42.9 C
New Delhi

अन्ना: पीएम मोदीम् पुनः अलिखत् पत्रम् ! अन्ना ने PM मोदी को फिर से लिखा पत्र !

Date:

Share post:

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे: गुरूवासरं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीम् एकम् पत्रमलिखत् स्व निर्णयम् चव्यावर्तयत् तत सः जनवरी इत्यस्य अंततः इंद्रप्रस्थे कृषकाणाम् सन्दर्भे अन्त्यानशनम् करिष्यति !

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक पत्र लिखा और अपना फैसला दोहराया कि वह जनवरी के अंत में दिल्ली में किसानों के मुद्दे पर अंतिम भूख हड़ताल करेंगे।

केंद्रस्य त्रय नव कृषि विधेयकानां विरुद्धम् इन्द्रप्रस्थस्य सीमाषु विभिन्न कृषक संगठनानां चरमानः आंदोलनस्य मध्य हजारे: इदम् पत्रम् अलिख्यते !

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर विभिन्न किसान संगठनों के जारी आंदोलन के बीच हजारे ने यह चिट्ठी लिखी है !

हजारे: अनंतरे संवाददातृभिः वार्तालापे अकथयत् तत नव कृषिविधेयकम् लोकतांत्रिक मूल्यानाम् अनुरूपम् न सन्ति विधेयकानां च् प्रारूप निर्माणे जनसम्भूयापेक्षितमस्ति !

हजारे ने बाद में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि नए कृषि कानून लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुरूप नहीं हैं और विधेयकों का मसौदा बनाने में जन भागीदारी जरूरी है !

हजारे: दिनांक अबदत् विनाकथ्यत् तत सः मासस्य अंततैव अनशनम् रप्स्यते ! १४ दिसंबर इतम् हजारे: केंद्रीय कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमरम् पत्रम् लिखित्वा प्रगेतनम् कृतः स्म तत कृषौ एम एस स्वामीनाथन आयोगस्य अनुशंसाभिः सह तस्य याचनानि न स्वीकृत: तर्हि सः अनशनम् करिष्यति !

हजारे ने तारीख बताए बिना कहा कि वह महीने के अंत तक उपवास शुरू करेंगे ! पिछले साल 14 दिसंबर को हजारे ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर आगाह किया था कि कृषि पर एम एस स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों समेत उनकी मांगें नहीं मानी गयीं तो वह भूख हड़ताल करेंगे !

सः कृषिव्ययम् मूल्याय च् आयोगम् स्वायत्तता प्रदत्तस्य याचनां कृतमस्ति ! हजारे: अकथयत् कृषकाणाम् सन्दर्भे अहम् (केंद्रेण सह) पंच वारम् पत्राचारं कृतवान तु कश्चित उत्तरं नागत: !

उन्होंने कृषि लागत और मूल्य के लिए आयोग को स्वायत्तता प्रदान करने की भी मांग की है ! हजारे ने कहा किसानों के मुद्दे पर मैंने (केंद्र के साथ) पांच बार पत्र व्यवहार किया लेकिन कोई जवाब नहीं आया !

हजारे: प्रधानमंत्रिणम् पत्रे अलिखत् इमम् कारणम् अहम् स्व जीवनस्य अंत्यानशने गमनस्य निर्णयम् कृतः !

हजारे ने प्रधानमंत्री को पत्र में लिखा है इस कारण मैंने अपने जीवन की अंतिम भूख हड़ताल पर जाने का फैसला किया है !

कार्यकर्ता: अकथयत् तत सः इन्द्रप्रस्थस्य रामलीलाक्षेत्रे स्वानशनाय संबंधित: प्राधिकारै: आज्ञायै चत्वारः पत्रम् अलिख्यते स्म तु एकस्यापि उत्तरं नागत: !

कार्यकर्ता ने कहा कि उन्होंने दिल्ली के रामलीला मैदान में अपनी भूख हड़ताल के लिए संबंधित प्राधिकारों से अनुमति के लिए चार पत्र लिखे थे लेकिन एक का भी जवाब नहीं आया !

वर्ष २०११ तमे भ्रष्टाचाररोधी अभियानस्य अग्रणी मुखमभवत् हजारे: अस्मरयते तत सः यदा रामलीला क्षेत्रे अनशनम् आरम्भम् कृतमस्ति तर्हि तत्कालीनम् संप्रग इति सर्कारम् संसदस्य विशेषसत्रमाहुतमक्रियते स्म !

