33.1 C
New Delhi

कर्नाटके हिजाबे कलहे निर्णयागमनस्य अनंतरम् परीक्षायाः बहिष्कृत्वा परीक्षाकक्षतः बाह्य निःसृता: छात्रा: ! कर्नाटक में हिजाब विवाद पर फैसला आने के बाद परीक्षा का बहिष्कार कर हॉल से बाहर निकलीं छात्राएं !

Date:

Share post:

कर्नाटकोच्चन्यायालयेण हिजाबमिस्लामस्यानिवार्य अंशम् न मान्यस्य विद्यालयेषु च् विद्यालयीपरिधानम् इव धारणस्य निर्णयदत्तस्यानंतरम् राज्यस्य एकस्य सर्वकारी विद्यालयस्य केचन छात्रा: परीक्षायाः बहिष्कारम् कृतवती !

कर्नाटक हाईकोर्ट द्वारा हिजाब को इस्लाम का अनिवार्य हिस्सा नहीं मानने और स्कूलों में ड्रेस ही पहनने का फैसला देने के बाद राज्य के एक सरकारी कॉलेज की कुछ छात्राओं ने परीक्षा का बहिष्कार कर दिया !

मीडिया सूचनानां अनुरूपम् ज्ञाप्यते तत हिजाब धारिता: इमा: छात्रा: परीक्षाकक्षतः बाह्यागतः ! इमा: छात्रा: विद्यालये हिजाबधारित्वैव परीक्षा दत्तुं प्राप्ता: स्म हिजाबकलहे च्कर्नाटकोच्चन्यायालयस्य निर्णयागमनस्य किञ्चितक्षणस्याभ्यांतरम् इव इदम् घटना संमुखमागतं !

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक बताया जा रहा है कि हिजाब पहनी हुईं ये छात्राएं परीक्षा हॉल से बाहर आ गईं ! ये छात्राएं कॉलेज में हिजाब पहनकर ही परीक्षा देने पहुंची थीं और हिजाब विवाद पर कर्नाटक हाईकोर्ट का फैसला आने के कुछ देर के भीतर ही यह घटना सामने आई !

कर्नाटकस्य यादगिरस्य सुरापुरा क्षेत्रस्य केम्बावी सर्वकारी विद्यालयस्य छात्रा: परीक्षायाः बहिष्कारम् कृतवती ताः च् बाह्यागताः ! परीक्षा भौमवासरं प्रातः १० वादनम् आरंभितं स्म, इति मध्यनिर्णयस्य वार्ता आगमनस्यानंतरम् इदम् अभवत् !

कर्नाटक के यादगिर के सुरापुरा तालुका के केम्बावी सरकारी कॉलेज की छात्राओं परीक्षा का बहिष्कार किया और वे बाहर आ गईं ! एग्जाम मंगलवार सुबह 10 बजे स्टार्ट हुआ था, इस बीच फैसले की खबर आने के बाद ये हुआ है !

ज्ञाप्यते तत विद्यालयं प्रबंधनस्यानुरूपम् लगभगम् ३५ छात्रा: परीक्षायाः बहिष्कारम् कृतवती, कथ्यते तत एषा: छात्रा: कथिता: तत ताः स्वाभिभावकै: कुटुंबवासिनै: च् चर्चायाः अनंतरं निश्चितं करिष्यन्ति तत ताः विना हिजाबस्य कक्षायामागमिष्यन्ति न वा, तासामिति पगस्य विशेषरूपेण चर्चाम् भवति !

बताते हैं कि कालेज मैनेजमेंट के मुताबिक करीब 35 छात्राओं ने परीक्षा का बहिष्कार किया, कहा जा रहा है कि इन छात्राओं ने कहा है कि वे अपने पेरेंट्स और घरवालों से चर्चा करने के बाद तय करेंगी कि वे बगैर हिजाब के कक्षा में आएंगी या नहीं, उनके इस कदम की खासी चर्चा हो रही है !

कर्नाटकोच्चन्यायालयं विद्यालयस्य महाविद्यालयस्य च् कक्षायां हिजाब धारणस्याज्ञादत्तस्य अनुरोधकर्ता उडुप्यां सर्वकारी प्री-यूनिवर्सिटी गर्ल्स महाविद्यालयस्य मुस्लिम छात्राणाम् एकस्य वर्गस्य याचिका निरस्तम् कृतवन्तः !

कर्नाटक हाईकोर्ट ने स्कूल और कॉलेज के क्लास में हिजाब पहनने की अनुमति देने का अनुरोध करने वाली उडुपी में गवर्नमेंट प्री-यूनिवर्सिटी गर्ल्स कॉलेज की मुस्लिम छात्राओं के एक वर्ग की अर्जी खारिज कर दी !

त्रयाणां न्यायाधिशानां पीठम् कथिता: तत विद्यालयं विद्यालयीपरिधानमावश्यकमस्ति संवैधानिक रूपेण च् स्वीकृतमस्ति यस्मिन् छात्रा: आपत्तिम् उत्थितुं न शक्नोन्ति ! न्यायालयं कथितं तत हिजाब धारणम् आवश्यकं धार्मिकप्रथा नास्ति ! छात्रा: विद्यालयी परिधानम् धारणेन वर्ज्य कर्तुं न शक्नुता: !

तीन जजों की बैंच ने कहा कि स्कूल यूनिफॉर्म जरूरी है और संवैधानिक रूप से स्वीकृत है जिस पर छात्राएं आपत्ति नहीं उठा सकती हैं ! कोर्ट ने कहा कि हिजाब पहनना जरूरी धार्मिक प्रथा नहीं है ! छात्राएं स्कूल यूनिफॉर्म पहनने से मना नहीं कर सकते !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

यत्राभवत् धूमयान दुर्घटना तत्र प्राप्त्वा पीएम मोदिन् कृतवान् स्थित्या: अवलोकनम् ! जहाँ हुई ट्रेन दुर्घटना वहाँ पहुँच कर PM मोदी ने लिया स्थिति का...

ओडिशायाः बालासोरे अभवत् भयावह धूमयान दुर्घटनायाः अनंतरम् प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदिन् घटनास्थले प्राप्तवान् ! राहत-कार्यम् पूर्णस्य अनंतरम् पीएम मोदिन्...

मंदिरस्य सोपाने किं तिष्ठति ? मंदिर की पैड़ी पर क्यों बैठते है ?

वृद्धा: कथयन्ति तत यदापि कश्चित मंदिरे दर्शनाय गच्छतु तु दर्शनस्यानंतरम् बहिः आगत्य मंदिरस्य सोपाने किंचित काळम् तिष्ठन्ति, किं...

यत्र साहिल खान: कृतवान् साक्ष्या: हनन, तत्रस्य वास्तविक स्थितिम् ! जहाँ साहिल खान ने की साक्षी की हत्या, वहाँ की जमीनी हकीकत !

देश श्रद्धा हनन प्रकरणम् विस्मृतमपि न तत तस्मात् पूर्वमेव राजधानी देहल्यां १६ वर्षीया बालिका साक्ष्याः हनन पुनः पूर्ण...

कैलाश पर्वतस्य चंद्रस्य च् रहस्यम् ! कैलाश पर्वत और चंद्रमा का रहस्य !

कैलाश पर्वतं एकं असिद्ध रहस्यमस्ति, कैलाश पर्वतस्य एतै: रहस्यै: नासापि विस्मित: अभवत्, कैलाश पर्वतं, अस्य ऐतिहासिक पर्वतं अद्यैव...