पीएम मोदिण: दलेण १० गतिमापकस्य अन्तरे एकत्रितं आसन् प्रदर्शनकारिण:, भाजपा विधायक सुरेश्वर सिंहरपि कृतः भर्त्सना ! पीएम मोदी के काफिले से 10 मीटर की दूरी पर जमा थे प्रदर्शनकारी, भाजपा विधायक सुरेश्वर सिंह ने भी की भर्त्सना !

0
183

पंजाबे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदिण: सुरक्षायामभवत् चुक्रे पंजाबसर्वकारः एवं आरक्षकः प्रश्नानां अभ्यांतरे सन्ति ! पंजाब सर्वकारः किंन दृढ़कथनम् करोतु तत तं प्रति सुरक्षायाः पूर्णव्यवस्थाम् कृतवन्तः स्म प्रधानमंत्रिण: च् सुरक्षायां कश्चित चुक्रम् नाभवत् !

पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक पर पंजाब सरकार एवं पुलिस सवालों के घेरे में है ! पंजाब सरकार भले ही दावा करे कि उसकी तरफ से सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए थे और पीएम की सुरक्षा में कोई चूक नहीं हुई !

तु यत् तथ्यम् संमुखमागच्छन्ति तस्मात् पंजाब आरक्षकः सर्वकारः च् द्वयो प्रश्नम् उत्थित: ! प्रधानमंत्रिण: गति गोपनीयं भवति ! वीथी मार्गेण यदि पीएम यात्रा कर्तुम् गच्छन्ति तर्हि यस्य ज्ञानम् राज्यस्य डीजीपी एवं गोपनीय विभागान् भवत: !

लेकिन जो तथ्य सामने आ रहे हैं उससे पंजाब पुलिस और सरकार दोनों पर सवाल उठ रहे हैं। प्रधानमंत्री की मूवमेंट गोपनीय होती है ! सड़क मार्ग से यदि पीएम यात्रा करने जा रहे हैं तो इसकी जानकारी राज्य के डीजीपी एवं खुफिया एजेंसियों को होती है !

सर्वात् वृहद प्रश्नमिदमस्ति तत यदि पीएम भठिंडा विमानपत्तनेण वीथी मार्गेण राष्ट्रीय शहीद संग्रहालय गच्छति तर्हि यस्य ज्ञानम् प्रदर्शनकारिण: एव कीदृशं प्राप्तं ! मीडिया दल उपरिमार्गस्य तं अंशानि एव प्राप्तः यत्र पीएम मोदिण: दळम् २० पलानि एव अवरुद्धितं !

सबसे बड़ा सवाल यह है कि अगर पीएम भठिंडा एयरपोर्ट से सड़क मार्ग के जरिए राष्ट्रीय शहीद संग्रहालय जा रहे हैं तो इसकी जानकारी प्रदर्शनकारियों तक कैसे पहुंची ! मीडिया दल फ्लाईओवर के उस हिस्से तक पहुंचा जहां पीएम मोदी का काफिला 20 मिनट तक फंसा रहा !

अभिज्ञानम् संमुखमागतं तत पीएम मोदिण: दळम् उपरिमार्गे येन स्थानमवरुद्धं स्म तत्रतः मात्र १० गति मापकस्य द्रुते प्रदर्शनकारिण: आसन् ! सीएम चन्निण: कथनमस्ति तत सः कृषकेषु दंडघातस्य आज्ञाम् न दत्तुम् शक्नोति स्म !

जानकारी सामने आई है कि पीएम मोदी का काफिला फ्लाईओवर पर जिस जगह फंसा था वहां से महज 10 मीटर की दूरी पर प्रदर्शनकारी थे ! सीएम चन्नी का कहना है कि वह किसानों पर लाठीचार्ज करने का आदेश नहीं दे सकते थे !

मान्यन्ति तत प्रदर्शकारीणां तत्र एकत्रितस्य कारणेन प्रधानमंत्रिण: दलेन सह यदि कश्चित दुर्घटनाम् भवितैति तर्हि पुनः यस्य जिम्मेवारिम् कं नयतु ? द्वितीय वृहद प्रश्नमिदमस्ति ततारक्षकम् प्रथमेण उपरिमार्गस्य पार्श्वोपस्थितस्याभिज्ञानमासीत् तर्हि तं मार्गम् रिक्त किं न कारितं !