वर्ष 2011 में भ्रष्टाचार रोधी मुहिम का अग्रणी चेहरा रहे हजारे ने याद दिलाया कि उन्होंने जब रामलीला मैदान में भूख हड़ताल शुरू की थी तो तत्कालीन संप्रग सरकार को संसद का विशेष सत्र आहूत करना पड़ा था !

सः अकथयत् तत् सत्रे भवान् भवतः च् वरिष्ट मंत्री मम प्रशंसाम् कृतमासीत् तु सम्प्रति याचनेषु लिखिताश्वासनम् दत्तस्यातिरिक्त भवान् तेन पूर्णम् न कुर्वन्ति !

उन्होंने कहा उस सत्र में आप और आपके वरिष्ट मंत्री (भाजपा उस समय विपक्ष में थी) ने मेरी प्रशंसा की थी लेकिन अब मांगों पर लिखित आश्वासन देने के बावजूद आप उन्हें पूरा नहीं कर रहे हैं !

अनंतरे एकः स्थानीय वार्ता स्रोतेन सह वार्ता कृतमानः हजारे: इन्द्रप्रस्थस्य सीमाषु कृषकाणाम् आन्दोलने अकथयत् तत विधेयकानां प्रारूप निर्माणस्य प्रक्रियायाम् जनान् सः सम्मिलितं भवनीया: !

बाद में एक स्थानीय समाचार चैनल के साथ बात करते हुए हजारे ने दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन पर कहा कि कानूनों का मसौदा तैयार करने की प्रक्रिया में लोगों को शामिल होना चाहिए।

सः अकथयत् इदम् (कृषि) विधेयकम् लोकतांत्रिक मूल्यानाम् अनुरूपम् नैव सन्ति ! यदि सरकारः विधेयकस्य प्रारूप निर्माणे जनानाम् सम्भूयस्याज्ञा ददाति,तर्हि सः इदृशं विधेयकम् निर्मिष्यते यथा जनः इच्छन्ति !

उन्होंने कहा ये (कृषि) कानून लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुरूप नहीं हैं ! अगर सरकार कानून का मसौदा तैयार करने में लोगों की भागीदारी की अनुमति देती है, तो वह ऐसे कानून बना पाएगी जैसे लोग चाहते हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

पाणिग्रहणस्य कुचक्रम् दत्वा भोपालतः केरलम् नयवान्, इस्लाम स्वीकरणस्य भारम् कर्तुम् अरभत् ! शादी का झाँसा दे भोपाल से केरल ले गया, इस्लाम कबूलने का...

मध्यप्रदेशस्य राजधानी भोपाल्-नगरस्य एका हिन्दु-बालिका विवाहस्य प्रलोभनेन राजा खान् इत्यनेन केरल-राज्यं नीतवती। कथितरूपेण, इस्लाम्-मतं स्वीकृत्य कल्मा-ग्रन्थं पठितुं दबावः...

कमल् भूत्वा, कामिल् एकः हिन्दु-बालिकाम् वशीकृतवान्, ततः एकवर्षं यावत् तां ब्ल्याक्मेल् कृत्वा यौनशोषणम् अकरोत्! कमल बनकर कामिल ने हिंदू लड़की को फँसाया, फिर ब्लैकमेल...

उत्तरप्रदेशस्य मुज़फ़्फ़र्नगर्-नगरस्य कामिल् नामकः मुस्लिम्-बालकः स्वस्य नाम मतं च प्रच्छन्नं कृत्वा इन्स्टाग्राम्-इत्यत्र हिन्दु-बालिकया सह मैत्रीम् अकरोत्। ततः सः...

यूरोपीय मीडिया भारतस्य विषये मिथ्या-वार्ताः प्रदर्शयन्ति-ब्रिटिश वार्ताहर: ! यूरोपीय मीडिया भारत के बारे में दिखाता है झूठी खबरें-ब्रिटिश पत्रकार !

पाश्चात्य मीडिया भारतं प्रति पक्षपाती सन्ति। सा केवलं तेभ्यः एव भारतस्य वार्ताभ्यः महत्त्वं ददति ये किंवदन्तीषु विश्वसन्ति! परन्तु,...

गुजरात सर्वकारस्यादेशानुसारं मदरसा भ्रमणार्थं शिक्षिकोपरि आक्रमणं जातम् ! गुजरात सरकार के आदेश पर मदरसे का सर्वे करने पहुँचे शिक्षक पर हमला !

गुजरात्-सर्वकारस्य आदेशात् परं अद्यात् (१८ मे २०२४) सम्पूर्णे राज्ये मद्रासा-सर्वेः आरब्धाः सन्ति। अत्रान्तरे अहमदाबाद्-नगरे मदरसा सर्वेक्षणस्य समये एकः...