28.1 C
New Delhi
Tuesday, June 15, 2021

भारतस्य सहाय्याय २० तः अधिकं देशानि आगतानि अग्रम् ! भारत की मदद के लिए 20 से ज्यादा देश आए आगे !

Must read

कोरोना महामारी तः असाधु प्रकारमावृत: भारतस्य सहाय्याय अमेरिकाया सह विश्वस्य लगभगम् २० देशानि संमुखमागतानि ! अमेरिका कथितः तत संकटस्य इति काले तः भारतेन सहास्ति !

कोरोना महामारी से बुरी तरह घिर चुके भारत की मदद करने के लिए अमरिका सहित दुनिया के करीब 20 देश सामने आए हैं ! अमेरिका ने कहा है कि संकट की इस घड़ी में वह भारत के साथ है !

तः भारतं १० कोटि डॉलर इत्येनाधिकस्य चिकित्सीय सामग्र्यामापूर्ति करोति ! ह्वाइट हाउस कथितः तत इदमापूर्ति अग्रिम् केचन दिवसानि एव भारतं निरंतरिष्यते !

वह भारत को 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा की मेडिकल सामग्री की आपूर्ति कर रहा है ! ह्वाइट हाउस ने कहा है कि यह आपूर्ति अगले कुछ दिनों तक भारत को जारी रहेगी !

ह्वाइट हाउस कथितः तत तत्क्षणापात कोविड- १९ राहतस्यानुरूपम् तः भारतं १७०० प्राणवायु कंसेंट्रेटर्स, ११०० सिलेंडर लार्ज स्केल प्राणवायु जेनरेशन यूनिट्स च् प्रेषयति !

ह्वाइट हाउस ने कहा है कि तत्काल आपात कोविड-19 राहत के तहत वह भारत को 1700 ऑक्सीजन कन्सेंट्रेटर्स, 1100 सिलेंडर और लार्ज स्केल ऑक्सीजन जेनरेशन यूनिट्स भेज रहा है !

ह्वाइट हाउस कथितः तत चिकित्सीय राहत सामग्री २९ अप्रैल तः भारत प्राप्तुमारंभिष्यते इदम् चग्रिम् सप्ताहैव निरंतरिष्यते !

ह्वाइट हाउस ने कहा कि मेडिकल राहत सामग्री 29 अप्रैल से भारत पहुंचनी शुरू हो जाएगी और यह अगले सप्ताह तक जारी रहेगी !

बाइडेन प्रशासनं प्रत्येन बुधवासरम् प्रस्तुत फैक्ट शीट इत्यस्यानुरूपम् अमेरिका स्वस्मै निर्मितं एस्ट्राजेनेका इत्यस्य कोरोना टीकाम् भारत प्रेषणस्य निर्देशित: !

बाइडेन प्रशासन की तरफ से बुधवार को जारी फैक्ट शीट के मुताबिक अमेरिका ने अपने लिए तैयार हो रहे एस्ट्राजेनेका के कोरोना टीके को भारत भेजने का निर्देश दिया है !

ह्वाइट हाउस कथितः तत कोरोना संकटस्य चिनोतिभिः निर्वहनाय अमेरिका भारत च् मेलित्वा कार्यम् कृतवान !

ह्वाइट हाउस ने कहा है कि कोरोना संकट की चुनौतियों से निपटने के लिए अमेरिका और भारत ने मिलकर काम किया है !

चिकित्सीय सामग्र्या: अतिरिक्त अमेरिका भारत १५ कोटि एन-९५ मास्क प्रेषणस्य निर्णयम् कृतवान ! अस्यातिरिक्त अमेरिका १० लक्ष रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट इति भारतं उपलब्धम् करिष्यते !

मेडिकल सामग्री के अलावा अमेरिका ने भारत 15 करोड़ एन-95 मास्क भेजने का फैसला किया है ! इसके अलावा अमेरिका 10 लाख रैपिड डॉयग्नोस्टिक टेस्ट भारत को उपलब्ध कराएगा !

कोरोना संकटस्य कालम् भारतस्य सहाय्याय अधुनैव २० तः अधिकं देशानि संमुखम् आगतानि ! भूटान इति प्राणवायो: आपूर्ति कृतस्य प्रस्तावम् कृतं !

कोरोना संकट के समय भारत की मदद के लिए अब तक 20 से ज्यादा देश सामने आ चुके हैं ! भूटान ने ऑक्सीजन की आपूर्ति करने की पेशकश की है !

अमेरिका अग्रिम् मास एस्ट्राजेनेकायाः टीकान् प्रेषितुम् शक्नोति !इति कालम् अमेरिका,ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, रूस, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लक्जमबर्ग !

अमेरिका अगले महीने एस्ट्राजेनेका के टीके को भेज सकता है ! इस समय अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, रूस, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लक्जमबर्ग !

पुर्तगाल, स्वीडन, ऑस्ट्रेलिया, भूटान, सिंगापुर, सऊदी अरब, हांगकांग, थाईलैंड, फिनलैंड, स्विट्जरलैंड, नॉर्वे इटली यूएई च् चिकित्सीय सहाय्य भारतं प्रेषयन्ति !

पुर्तगाल, स्वीडन, ऑस्ट्रेलिया, भूटान, सिंगापुर, सऊदी अरब, हांग कांग, थाइलैंड, फिनलैंड, स्विटजरलैंड, नार्वे, इटली और यूएई मेडिकल सहायता भारत भेज रहे हैं !

दक्षिणकोरिया कथितः तत तः भारतस्य सहाय्याय प्राणवायो: संकेंद्रक, कोविड-१९ इत्यस्य उपचारे प्रयोग भवक: किट अन्य च् चिकित्सीय सामग्र्या: आपूर्ति कारिष्यति !

दक्षिण कोरिया ने कहा है कि वह भारत की मदद के लिए ऑक्सीजन संकेंद्रक, कोविड-19 के उपचार में इस्तेमाल होने वाली किट और अन्य चिकित्सकीय सामग्री की आपूर्ति करेगा !

विश्वे कोरोना विषाणु संक्रमणस्य तीव्रताया प्रसारस्य कारणेन भारत सर्वात् असाधु प्रकारम् प्रभावित: अस्ति !

दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से प्रसार के लिहाज से भारत सबसे बुरी तरह प्रभावित है !

दक्षिण कोरियायाः स्वास्थ्याधिकारी युनताएहो बुधवासरम् कथितः तत सर्वकारः भारतेन दक्षिण कोरियायाः नागरिकान् पुनर्नियाय केचन उड्डयनानां आज्ञाम् दत्तम् !

दक्षिण कोरिया के स्वास्थ्य अधिकारी यून ताएहो ने बुधवार को कहा कि सरकार ने भारत से दक्षिण कोरिया के नागरिकों को वापस लाने के लिए कुछ उड़ानों की अनुमति दी है !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article