कृषि विधेयकेषु विपक्षस्य पाखंडस्य रहस्यम् उद्घाटिष्यामि-शिवराज सिंह चौहान: ! कृषि कानूनों पर विपक्ष के पाखंड का पर्दाफाश करूंगा-शिवराज सिंह चौहान !

0
176

फोटो साभार गूगल

मध्यप्रदेशस्य मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान: नव कृषि विधेयकानां विरोधम् कर्तानि राजनीतिक दलेषु सोमवासरम् लक्ष्यम् लक्ष्यतु ! चौहान: पूर्व कृषिमंत्री शरद पवारस्य एकं पत्रम् परिदृष्यत: अकथयत् तत वर्ष २०११ तमे राकांपा प्रमुखः एपीएसपी विधेयके परिवर्तनाय सः पत्रम् अलिखत् स्म !

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नए कृषि कानूनों का विरोध करने वाले राजनीतिक दलों पर सोमवार को निशाना साधा ! चौहान ने पूर्व कृषि मंत्री शरद पवार का एक पत्र दिखाते हुए कहा कि साल 2011 में राकांपा प्रमुख ने एपीएसपी कानून में बदलाव के लिए उन्हें पत्र लिखा था !

मुख्यमंत्री: अकथयत् तत सरकार: कृषकै: सह स्थितमस्ति सः च् तस्य पीड़ानां हलं निःसर्ष्यते !चौहान: अकथयत् तत कृषक प्रदर्शनस्य नामे देशे अराजकतां प्रसारस्य प्रयत्नं कृतानि जनैः सह सरकार: कटुप्रकारेण निर्वहष्यते !

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों के साथ खड़ी है और वह उनकी समस्याओं का हल निकालेगी ! चौहान ने कहा कि किसान प्रदर्शन के नाम पर देश में अराजकता फैलाने की कोशिश करने वाले लोगों के साथ सरकार कड़ाई से निपटेगी !

चौहान: अकथयत् अहम् कृषि विधेयकेषु अद्य डीएमके,आप,सपा,अकाली दल,टीएमसी,वाम दलै: सह कांग्रेसस्य पाखंडस्य रहस्यम् उद्घाटिष्यामि ! कांग्रेसस्य नौका अपकृष्यति, अतएव ते कृषकानि पथभ्रष्टित्वा स्वयम् रक्षस्य प्रयत्नं करोति ! शरद पवार: २०११ तमे मह्यं पत्रमलिखत् स्म !

चौहान ने कहा मैं कृषि कानूनों पर आज डीएमके, आप, सपा, अकाली दल, टीएमसी,वाम दलों सहित कांग्रेस के पाखंड का पर्दाफाश करूंगा ! कांग्रेस की नाव डूब रही है,इसलिए वे किसानों को गुमराह कर खुद को बचाने की कोशिश कर रहे हैं ! शरद पवार ने 2011 में मुझे पत्र लिखा था !

इति पत्रे सः अकथयत् तत मॉडल एपीएमसी विधेयकस्य रूपे एपीएमसी विधेयके परिवर्तनं कृतस्य आवश्यक्तामस्ति कुत्रचित मार्केटिंग, कृषियाः वास्तविक सुविधानि वृद्धये स्वयत्त क्षेत्रस्य अंशयम् अवृद्धयेत् ! पत्रे सः कृषियाः, विपणनस्य,उपभोक्तायाः कृषकानां च् हिते पगम् उत्थायस्य वार्ताम् अकथ्यते स्म !

इस पत्र में उन्होंने कहा कि मॉडल एपीएमसी कानून की तर्ज पर एपीएमसी एक्ट में बदलाव करने की जरूरत है क्योंकि मार्केटिंग,कृषि की बुनियादी सुविधाओं को बढ़ाने में निजी क्षेत्र की हिस्सेदारी बढ़ाई जा सके ! पत्र में उन्होंने कृषि व्यापार, उपभोक्ता एवं किसानों के हित में कदम उठाने की बात कही गई थी !

मुख्यमंत्री: अकथयत् सरकार: कृषकै: सह स्थितमस्ति ! सः कृषकानां सन्देहम् द्रुतः इति प्रकरणस्य हलं निष्काष्यते ! कृषकः प्रदर्शनस्य नामे केचन तत्व देशे अराजकतां उत्पाद्यस्य प्रयत्नं कृतशक्नोति ! अहम् विधि हस्ते गृहितानां विरुद्धम् तीक्ष्ण कार्यवाहिम् करिष्यामि !

मुख्यमंत्री ने कहा सरकार किसानों के साथ खड़ी है ! वह किसानों के संदेह को दूर करते हुए इस मसले का हल निकालेगी ! किसान प्रदर्शन के नाम पर कुछ तत्व देश में अराजकता पैदा करने की कोशिश कर सकते हैं ! हम कानून हाथ में लेने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे !

ज्ञापयतु तत कृषका: त्रय नव कृषिसुधार इति विधेयकानां विरुद्धम् इंद्रप्रस्थ सीमायाम् प्रदर्शनं कुर्वन्ति ! अद्य सः सम्पूर्ण भारत बंद इत्यस्य आह्वानं कृतवान ! इति बंद इतम् लगभगम् सम्पूर्ण विपक्षस्य समर्थनं प्राप्तमस्ति !

बता दें कि किसान तीन नए कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं ! आज उन्होंने देशव्यापी भारत बंद का आह्वान किया है। इस बंद को करीब-करीब पूरे विपक्ष का समर्थन हासिल है !

कृषकानां बंद इतम् पश्यतः केंद्र सरकारः सर्वाणि प्रदेशानि राज्य सर्काराणि दिशानिर्देशं निस्सरणं कृतवान ! इन्द्रप्रस्थे अद्य सर्वाणि आपणानि अवरुद्धम् भविष्यति ! बंद इतम् पश्यतः मुंबईयाम् सुरक्षा व्यवस्थां बहु तीक्ष्ण अक्रियते ! इति मध्य,पंजाबस्य पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीम् पत्रमलिखत् !

किसानों के बंद को देखते हुए केंद्र सरकार ने सभी प्रदेशों एवं राज्य सरकारों को गाइडलाइन जारी किया है ! दिल्ली में आज सभी मंडिया बंद रहेंगी ! बंद को देखते हुए मुंबई में सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी गई है ! इस बीच,पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here