कृषकै: वार्तालापाय सरकारः स्वछंदमनसा तत्पर:-राजनाथ सिंह: ! किसानों से बातचीत के लिए सरकार खुले मन से तैयार-राजनाथ सिंह !

0
312

नव कृषिविधेयकेषु कृषकदलानि केंद्र सर्कारस्य च् मध्य शुक्रवासरम् भवत: वार्तालापे परिणाम न निःसृत: ! कृषकदलानि कथ्यन्तु तत येन प्रकारेण कृषिमंत्री केवलं १५ पलस्य काल: दत्त: तापकारपूर्णमासीत् !

नए कृषि कानूनों पर किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच शुक्रवार को हुई बातचीत में नतीजा नहीं निकला ! किसान संगठनों ने कहा कि जिस तरह से कृषि मंत्री ने सिर्फ 15 मिनट का समय दिया वो अपमान जनक था !

एत सर्वेषां मध्य कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर: कथयतु तत सर्कारस्य प्रति उत्तम प्रस्तावम् दत्तवान सम्प्रति च् कृष्कान् एव विचारम् कृतमस्ति !

इन सबके बीच कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार की तरफ से उत्तम प्रस्ताव दिया गया और अब किसानों को ही विचार करना है !

एत सर्वेषाम् मध्य रक्षामंत्री राजनाथ सिंह: टाइम्स नाउ इत्यस्य पत्रकार नविका कुमारया बहु प्रकरणेषु विशेष वार्तालापम् कृतः यस्मिन् कृषकांदोलनस्य विषयमपि आसीत् !

इन सबके बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने टाइम्स नाउ की पत्रकार नविका कुमार से कई मुद्दों पर खास बातचीत की जिसमें किसान आंदोलन का विषय भी था !

एकस्य प्रश्नस्य उत्तरे रक्षामंत्री कथयतु तत कृषि विधेयकानां प्रकरणेषु पीएम नरेंद्र मोदे: मनसि संशयस्य कश्चित औचित्यं नास्ति ! कः सरकारः संसदे विधेयकानि पारितस्याधिकारिन् नास्ति ?

एक सवाल के जवाब में रक्षा मंत्री ने कहा कि कृषि कानूनों के मुद्दे पर पीएम नरेंद्र मोदी के नीयत पर शक करने का कोई औचित्य नहीं है ! क्या सरकार संसद में विधेयकों को पारित करने की हकदार नहीं है ?

संसदे परिचर्चा भवतः ! प्रश्नम् किं उत्थायन्ति ? इदम् विधेयकम् निश्चित रूपेण कृषकाणाम् पक्षे सन्ति ! मया कृषकै: सह १० चक्रस्य वार्तालापम् कृतः !

संसद में बहस हुई ! सवाल क्यों उठाए जा रहे हैं ? ये बिल निश्चित रूप से किसानों के पक्ष में हैं ! हमने किसानों के साथ 10 दौर की बातचीत की है !

मया सदैव कथयतु तत वयं त्रय कृषि विधेयकेषु एकम् खंडवारम् चर्चायै तत्पर: सन्ति यत् कृषिविधेयकानां समर्थनम् कुर्वन्ति ! मम अभिज्ञामस्ति तत विधेयकेषु चर्चायाः आवश्यक्तामस्ति !

हमने हमेशा कहा है कि हम 3 कृषि कानूनों पर एक खंडवार चर्चा के लिए तैयार हैं ! कई किसान यूनियनें हैं जो कृषि कानूनों का समर्थन कर रही हैं ! मेरा मानना है कि कानूनों पर चर्चा की आवश्यकता है !

सरकारः कृषकान् काल: दत्त:,यस्य कालम् विधेयकानि धास्यति वार्तालापम् च् चरिष्यति ! मया कृषकाणाम् दृष्टिकोणम् अवगमस्य सततं प्रयत्नम् कृतः !

सरकार ने किसानों को समय दिया है,जिसके दौरान कानूनों को रखा जाएगा और बातचीत चलेगी ! हमने किसानों के दृष्टिकोण को समझने की लगातार कोशिश की है !

प्रदर्शनकारिण: कृषकान् मम उपदेशमस्ति तत तै: सर्वोच्च न्यायालयेण गठित समित्या: सम्मुखम् गमनीया: ! मया कृषकान् अयम् प्रस्तावम् दत्त: तत वयं १८ मासेभ्यः कृषि विधेयकेषु अवरोधितुम् तत्पर: सन्ति !

प्रदर्शनकारी किसानों को मेरी सलाह है कि उन्हें SC द्वारा गठित समिति के समक्ष जाना चाहिए ! हमने किसानों को यह प्रस्ताव दिया है कि हम 18 महीने के लिए कृषि कानूनों पर रोक लगाने के लिए तैयार हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here