बॉलीवुड इतम् स्वविलासितायाः क्षतिपूर्तिं सर्वकारेण वांछनीयं ? बॉलीवुड को अपनी अय्याशी की क्षतिपूर्ति सरकार से चाहिए ?

0
140

मुम्बै: स्थितं निर्माता: गिल्ड ऑफ इंडिया भारत सर्वकारेण विशेष सहाय्यस्य याचनाकृतमस्ति ! संस्थायाः अनुसारम् कोविड इतस्य द्वयो वर्षयो हिंदी चलचित्रोद्योगमशीति प्रतिशतमैवस्य आर्थिक क्षतिम् अभवत् ! बॉलीवुड इतस्यानुसारम् तेन २०२०-२१ तमे लगभगम् २१००० कोट्याः क्षतिमभवत् !

मुंबई स्थित प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने भारत सरकार से विशेष पैकेज की मांग की है ! संस्था के अनुसार कोविड के दो वर्षों में हिन्दी फिल्म उद्योग को अस्सी प्रतिशत तक की आर्थिक क्षति हुई है ! बॉलीवुड के अनुसार उसे 2020-2021 में लगभग 21000 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है !

इति क्षतिपूर्तये हिंदी चलचित्रोद्योगम् सर्वकारेण आर्थिक सहाय्य वांछति ! उल्लेखनीयमस्ति तत कश्चितान्य भाषायां चलचित्रोद्योगमधुनैव इदृशैव याचना न उत्थितं ! प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया स्वम् भारतस्य संस्थाम् ज्ञापयति तु कार्यम् केवलं हिंदी चलचित्राणां साधुताय करोति !

इस क्षतिपूर्ति के लिए हिन्दी फिल्म उद्योग सरकार से आर्थिक सहायता चाहता है ! उल्लेखनीय है कि किसी और भाषाई सिनेमा उद्योग ने अब तक ऐसी मांग नहीं उठाई है ! प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया स्वयं को भारत की संस्था बताता है किन्तु कार्य केवल हिन्दी फिल्मों की बेहतरी के लिए करता है !

२०१९ तमस्य अंतिम मासे कोविडस्य कारणम् चलचित्रगृहानि अवरुद्धस्यारंभभवितं स्म ! अपितु तत वर्षम् हिंदी चलचित्राणि सम्यक् वाणिज्यं कृतं स्म ! यस्यानंतरस्य द्वे वर्षे हिंदी चलचित्रान् भयावह आर्थिक संकटमभवताम् ! यद्यपि इमानि आर्थिक संकटम् कति वास्तविकमस्ति कति निर्मितुं अभवत्, इमानि दर्शितुमावश्यकम् भविष्यति !

2019 के अंतिम माह में कोविड के कारण सिनेमाघर बंद होने की शुरुआत हो चुकी थी, अपितु उस वर्ष हिन्दी फिल्मों ने अच्छा व्यवसाय किया था ! इसके बाद के दो वर्ष हिन्दी फिल्मों को भयंकर आर्थिक झटका दे गए ! हालाँकि ये आर्थिक झटका कितना वास्तविक है ! कितना बनाया हुआ, ये देखना आवश्यक होगा !

हिंदी चलचित्रोद्योगम् कथ्यति तत तेन वर्षम् २०२० तमे अष्ट सहस्र कोट्याः क्षतिमभवत् ! वृहत् कलाकारान् कोट्यः दत्वा चलचित्रम् महामूल्यं कृतं ! कोरोनायाः कारणं चलचित्रगृहे इव चलचित्रम् प्रस्तुतस्य दुर्ग्रहे चलचित्रमवरोधितं तस्मिन् च् भागम् चरितुं दत्तं !

हिन्दी फिल्म उद्योग कहता है कि उसे वर्ष 2020 में आठ हजार करोड़ की क्षति हुई है ! बड़े सितारों को करोड़ों देकर फिल्म को ओवरबजट करना ! कोरोना के चलते थियेटर में ही फिल्म को रिलीज करने के हठ में फिल्म को अटकाए रखना और उस पर ब्याज चलने देना !

यदि भवन्त: अक्षय कुमार एकस्य दिवसस्य एकं कोटिम् ऋणदानं कुर्वन्ति पुनः च् इति वार्ताय रुदन्ति तताष्ट सहस्र कोट्या: क्षतिमभवत् तर्हि भवताम् रुदनं नैतिकं कथितुं न शक्नुतं ! प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ इंडिया द्वयो वर्षयो आर्थिक क्षतिम् तर्हि ज्ञापितं !

यदि आप अक्षय कुमार को एक दिन का एक करोड़ भुगतान करते हैं और फिर इस बात के लिए रोते हैं कि आठ हजार करोड़ का फटका लग गया तो आपका रुदन नैतिक नहीं कहा जा सकता ! प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ इंडिया ने दो वर्ष का आर्थिक नुकसान तो बता दिया !

