और इस पर कोई अंकुश नहीं होना चाहिए ! कोई भी भावनाओं पर अंकुश नहीं लगा सकता है !

कांग्रेस विधायकः इमरान खेड़ावाला: विधेयकस्य एकम् प्रतिमल्पसंख्यक विरोधिन् बदमानः कथितः भाजपा सदस्याः इच्छन्ति स्म तत सभापति राजेंद्र त्रिवेदी: तस्य विरुद्धम् कार्यवाहिम् करोतु ! तु खेड़ावाला: तदा क्षमा याच्यिष्यति !

कांग्रेस विधायक इमरान खेड़ावाला ने विधेयक की एक प्रति को अल्पसंख्यक विरोधी बताते हुए कहा भाजपा सदस्य चाहते थे कि स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी उनके खिलाफ कार्रवाई करें ! लेकिन खेड़ावाला ने तब माफी मांगी !

येन कारणम् विधानसभाध्यक्ष: कश्चित कार्यवाहिम् न कृतः ! संशोधनम् इदमपि प्रदत्तयति तत विधिविरुद्धम् रूपांतरणस्य उद्देश्याय पाणिग्रहणीत् पाणिग्रहणम् न्यायालयेन शून्यम् करिष्यते ! निर्दोष सिद्धस्य भारमारोपिन् जने भविष्यति !

इसलिए विधानसभा अध्यक्ष ने कोई कार्रवाई नहीं की ! संशोधन यह भी प्रदान करता है कि गैरकानूनी रूपांतरण के उद्देश्य के लिए विवाहित विवाह को अदालत द्वारा शून्य घोषित किया जाएगा ! निर्दोष साबित करने का बोझ आरोपी व्यक्ति पर पड़ेगा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here