पकिस्तान प्रीतिभ्यः जागृतकः साधु कथानकं ! पाकिस्तान प्रेमियों के लिए आंख खोलने वाली अच्छी कहानी !

0
715

विगताष्टादश वर्षात् पकिस्तानस्य कारागारेषु अवरुद्धस्यानंतरम् महाराष्ट्रस्य औरंगाबादस्य ६५ वर्षीया हसीना बेगमस्य स्वदेश आगमनम् अभवत् ! सा भर्तायाः संबंधभिः सह मेलनाय पकिस्तान गता स्म !

बीते 18 साल से पाकिस्‍तान की जेलों में बंद रहने के बाद महाराष्‍ट्र के औरंगाबाद की 65 वर्षीया हसीना बेगम की वतन वापसी हुई है ! वह पति के रिश्‍तेदारों से मिलने के लिए पाकिस्तान गई थी !

तु पुनः तस्या: पारपत्रम् लुप्ता,यस्यानंतरम् स्थानीय प्रशासनम् तया कारागारे अवरुद्धा स्म ! कुत्रचित सा सततं कथ्यते तत सा निर्दोषम् सन्ति,तु पकिस्ताने विगत लगभगम् द्वयो दशकयो तस्या: एकम् न शृणुतम् !

लेकिन फिर उनका पासपोर्ट खो गया,जिसके बाद स्‍थानीय प्रशासन ने उन्‍हें जेल में डाल दिया था ! हालांकि वह लगातार कहती रहीं कि वह निर्दोष हैं,पर पाकिस्‍तान में बीते करीब दो दशकों में उनकी एक न सुनी गई !

हसीना बेगम भौमवासरम् पकिस्तानात् भारतं प्राप्ता ! औरंगाबादे स्थानीय आरक्षकः तस्या: सम्बंधिना च् तस्या: स्वागतम् कृता !

हसीना बेगम मंगलवार को पाकिस्‍तान से भारत पहुंचीं ! औरंगाबाद में स्‍थानीय पुलिस और उनके रिश्‍तेदारों ने उनका स्‍वागत किया !

सः अबदा तत विगत १८ वर्षम् पकिस्तानस्य कारागारेषु वसमानः तस्या: दिवसं कति संकटयुक्तासन् प्रत्येकक्षण च् कीदृशं व्यतीता !

उन्‍होंने बताया कि बीते 18 साल पाकिस्‍तान की जेलों में रहते हुए उनके दिन कितने मुश्किल भरे थे और एक-एक क्षण कैसे बीता !

स्व देशे आगत्वा सम्प्रति सा लाघवम् अनुभूयति अयम् सर्वाणि च् तया स्वर्गे आगमने यथा अनुभूति करायति ! पकिस्तानात् १८ वर्षाणि अनंतरम् आवृत्ति हसीना बेगम कथिता अहम् बहु संकटै: निस्सरता !

अपने देश में आकर अब वह सुकून महसूस कर रही हैं और यह सब उन्‍हें स्‍वर्ग में आने जैसा एहसास करा रहा है ! पाकिस्‍तान से 18 साल बाद लौटीं हसीना बेगम ने कहा मैं बहुत मुकिश्‍लों से गुजरी !

स्वदेशम् आवृत्त्या: अनंतरम् सम्प्रति मह्यं लाघवम् अनुभूयति ! मह्यं अनुभूयामि तत अहम् स्वर्गैस्मि ! मह्यं पकिस्ताने बलात् अवरुद्धम् कृता स्म !

अपने वतन लौटने के बाद अब मुझे सुकून महसूस हो रहा है ! मुझे लग रहा है कि मैं स्‍वर्ग में हूँ ! मुझे पाकिस्‍तान में जबरन कैद कर लिया गया था !

सः इति प्रकरणे अभियोग पंजीकृतं तस्या: च् स्वदेशम् आवृत्ति सुनिश्चताय औरंगाबादारक्षकम् अपि साधुवादम् दत्ता !

उन्‍होंने इस मामले में रिपोर्ट दर्ज करने और उनकी वतन वापसी सुनिश्चित करने के लिए औरंगाबाद पुलिस को भी धन्‍यवाद दिया !

लभ्धाभिज्ञानस्यानुरूपम्,औरंगाबादे नगरचौक आरक्षकस्थानस्यांतर्गत राशिदपुरायाः वासिन् हसीना बेगमस्य पाणिग्रहण उत्तरप्रदेशस्य सहारनपुर वासिन् दिलशाद अहमदेन अभवत् स्म,यस्य केचन संबंधी पकिस्ताने वसन्ति !

प्राप्‍त जानकारी के मुताबिक,औरंगाबाद में सिटी चौक पुलिस स्‍टेशन के अंतर्गत राश‍िदपुरा की रहने वाली हसीना बेगम की शादी उत्‍तर प्रदेश के सहारनपुर निवासी दिलशाद अहमद से हुई थी,जिनके कुछ रिश्‍तेदार पाकिस्‍तान में रहते हैं !

हसीना बेगम तैव मेलनाय पकिस्तान गता स्म, तु तत्र तस्या: पारपत्रम् लुप्यता तया च् कारागारे अक्षिपता ! स्वयमस्य निर्दोषम् गृहित्वा सा बहु तर्कानि दत्ता,तु पकिस्ताने तस्या: एकम् न शृणुम् !

हसीना बेगम उन्‍हीं से मिलने के लिए पाकिस्‍तान गई थीं,लेकिन वहां उनका पासपोर्ट खो गया और उन्‍हें जेल में डाल दिया गया ! खुद के निर्दोष होने को लेकर उन्‍होंने लाख दलीलें दीं,पर पाकिस्‍तान में उनकी एक न सुनी गई !

हसीना बेगमस्य स्वदेश आगमनाय भविता प्रयासानां अनुरूपम् औरंगाबाद आरक्षकः पकिस्तानम् अयम् सूचनां दत्तम् स्म तत सा औरंगाबादस्य वासिन् सन्ति नगरचौक आरक्षक स्थानस्यांतर्गत तस्या: नामे एकम् भवनमपि अस्ति !

हसीना बेगम की वतन वापसी के लिए हो रहे प्रयासों के तहत औरंगाबाद पुलिस ने पाकिस्‍तान को यह सूचना दी थी कि वह औरंगाबाद की रहने वाली हैं और सिटी चौक पुलिस स्‍टेशन के अंतर्गत उनके नाम पर एक मकान भी है !

हसीना बेगमम् विगत सप्ताह पकिस्तानस्य कारागारात् मुक्तयते स्म,यस्यानंतरम् तया भारतीय अधिकारीनां विनियोजयतम् भौमवासरम् च् अंततः तस्या: स्वदेशावृत्ति भवितुमशक्नुते !

हसीना बेगम को बीते सप्‍ताह पाकिस्‍तान की जेल से रिहा किया गया था,जिसके बाद उन्‍हें भारतीय अधिकारियों के हवाले कर दिया गया और मंगलवार को आखिरकार उनकी वतन वापसी हो सकी !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here