21.8 C
New Delhi

तर्हि महाराष्ट्रे तत्परभवन्ति नवराजनैतिक समीकरणं गडकरिन् कृतः राज ठाकरेतः मेलनम्, ज्ञापित: कुटुंबी मेलनम् ! तो महाराष्ट्र में तैयार हो रहे हैं नए सियासी समीकरण गडकरी ने की राज ठाकरे से मुलाकात, बताया पारिवारिक मुलाकात !

Date:

Share post:

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरिण: रविवासरम् महाराष्ट्र नवनिर्माण सेनायाः प्रमुख: राज ठाकरेतः मुम्बय्यां तस्यावासे मेलनम् कृतः ! इति गोष्ठिम् राजनैतिक रूपेणापि दर्शयति यद्यपि गडकरिन् इति प्रकारस्य भविष्यकथने विरामयन् येन एकं कुटुंबी मेलनम् ज्ञापित: !

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे से मुंबई में उनके आवास पर मुलाकात की ! इस बैठक को सियासी रूप से भी देखा जा रहा है हालांकि गडकरी ने इस तरह की अटकलों पर विराम लगाते हुए इसे एक पारिवारिक मुलाकात बताया !

इति मेलनस्यानंतरम् संवाददाताभि: वार्तालापे गडकरिन् मनसे प्रमुखस्य कुटुंबेण सह स्वपुरातन संबंधान् प्रति इंगितकृतन् कथित: तत सः तस्य निमंत्रणे तस्य गृहमागतमासीत् ! गडकरिन् कथित: इदम् एकं राजनीतिकगोष्ठिम् नासीत् !

इस मुलाकात के बाद संवाददाताओं से बातचीत में गडकरी ने मनसे प्रमुख के परिवार के साथ अपने पुराने संबंधों की ओर इशारा करते हुए कहा कि वह उनके निमंत्रण पर उनके घर आए थे ! गडकरी ने कहा यह एक राजनीतिक बैठक नहीं थी !

राज ठाकरे इत्या तस्यकुटुंबस्य सदस्यै: सह ३० वर्षतः मम साधुसंबंधम् सन्ति ! अहम् तस्य नवगृहम् दर्शनस्य तस्य मातु: च् स्वास्थ्य ज्ञातुं आगत: स्म ! इदम् एकं कुटुंबी मेलनमासीत्, राजनैतिकम् न !

राज ठाकरे और उनके परिवार के सदस्यों के साथ 30 साल से मेरे अच्छे संबंध हैं ! मैं उनका नया घर देखने और उनकी मां का हाल जानने आया था ! यह एक पारिवारिक मुलाकात थी, राजनीतिक नहीं !

वस्तुतः इदम् मेलनम् तदाभवत् यदा गोष्ठ्याः एकं दिवसं पूर्वमेव ठाकरे महाराष्ट्रसर्वकारेण मस्जिदेभ्यः लाउडस्पीकर निर्वर्तम् कथित: मस्जिदानां च् संमुखं संमुखम् लाउडस्पीकर स्थापस्य हनुमान चालीसा च् वादनस्याह्वेयताम् दत्त: !

दरअसल यह मुलाकात तब हुई है जब बैठक के एक दिन पहले ही ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार से मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने को कहा और मस्जिदों के सामने लाउडस्पीकर लगाने और हनुमान चालीसा बजाने की चेतावनी दी !

राज ठाकरे शनिवासरम् मुम्बय्यां मनसे इत्या: गुड़ी पड़वा रैल्यां कथित: स्म, मस्जिदेषु लाउडस्पीकर इयत् तीव्रस्वरे किं वाद्यन्ते ? यदि येन नावरोधितं तर्हि मस्जिदानां बाह्य ध्वनियंत्रे तस्मात् तीव्रस्वरे हनुमान चालीसा इति वादिष्यते !

राज ठाकरे ने शनिवार को मुंबई में मनसे की गुड़ी पड़वा रैली में कहा था, मस्जिदों में लाउडस्पीकर इतनी तेज आवाज में क्यों बजाए जाते हैं ? अगर इसे नहीं रोका गया तो मस्जिदों के बाहर स्पीकर पर उससे भी तेज आवाज में हनुमान चालीसा बजाया जाएगा !

राज ठाकरे इत्या मस्जिदान् लाउडस्पीकर इत्या: प्रयोगम् नकृतस्याह्वेयतायाः एकं दिवसमनंतरम् रविवासरम् तस्य दलस्य कार्यकर्ता: ठाणे जनपदस्य कल्याण क्षेत्रे दलीयकार्यालयस्य संमुखम् लाउडस्पीकर इत्यां हनुमान चालीसा इति वादिता: !

राज ठाकरे द्वारा मस्जिदों को लाउडस्पीकर का इस्तेमाल नहीं करने की चेतावनी दिए जाने के एक दिन बाद रविवार को उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ठाणे जिले के कल्याण कस्बे में पार्टी कार्यालय के सामने लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

जोधपुरस्य सर्वकारी विद्यालये हिजाब धारणे संलग्ना: छात्रा: ! जोधपुर के सरकारी स्कूल में हिजाब पहनने पर अड़ी छात्राएँ !

राजस्थानस्य जोधपुरे हिजाब इतम् गृहीत्वा प्रश्नं अभवत् ! सर्वकारी विद्यालये छात्रा: हिजाब धारणे गृहीत्वा संलग्नवत्य:, तु तेषां परिजना:...

मेलकम् दर्शनमगच्छन् हिंदू महिला: शमीम: सदरुद्दीन: चताडताम्, उदरे अकुर्वताम् पादघातम् ! मेला देखने गईं हिन्दू महिलाओं को शमीम और सदरुद्दीन ने पीटा, पेट पर...

उत्तरप्रदेशस्य फर्रुखाबाद जनपदे एकः हिंदू युवके, तस्य मातरि भगिन्यां च् घातस्य वार्ता अस्ति ! घातस्यारोपम् शमीमेण सदरुद्दीनेण च्...

हल्द्वानी हिंसायां आहूय-आहूय हिंदू वार्ताहरेषु अभवन् घातम् ! ऑपइंडिया इत्यस्य ग्राउंड सूचनायां रहस्योद्घाटनम् ! हल्द्वानी हिंसा में चुन-चुन कर हिंदू पत्रकारों पर हुआ हमला...

उत्तराखंडस्य हल्द्वानी हिंसायां उत्पातकाः आरक्षक प्रशासनस्यातिरिक्तं घटनायाः रिपोर्टिंग कुर्वन्ति हिंदू वार्ताहरानपि स्वलक्ष्यमकुर्वन् स्म ! ते आहूय-आहूय वार्ताहरेषु घातमकुर्वन्...

हल्द्वान्यां आहतानां सुश्रुषायै अग्रमागतवत् बजरंग दलम् ! हल्द्वानी में घायलों की सेवा के लिए आगे आया बजरंग दल !

हल्द्वान्यां अवैध मदरसा-मस्जिदम् न्यायालयस्य आज्ञायाः अनंतरम् प्रशासनम् धराभीम गृहीत्वा ध्वस्तकर्तुं प्राप्तवत् तु सम्मर्द: उग्राभवन् ! प्रस्तर घातमकुर्वन्, गुलिकाघातमकुर्वन्,...