12.1 C
New Delhi

चर्चायां किमस्ति जम्मू-कश्मीरे सीमांकन, किं परिवर्तिष्यते विधानसभायाः आसनानां भूगोलं ! चर्चा में क्यों है जम्मू-कश्मीर में परिसीमन, क्या बदलेगा विधानसभा की सीटों का भूगोल !

Date:

Share post:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: जम्मू-कश्मीरस्य १४ राजनीतिक दलान् गोष्ठ्ये आहूत: ! गुपकार अलायंस इत्यस्य नेतृभिः सहान्य राजनीतिक दलै: सह पीएम मोदिण: इदम् गोष्ठिम् गुरूवासरम् भवितमस्ति !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के 14 राजनीतिक दलों को बैठक के लिए बुलाया है ! गुपकार अलायंस के नेताओं सहित अन्य राजनीतिक दलों के साथ पीएम मोदी की यह बैठक गुरुवार को होनी है !

इति गोष्ठ्याः सूचनां आगमनस्यानंतरम् जम्मू- कश्मीरं गृहित्वा चर्चाम् एकदा पुनः तीव्रं भवितं ! आहूतं गोष्ठिम् गृहित्वा भिन्न-भिन्न प्रकारस्य वार्तानि क्रियन्ते !

इस बैठक की खबर आने के बाद जम्मू-कश्मीर को लेकर चर्चा एक बार फिर तेज हो गई है ! बुलाई गई बैठक को लेकर कई तरह की बातें की जा रही हैं !

जम्मू-कश्मीरे विधानसभा निर्वाचनम्, सीमांकनं एवं जम्मूम् भिन्न राज्य निर्मयस्य परिकल्पनानि चरन्ति ! यद्यपि, यं प्रति अद्यापि केचनापि स्वच्छम् मास्ति !

जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव, परिसीमन एवं जम्मू को अलग राज्य बनाए जाने की अटकलें चल रही हैं ! हालांकि, इस बारे में अभी कुछ भी साफ नहीं है !

सर्वानां दृष्टिम् इति गोष्ठ्यामा आधारिताः ! विदुषाम् कथनानि सन्ति तत जम्मू-कश्मीरं गृहित्वा सर्वकार: कश्चित वृहद निर्णयम् कर्तुम् शक्नोति ! अद्य सीमांकनायोगस्य गोष्ठिमपि भवितमस्ति !

सभी की नजरें इस बैठक पर टिकी हैं ! जानकारों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर को लेकर सरकार कोई बड़ा फैसला कर सकती है ! आज परिसीमन आयोग की बैठक भी होने वाली है !

जम्मू-कश्मीरं गृहित्वा यत् वार्तानि चरन्ति तेषु सीमांकनस्य प्रकरणं प्रमुखमस्ति ! आगच्छतु ज्ञायन्ति तत सीमांकनास्ति किं जम्मू-कश्मीरे च् यस्यारंभेण किं प्रभावं भवितुम् शक्नोति !

जम्मू-कश्मीर को लेकर जो बातें चल रही हैं उनमें परिसीमन का मुद्दा प्रमुख है ! आइए जानते हैं कि परिसीमन है क्या और जम्मू-कश्मीर में इसके लागू होने से क्या असर हो सकता है !

जनसंख्यायाः सुचारूरूपेण प्रतिनिधित्व कृताय लोकसभायाः विधानसभायाः वा आसनानां क्षेत्रं पुनः परिभाषते ! क्षेत्रं निश्चितस्य प्रक्रिया सीमांकनायोगं करोति ! अस्यायोगस्य निर्णयम् कश्चित न्यायालये आह्वानम् दत्तुम् न शक्नुतं !

आबादी का सही प्रतिनिधित्व करने के लिए लोकसभा अथवा विधानसभा की सीटों के क्षेत्र को दोबारा से परिभाषित किया जाता है ! क्षेत्र तय करने की प्रक्रिया परिसीमन आयोग करता है। इस आयोग के फैसले को किसी कोर्ट में चुनौती नहीं दी जा सकती !

विशेषतः क्षेत्रस्य सीमांकन पूर्व जनसंख्यायाः आंकड़ानि आधारे कृत्वा क्रियते ! निर्वाचन क्षेत्रस्य चातुर्भद्रं नवरूपेण निश्चिते लोकसभायाः विधानसभायाः आसनानां संख्यायां परिवर्तनम् अपि भवते !

खासकर क्षेत्र का परिसीमन पिछले जनसंख्या के आंकड़े को आधार बनाकर किया जाता है ! निर्वाचन क्षेत्र की चौहद्दी नए सिर से तय करने में लोकसभा या विधानसभा की सीटों की संख्या में बदलाव हो जाया करता है !

जम्मू-कश्मीरं ळब्धे विशेषं राज्यस्य स्थानस्य कारणं अत्र सीमांकन द्वितीय राज्यै: केचन भिन्नं अस्ति ! पंच अगस्त २०१९ तमेण पूर्वं राज्यस्य लोकसभासनेभ्यः सीमांकन भारतसर्वकारस्य संविधानस्यानुरूपम् भवितुमागतम् !

जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष राज्य के दर्ज के चलते यहां परिसीमन दूसरे राज्यों से थोड़ा अलग है ! पांच अगस्त 2019 से पहले राज्य की लोकसभा सीटों के लिए परिसीमन भारत सरकार के संविधान के अनुरूप होता आया है !

तु विधानसभासनेभ्यः सीमांकन जम्मू- कश्मीरस्य संविधान एवं जम्मू एंड कश्मीर रिप्रेजेंटशन ऑफ द पीपुल एक्ट, १९५७ तमस्य अनुरूपम् भवितुमागतम् ! राज्ये विधानसभायाः आसनेषु सीमांकन १९६३, १९७३, १९९५ तमेषु च् अभवन् !

लेकिन विधानसभा सीटों के लिए परिसीमन जम्मू-कश्मीर के संविधान एवं जम्मू एंड कश्मीर रिप्रेजेंटेशन ऑफ द पीपुल एक्ट, 1957 के अनुरूप होता आया है ! राज्य में विधानसभा की सीटों पर परिसीमन 1963, 1973 और 1995 में हुआ !

भारतसर्वकार: जम्मू-कश्मीरं विशेषं राजस्य स्थानम् दातानुच्छेद ३७० इतम् पंच अगस्त २०१९ तमम् संपादितमानः राज्यं द्वयो भागयो विभज्यमानः केंद्रशासित प्रदेश निर्मित: ! यूनियन टेरिटरी इति निर्मयस्यानंतरम् एतानां राज्यानामासनेषु सीमांकन भारतीय संविधानस्य अनुरूपम् भवितमस्ति !

भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को पांच अगस्त 2019 को समाप्त करते हुए राज्य को दो भागों में विभाजित करते हुए केंद्रशासित प्रदेश बना दिया ! यूनियन टेरिटरी बन जाने के बाद इन राज्यों की सीटों पर परिसीमन भारतीय संविधान के तहत होना है !

गत षड मार्च २०२० तमम् सर्वकार: सर्वोच्च न्यायालयस्य सेवानिवृत्त न्यायाधीश रंजना प्रकाश देसाय्या: नेतृत्वे सीमांकनायोगस्य गठनं कृतः ! इति आयोगम् एकस्य वर्षस्याभ्यांतर एतानां राज्यानामासनेषु सीमांकनस्य कार्यं पूर्ण कृतस्य दायित्वं प्रदत्त: !

गत छह मार्च 2020 को सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की सेवानिवृत्त जज जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई की अगुवाई में परिसीमन आयोग का गठन किया ! इस आयोग को एक साल के भीतर इन राज्यों की सीटों पर परिसीमन का काम पूरा करने का दायित्व सौंपा गया !

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठनाधिनियमस्यानुरूपम् जम्मू-कश्मीरस्य विधानसभा आसनानां संख्या १०७ तः बर्धित्वा ११४ भविष्यते ! बदिते तत आसनानि भवता इति परिवर्तनस्य लाभम् जम्मू क्षेत्रम् ळब्धिष्यति !

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम के मुताबिक जम्मू-कश्मीर की विधानसभा सीटों की संख्या 107 से बढ़कर 114 हो जाएगी ! बताया जाता है कि सीटों में होने वाले इस बदलाव का फायदा जम्मू क्षेत्र को मिलेगा !

सीमांकनायोगे देसाय्या: अतिरिक्त निर्वाचन आयुक्त: सुशील चंद्रा:, जम्मू-कश्मीर राज्य निर्वाचनायुक्त: केके शर्मा: पदेन सदस्या: सन्ति ! आयोगस्य पंचान्य सदस्येषु नेशनल कॉन्फ्रेंस इत्यस्य फारूक अब्दुल्ला:, मोहम्मद अकबर लोन: एवं हसनैन मसूदी:, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह:, भाजपायाः जुगुल किशोर शर्मा: सम्मिलिता: सन्ति !

परिसीमन आयोग में देसाई के अलावा चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा, जम्मू-कश्मीर राज्य चुनाव आयुक्त केके शर्मा पदेन सदस्य हैं ! आयोग के पांच अन्य सदस्यों में नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला, मोहम्मद अकबर लोन एवं हसनैन मसूदी, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह, भाजपा के जुगुल किशोर शर्मा शामिल हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया

मध्यप्रदेशे इस्लामनगरम् ३०८ वर्षाणि अनंतरम् पुनः कथिष्यते जगदीशपुरम् ! मध्यप्रदेश में इस्लाम नगर 308 साल बाद फिर से कहलाएगा जगदीशपुर !

मध्यप्रदेशस्य भोपालतः १४ महानल्वम् अंतरे एकं ग्रामम् इस्लामनगरमधुना जगदीशपुर नाम्ना ज्ञाष्यते ! केंद्र सर्वकार: ग्रामस्य नाम परिवर्तनस्याज्ञा दत्तवान्...