न्यायालये उद्घाटितं बिट्टा कराटे इत्या: पातकस्य दत्तांशसञ्चिका, १६ अप्रैलतः न्यायालये भविष्यति पातकानां गणना ! कोर्ट में फिर खुली बिट्टा कराटे की जुर्म की फाइल, 16 अप्रैल से अदालत में होगा गुनाहों का हिसाब !

0
219

श्रीनगर सेशन न्यायालये सतीश टिक्कू हनन प्रकरणस्य शृणुनम् विलंबम् जात: ! न्यायालयं इति प्रकरणस्य शृणुनं१६ अप्रैलतः आरंभितुं करिष्यति ! कराटे बिट्टा वर्ष १९९० तमे सतीश टिक्कूणा सह २० कश्मीरी पंडितानां हननम् कृतवान स्म ! टिक्को: कुटुंबं इति प्रकरणस्य शृणुनाय नवावेदनम् न्यायालये प्रेषितं !

श्रीनगर सेशन कोर्ट में सतीश टिक्कू हत्या मामले की सुनवाई टल गई है ! कोर्ट इस मामले की सुनवाई 16 अप्रैल से शुरू करेगा ! कराटे बिट्टा ने साल 1990 में सतीश टिक्कू सहित 20 कश्मीरी पंडितों की हत्या की थी ! टिक्कू के परिवार ने इस मामले की सुनवाई के लिए नई अर्जी कोर्ट में लगाई है !

अधुना प्रातः यदा न्यायालये शृणुनमारंभितं तर्हि बिट्टायाः अधिवक्ता शृणुनमवरोधनस्य प्रयत्नं कृतः ! वस्तुतः सतीश टिक्को: कुटुंबम् श्रीनगरन्यायालये इति हनन प्रकरणस्य शृणुनायावेदनम् दत्तं ! बिट्टा कराटेस्य वास्तविक नाम फारूक अहमद डार: अस्ति !

अब सुबह जब कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई तो बिट्टा के वकील ने सुनवाई रोकने की कोशिश की ! दरअसल सतीश टिक्कू के परिवार ने श्रीनगर कोर्ट में इस हत्या मामले की सुनवाई के लिए अर्जी दी है ! बिट्टा कराटे का असली नाम फारूक अहमद डार है !

तं ३१ वर्षाणि पूर्व सतीश टिक्को: हननम् कृतः यस्यानंतरम् च् बहु कश्मीरी पंडितान् हनित: ! तं दूरदर्शने एतेषां हननानां वार्ता स्वीकृत: ! गत वर्षेषु टिक्कू बहुधा बंधनमभवत् तु कदापि सः साक्ष्यानां अभावे क्षीणधारासु वा अभियोगम् पंजीकृतस्य कारणं स्वतंत्रम् भवितुं रमित: !

उसने 31 साल पहले सतीश टिक्कू की हत्या की और इसके बाद कई कश्मीरी पंडितों को जान से मारा ! उसने टेलिविजन पर इन हत्याओं की बात कबूल की है ! गत वर्षों में टिक्कू कई बार गिरफ्तार हुआ लेकिन कभी वह सबूतों के अभाव में या हल्की धाराओं में केस दर्ज होने के चलते रिहा होता रहा !

विवेक अग्निहोत्रिण: चलचित्रम् द कश्मीर फाइल्स इत्या: प्रस्तुतस्यानंतरं कश्मीरी पंडितानां पलायनस्य पीड़ा एकदा पुनः उद्घाटितं ! कश्मीरी पंडितानां विरुद्धम् बिट्टा १९८९ तमे अस्त्रमुत्थित: यस्यानंतरम् च् घट्यां २० कश्मीरी पंडितानां हननम् कृतः ! येषु सतीश टिक्कू अपि सम्मिलिता: आसन् !

विवेक अग्निहोत्री की फिल्म द कश्मीर फाइल्स के रिलीज होने के बाद कश्मीरी पंडितों के पलायन का दर्द एक बार फिर छलक गया है ! कश्मीरी पंडितों के खिलाफ बिट्टा ने 1989 में हथियार उठाया और इसके बाद घाटी में 20 कश्मीरी पंडितों की हत्या की ! इसमें सतीश टिक्कू भी शामिल था !

टिक्को: कुटुंबं यस्यानंतरेण न्यायस्य याचनां करोति तु अद्यापि इति प्रकरणे पुष्टकार्यवाहिम् नाभवत् ! कुटुंबमिच्छति ततेति प्रकरणस्याधुना नवप्रकारेण शृणुनमसि ! अतएव तं न्यायालये एकं नवयाचिका प्रस्तुतं ! बिट्टायाः प्रथमदा बंधनं १९९० तमे अभवत् !

टिक्कू का परिवार इसके बाद से न्याय की गुहार लगाता रहा है लेकिन अभी तक इस मामले में ठोस कार्रवाई नहीं हुई ! परिवार चाहता है कि इस मामले की अब नए सिरे से सुनवाई हो ! इसलिए उसने कोर्ट में एक नई अर्जी दायर की है ! बिट्टा की पहली बार गिरफ्तारी 1990 में हुई !

तु साक्ष्यानां अभावे तेन २००६ तमे अवमुक्तं ! यस्य अनंतरम् अमरनाथ श्राइन आयोगाय धरायां उपद्रव प्रकरणे तेन २००८ तमे बंधनम् कृतं तु यस्य अष्ट मासानि अनंतरम् तस्य स्वतंत्रतामभवत् ! वर्ष २०१९ तमे राष्ट्रीयान्वेषण संस्थाम् तेनातंकी फंडिंग प्रकरणे बंधनम् कृतं !

लेकिन सबूतों के अभाव में उसे 2006 में रिहा कर दिया गया ! इसके बाद अमरनाथ श्राइन बोर्ड के लिए जमीन पर उपद्रव मामले में उसे 2008 में गिरफ्तार किया गया लेकिन इसके आठ महीने बाद उसकी रिहाई हो गई ! साल 2019 में राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने उसे आतंकी फंडिंग मामले में गिरफ्तार किया !

इति प्रकरणस्य पुनः शृणुनमारंभिते चलचित्रकार: अशोक पंडित: कथित: तत वर्तमानसर्वकारस्य कारणेन संभवितं ! बिट्टा हन्तक: अस्ति ! तं स्वच्छंद रूपम् मार्गेषु निःसृत्वा जनान् हनित:, महिलानां बलात्कार: कृतः ! एतान् जघन्यपातकान् तं स्वीकृत: ! अयम् स्वच्छंद विचरति स्म ! यं मृत्युदंड ळब्धनीयं !

इस मामले की दोबारा सुनवाई शुरू होने पर फिल्मकार अशोक पंडित ने कहा कि मौजूदा सरकार की वजह से संभव हो पाया है। बिट्टा हत्यारा है ! उसने खुलेआम सड़कों पर निकलकर लोगों को मारा, महिलाओं का रेप किया ! इन जघन्य अपराधों को उसने स्वीकार किया है ! ये खुला घूम रहा था ! इनको फांसी की सजा मिलनी चाहिए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here