तु इदम् न ज्ञापितं तत विगत द्वयो वर्षयो बॉलीवुड ओटीटी इत्येन यतायं ळब्धमस्ति, तस्य काभवत् ? का बॉलीवुड पूर्व द्वयो वर्षयो दूरदर्शने चलचित्राणि न चालितं ? का सः स्व संगीताधिकारमन्य संस्थान् न विक्रयं ?

लेकिन ये नहीं बताया कि विगत दो वर्ष में बॉलीवुड ने ओटीटी से जो आय प्राप्त की है, उसका क्या हुआ ? क्या बॉलीवुड ने पिछले दो वर्षों में टीवी पर फिल्में नहीं चलाई ? क्या उन्होंने अपने संगीत अधिकार अन्य कंपनियों को नहीं बेचे ?

यदि भवन्तः स्व मुख्याभिनेताम्/अभिनेत्रिम् चलचित्रस्य व्ययस्य एकचतुर्थम् ऋणदानम् कलायाः शुल्कस्य रूपे कुर्वन्ते तर्हि यस्य ऋणदानं सर्वकारम् विशेषसहाय्यं दत्वा किं करणीयं ? केंद्र सर्वकारः देशस्य चलचित्रोद्योगम् सत्ये उद्योगस्य स्थितिं २०२१ तमे इव प्रदत्तम् स्म !

यदि आप अपने मुख्य अभिनेता/अभिनेत्री को फिल्म के बजट का चौथाई भुगतान एक्टिंग फीस के रुप में कर देते हैं तो इसका भुगतान सरकार को विशेष पैकेज देकर क्यों करना चाहिए ? केंद्र सरकार ने देश के फिल्म उद्योग को सच में उद्योग का दर्जा 2021 में ही प्रदान कर दिया था !

अद्य बॉलीवुड इत्ये सर्वातधिकं सहाय्यस्यावश्यकतां न्यूनव्यये चलचित्राणि निर्मितैति चलचित्रनिर्मातान् सन्ति ! करण जौहर कैम्प, सलमान कैम्प, राकेश रोशन, यशराज फिल्म्स यथा धनिकगृहान् आर्थिक सहाय्यं सर्वकारः किं दाष्यति ? प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ इंडिया जीएसटी न्यूनकृतस्य रुदनम् रुदन्ति !

आज बॉलीवुड में सबसे अधिक सहायता की आवश्यकता कम बजट में फिल्में बना रहे फिल्मकारों को है ! करण जौहर कैम्प, सलमान कैम्प, राकेश रोशन, यशराज फिल्म्स जैसे धनवान घरानों को आर्थिक सहायता सरकार क्यों देगी ? प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ इंडिया जीएसटी कट का रोना रो रहे हैं !

तै: प्रश्नम् भवनीयः तत दक्षिण भारतीय चलचित्रमपि समस्त करदत्तस्य बाध्यतास्ति, पुनः तस्यार्थम् बर्धितुं कीदृशं गतं ? एकं विषाणु भवतः आर्थिक क्षतिम् दत्तं तु तेन टॉलीवुड इतम् क्षतिम् न दत्तं, कौपहासं चरति ! प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया तत सत्याग्रहं कीदृशानि विस्मृतं !

उनसे प्रश्न होना चाहिए कि दक्षिण भारतीय सिनेमा को भी सारे कर देने की बाध्यता है, फिर उनका रेवेन्यू बढ़ता कैसे गया ? एक वायरस आपको आर्थिक क्षति पहुंचा गया लेकिन उसने टॉलीवुड को बख्श दिया, क्या मज़ाक चल रहा है ! प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया उस सत्याग्रह को कैसे भूल गया !

यत् भारतस्य दर्शका: बॉलीवुड इतस्य विरुद्धम् स्थितुं कृता: ! सुशांत सिंह राजपूतस्य संदिग्ध हननम् तस्यानंतरम् च् बॉलीवुड इत्ये दीर्घरूपे ड्रग्स इतस्य वाणिज्यस्याभिज्ञानमभवत् कैति आर्थिक क्षत्या: कारणम् न मान्यिष्यते ? तान् स्वविलासितायाः क्षतिपूर्तिम् सर्वकारेण वांछनीयं !

जो भारत के दर्शकों ने बॉलीवुड के विरुद्ध खड़ा किया था ! सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध हत्या और उसके बाद बॉलीवुड में बड़े पैमाने पर ड्रग्स के कारोबार का पता चलना क्या इस आर्थिक नुकसान का कारण नहीं माना जाएगा ? उनको अपनी अय्याशी की क्षतिपूर्ति सरकार से चाहिए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here