हार्दिक पटेलस्य कथनम्, कस्मिन् प्रकरणे कांग्रेसस्य कश्चित निश्चित निर्णयं न, राहुल गांधिम् केवलं अभद्र वचनम् कथितुं आगच्छति ! हार्दिक पटेल का कथन, किसी मुद्दे पर कांग्रेस का कोई स्टैंड नहीं, राहुल गांधी को सिर्फ गाली देना ही आता है !

0
98

कांग्रेसदळतः वर्तमानैव त्यागपत्रदाता हार्दिक पटेल: एकं वरिष्ठ चैनल इतम् दत्त: साक्षात्कारे विशेष वार्ता लापं कृतः ! हार्दिक: सर्वानां प्रश्नानां निर्भयतायाः उत्तरम् दत्त: ! सः कांग्रेसदले तीक्ष्ण घातन् कथित: तत कांग्रेसस्य जनसेवायाः कश्चित सरोकारं नास्ति !

कांग्रेस पार्टी से हाल ही में इस्तीफा देने वाले हार्दिक पटेल एक वरिष्ठ चैनल को दिए गए इंटरव्यू में खास बातचीत की ! हार्दिक ने सभी सवालों के बेबाकी से जवाब दिए ! उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर तीखा हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस का जनसेवा से कोई लेना-देना नहीं है !

इति दले नेतृणाम् कश्चित सम्मानम् नास्ति ! राहुल गांधी इत्यां विश्वासमासीततएव कांग्रेसे सम्मिलित: स्म ! सः कथित: तत राहुल: चत्वारेषु वर्षेषु सर्वै: विधायकै: मेलनमेव न कृतः ! हार्दिक: कथित: तत राहुल गांधिन् अद्यैव गुजरातस्य प्रकरणयो कदापि गम्भीर्यताया निश्चयमेव न निर्मितं !

इस पार्टी में नेताओं का कोई सम्मान नहीं है ! राहुल गांधी पर भरोसा था इसलिए कांग्रेस में शामिल हुआ था ! उन्होंने कहा कि राहुल ने चार साल में सभी विधायकों से मुलाकात तक नहीं की ! हार्दिक ने कहा कि राहुल गांधी ने आज तक गुजरात के मुद्दो पर कभी गंभीरता से प्लान ही नहीं बनाया !

कस्मिन् प्रकरणे कांग्रेसस्य कश्चित निश्चितनिर्णयं नास्ति ! राहुल: गांधी जनायाः हितेषु कार्यम् न कुर्वन्ति ! राहुल गांधिम् केवलं अभद्र वचनम् कथितुं आगच्छति ! तेन केवलं मोदी महोदयस्य विरुद्धम् बदितुं आगच्छति, सः प्रकरणानां समाधाने वार्ता न कुर्वन्ति !

किसी मुद्दे पर कांग्रेस का कोई स्टैंड नहीं है ! राहुल गांधी जनता के हितों पर काम नहीं करते हैं ! राहुल गाधी को सिर्फ गाली देना ही आता है ! उन्हें सिर्फ मोदी जी के खिलाफ बोलने आता है, वह मुद्दों के समाधान पर बात नहीं करते हैं !

कांग्रेसे केवलं चाटुकाराणां प्रभाव: अस्ति ! कांग्रेसम् गुजराते स्वभूमिम् वंचितं ! हार्दिक: आरोपमारोपित: तत गांधी कुटुंबम् मेलनस्य काळम् न ददाति, त्रिषु वर्षेषु सोनिया गांध्या एकदा मेलनमभवत् ! कांग्रेस दळम् साधु सद् च् जनान् धृतमेव नेच्छति !

कांग्रेस में सिर्फ चापलूसों का बोलबाला है ! कांग्रेस ने गुजरात में अपनी जमीन खोई ! हार्दिक ने आरोप लगाया कि गांधी परिवार मिलने का समय नहीं देता है, तीन साल में सोनिया गांधी से एक बार मुलाकात हुई ! कांग्रेस पार्टी अच्छे और सच्चे लोगों को रखना ही नहीं चाहती है !

