गणतंत्र दिवसस्य नामनि इदम् कीदृशं प्रदर्शनम् !गणतंत्र दिवस के नाम पर ये कैसा प्रदर्शन !

0
1110

नव कृषिविधेयकानां विरोधे कृषकाणाम् आन्दोलनम् लगभगम् द्वय मास पूर्णकानि सन्ति ! सरकारः कृषकाणाम् च् मध्य बहु कालस्य वार्तालापाभवन् तु अद्यैव कश्चित परिणाम न निःसृतुमशक्नुते !

नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन को करीब दो महीने पूरे होने वाले हैं ! सरकार और किसानों के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी हैं लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकल सका है !

प्रकरण सर्वोच्च न्यायालयैवापि प्राप्तम् तु पुन: अपि परिणाम निःसृतन् न परिलक्ष्यति ! तेषां सर्वेषाम् मध्य कृषकाः सम्प्रति २६ जनवरी इतम् प्रस्तावित ट्रैक्टर यात्रायाः तत्परतानि तीव्र कृतदा सन्ति ! इति मार्च इत्याय पंजाबे बहु स्थानेषु तत्परतानि तीव्रताभिः चरति यत् सरकारायापि विचारणीय भवतुम् शक्नोन्ति !

मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंचा लेकिन फिर भी हल निकलता हुआ नहीं दिख रहा है ! इन सबके बीच किसानों ने अब 26 जनवरी को प्रस्तावित ट्रैक्टर यात्रा की तैयारियां तेज कर दी हैं ! इस मार्च के लिए पंजाब में कई जगहों पर तैयारियां जोरों से चल रही है जो सरकार के लिए भी चिंताजनक हो सकती हैं !

कथनानि तर्हि कृषकः कथ्यन्ति तत अयम् शांति यात्राम् भविष्यति तु येन प्रकारेण तत्परतानि चरन्ति तेन दृष्ट्वा परिलक्ष्यति तत कुत्रैव शांति यात्रायाम् हिंसा नाभव्यते !

कहने को तो किसान कह रहे हैं कि यह शांति मार्च होगा लेकिन जिस तरह से तैयारियां चल रही हैं उसे देखकर लगता है कि कहीं शांति मार्च में हिंसा ना हो जाए !

दैनिक जागरणस्य विवरणपत्रस्यानुरूपम्, जालंधर, लुधियाना बहवः च् जनपदेषु हलयंत्राणि विशेषरूपेण संशोधिते यस्याग्रम् च् लौहस्य तीक्ष्ण शलाकानुबंध्यन्ते !

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, जालंधर,लुधियाना और कई जिलों में ट्रैक्टरों को विशेष रूप से मोडिफाई किया जा रहा है और इनके आगे लोहे के तीखे रॉड लगाए जा रहे हैं !

यदि तस्य मार्गे कश्चित अवरोधक: आगच्छति तर्हि तेन त्रोटित्वा तताग्रम् बर्धयन्ते आरक्षकः च् पश्च निवर्ते बलाभव्यते ! कुंडली सीमायाम् तर्हि केचन हलयंत्राणि कवचित निर्मयते यस्मिन् काचस्य कुटि निर्मितमानः सन्ति !

अगर उनके मार्ग में कोई अवरोधक या बैरिकेड आता है तो उसे तोड़कर वो आगे बढ़ते रहें और पुलिस पीछे हटने पर मजबूर हो जाए ! कुंडली बॉर्डर पर तो कुछ ट्रैक्टरों को बख्तरबंद बनाया जा रहा है जिनमें कांच के केबिन बने हुए हैं !

इदृशं कृषकः न्यून शक्तियुक्तानि हलयंत्राणाम् स्थानम् इतिदा स्व हलयंत्रम् यात्रायै पंचपंचाशतस्य स्थानम् १२० तः गृहित्वा १८९ शक्तियुक्तानि हलयंत्राणि निर्मयन्ति ! अर्थ स्पष्टमस्ति तत यदि मर्ज कश्चित अवरोध: आगच्छति तर्हि तेन निवर्तुमशक्नुते !