१० दिनांकस्य रैल्यां राहुलगांधिणा कश्चित वार्तालापं नाभवत् ! कांग्रेसे शौर्यम् नास्ति तत सत्य कथितुं शक्नुतं ! अहम् सम्यक् अस्मि येन कारणं त्यागपत्रम् दत्त: ! ज्ञानवाप्यां शिवलिंगम् दर्शितं तर्हि कांग्रेसम् सद् तर्हि बदनीयं न ! कांग्रेसे सत्य कथनस्य शौर्यं न अस्ति !

10 तारीख की रैली में राहुल गांधी से कोई बातचीत नहीं हुई ! कांग्रेस में हिम्मत नहीं है कि सच कह सके ! मैं सही हूँ इसलिए इस्तीफा दे दिया ! ज्ञानवापी में शिवलिंग दिखा तो कांग्रेस को सही तो बोलना चाहिए ना ! कांग्रेस में सच कहने की हिम्मत नहीं है !

सः कथित: तत यदा दलस्य स्थितिमसाधु असि तर्हि विदेशयात्रा: गृहीत्वा ध्यानम् धारणीयं ! यदा दलस्य स्थितिमसाधु असि तदा नेतृन् देशे रमणीयं ! केवलं ट्वितरेण फेसबुकेण च् दळम् चरितुं न शक्नोति न !

उन्होंने कहा कि जब पार्टी की स्थिति खराब हो तो विदेश यात्राओं को लेकर ध्यान रखना चाहिए। जब पार्टी की स्थिति खराब हो तब नेताओं को देश में रहना चाहिए। सिर्फ ट्विटर और फेसबुक से पार्टी नहीं चल सकती है ना !

दलीय कार्यकर्ताभिः वार्ता करणीयं ! प्रकरणेषु वार्ता करणीयं स्म ! काळम् याचनस्यानंतरमपि दलीय अध्यक्षेण एकदा वार्ताभवत् ! कांग्रेसस्य चत्वारेषु राज्येषु पराजयस्य कारणेन भवान् कांग्रेसं त्यजति ? हार्दिक: कथित: तत जनानां मध्यवासिन् पराजयस्य भयं न भवति !

पार्टी कार्यकर्ताओं से बात करनी चाहिए। मुद्दों पर बात करनी चाहिए थी ! समय मांगने के बाद भी पार्टी अध्यक्ष से एक बार बात हुई ! कांग्रेस की चार राज्यों में हार की वजह से आप कांग्रेस छोड़ रहे हैं ? हार्दिक ने कहा कि जनता के बीच रहने वालों को हार का डर नहीं होता है !

पूर्व कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल: कथित: तत कांग्रेस दळम् साधु सद् च् जनान् न केवलं चाटुकार: क्षीण: च् जनान् दले धृतुं इच्छति, सः कथित: तत चिकन सैंडविच इत्या: रहस्योद्घाटितं !

पूर्व कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अच्छे और सच्चे लोगों को नहीं सिर्फ चापलूस और कमजोर लोगों को पार्टी में रखना चाहती है, उन्होंने कहा कि चिकन सैंडविच का राज खोला !

कांग्रेसस्य जनसेवाया कश्चित सरोकार: न, कांग्रेसे नेतृणाम् सम्मानम् न भवति ! कांग्रेसम् भविष्यस्य नेतृत्वाय प्रियंका गांधिमग्रम् करणीयं ! प्रियंका गांधी तर्हि न्यूनात्न्यूनम् वार्ता करोति !

कांग्रेस का जनसेवा से कोई लेना देना नहीं, कांग्रेस में नेताओं का सम्मान नहीं होता है ! कांग्रेस को फ्यूचर लीडरशिप के लिए प्रियंका गांधी को आगे करना चाहिए ! प्रियंका गांधी तो कम से कम बात तो करती हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here