इसी तरह किसान कम हॉर्स पावर वाले ट्रैक्टरों की जगह इस बार अपने ट्रैक्टर मार्च के लिए 55 की जगह 120 से लेकर 189 हार्स पावर वाले ट्रैक्टरों को तैयार कर रहे हैं ! मतलब साफ है कि यदि राह में कोई अड़चन आती है तो उसे हटाया जा सके !

इदृशं हलयंत्राणामग्रम् लौहस्य विशाल पट्टानि अपि अनुबंध्यते ! वस्तुतः कृषकसंगठना: कृषकै: शांतिव्यवस्था निर्मयस्यानुरोध: कृतमस्ति तु तत्परतानि दृष्ट्वा इदृश: परिलक्ष्यति तत यदि आरक्षकै: समाघात: अभवत् तर्हि इतिदा शक्ति प्रयोगमपि भवितुम् शक्नोति !

इसी तरह ट्रैक्टरों के आगे लोहे की बड़ी प्लेटें भी लगाई जा रही है ! हालांकि किसान संगठनों ने किसानों से शांति बनाए रखने की अपील की है लेकिन तैयारियां देखकर ऐसा लग रहा है कि अगर पुलिस से टकराव हुआ तो इस बार बल प्रयोग भी हो सकता है !

अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा: एकात्याधुनिकम् हलयंत्रस्य चलचित्रम् ट्वीतरे प्रसृतमानः अलिखत् तत कृषकः संघर्षे सर्वात् बहुमूल्यम् हलयंत्रम् प्रतिपदाय तत्परमस्ति !

अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने एक अत्याधुनिक टैक्ट्रर का वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करते हुए लिखा है कि किसान संघर्ष में सबसे महंगा ट्रैक्टर भाग लेने के लिए तैयार है !

इति चलचित्रे एकः मानवः कथ्यति वयं स्व हलयंत्रे नलिकम् अनुबंध्यष्याम: तस्मात् च् एकम् सन्देशम् दाष्याम: तत यदि सरकारः कश्चितापि कृषकभ्रातृभिः सह परिबाध्यस्य प्रयत्नम् कृतः तर्हि पुनः नलिकेन भवतः उपरि घात कृतस्य कार्यम् करिष्याम: !

इस वीडियो में एक शख्स कहता है हम अपने ट्रैक्टर पर तोप लगाएंगे और उससे एक संदेश देंगे कि यदि सरकार ने किसी भी किसान भाई के साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश की तो फिर तोप से आपके ऊपर हमला करने का काम करेंगे !

भवतम् ज्ञापयतु तत कृषक नेतारः सर्कारस्य च् मध्य अधुनैव ९ चक्रस्य वार्तामभव्यते ! सरकार: शुक्रवासरम् विरोधप्रदर्शनम् करोति कृषकसंगठनै: त्रय कृषि विधेयकानां प्रति स्व आपत्तय: प्रस्ताव: च् धृतं दृढ़ प्रस्ताव निर्माय अनौपचारिक: समूह गठितम् अकथयत् !

आपको बता दें कि किसान नेताओं और सरकार के बीच अभी तक नौ दौर की वार्ता हो चुकी है ! सरकार ने शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों से तीन कृषि कानून के बारे में अपनी आपत्तियां और सुझाव रखने एवं ठोस प्रस्ताव तैयार करने के लिये अनौपचारिक समूह गठित करने को कहा !

यस्मिन् १९ जनवरी इतम् अग्रचक्रस्य वार्तायाम् चर्चाम् भवितुम् शक्ष्यते ! कृषिमंत्री नरेंद्र सिंह तोमर: अकथयत् तत सर्कारस्य दृष्टिकोण: कोमलमस्ति सः च् कृषकसंगठनै: अपि दृष्टिकोणे कोमलभावम् आनयस्यानुरोधम् कृतः !

जिस पर 19 जनवरी को अगले दौर की वार्ता में चर्चा हो सकेगी ! कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार का दृष्टिकोण लचीला है और उन्होंने किसान संगठनों से भी रूख में लचीलापन लाने की अपील की !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here