मान लेते हैं कि प्रदर्शनकारियों के वहां जमा होने की वजह से पीएम के काफिले के साथ अगर कोई अनहोनी हो जाती तो फिर इसकी जिम्मेदारी कौन लेता ? दूसरा बड़ा सवाल यह है कि पुलिस को पहले से फ्लाईओवर के पास मौजूद होने की जानकारी थी तो उसने रास्ते को खाली क्यों नहीं कराया !

कृषकनेता सुरजीत सिंह फूल: स्वीकृतमस्ति तत पीएम मोदिण: वीथीमार्गेण आगमनस्याभिज्ञानम् आरक्षकः तेन दत्त: ! स्पष्टमस्ति तत पंजाबारक्षकः प्रधानमंत्रिण: सुरक्षाया सह न्यूनता न भवितं ! उपरि मार्गस्य पार्श्व सुरक्षाकर्मिण: नियुक्तम् नासन् ! इदम् बहु व्यस्तवीथी अस्ति ! उपरिमार्गस्य आर्श्व-पार्श्व गृहं भवनानि च् सन्ति !

किसान नेता सुरजीत सिंह फूल ने कबूला है कि पीएम मोदी के सड़क मार्ग से आने की जानकारी पुलिस ने उन्हें दी ! साफ है कि पंजाब पुलिस ने पीएम की सुरक्षा के साथ कोताही बरती ! फ्लाईओवर के पास सुरक्षाकर्मी तैनात नहीं थे ! यह काफी व्यस्त रोड है ! फ्लाईओवर के आस-पास घर और इमारते हैं !

स्पष्टमस्ति ततात्र सुरक्षाकर्मिन् पूर्वतः नियुक्तं कर्तुम् भवितं तर्हि जनाः उपरिमार्गस्य तस्य च् आर्श्व-पार्श्व न एकत्रितं भवितुं शक्नुताः ! स्पष्टमस्ति तत पंजाब आरक्षकम् एतान् प्रश्नान् उत्तरम् दत्तुम् भविष्यति ! अंततः किं एसपीजी इतमिदम् ज्ञापितं तत प्रधानमंत्रिण: मार्गम् सुरक्षितमस्ति ?

जाहिर है कि यहां सुरक्षाकर्मियों को पहले से तैनात किया गया होता तो लोग फ्लाईओवर या उसके आस-पास एकत्र नहीं हो पाते। जाहिर है कि पंजाब पुलिस को इन सवालों को जवाब देना होगा। आखिर क्यों एसपीजी को यह बताया गया कि पीएम का रूट सुरक्षित है ?

का इदम् कश्चितभारे कृतवान कश्चितप्रकारस्य कुचक्रं वासीत् ? प्रधानमंत्रिण: सुरक्षायां चुक्रस्य अन्वेषणाय पंजाबसर्वकारः द्विसदस्यीय समितीति निर्मित: ! इदम् समिति त्रयाणां दिवसानां अभ्यांतरं स्व सूचनां दाष्यत: !

क्या यह किसी दबाव में किया गया या किसी तरह की साजिश थी ? पीएम की सुरक्षा में चूक की जांच के लिए पंजाब सरकार ने दो सदस्यीय समिति बनाई है ! यह समिति तीन दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी !

इसे अवश्य देखें https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=2732169933743517&id=100008516101842

यथा तत भवतः ज्ञायन्ति उत्तर प्रदेशे विधानसभा निर्वाचनम् भवितं निश्चितमस्ति, अस्यैव कारणं भाजपा विधायक महसी जनपद ब्रह्मर्षिनगरं एकं नुक्कड़ इति गोष्ठिम् करोति स्म, यदा तेन इति कारणं प्रश्नमपृच्छत् तर्हि सः कथित: तत भारत सर्वकारे गृहमंत्री अमित शाह महोदयः इति प्रकरणे पंजाब सर्वकारेण सूचनां याचित:, सूचनायाः अनंतरमेव कश्चित कार्यवाहिम् भविष्यति !

जैसा कि आप सभी जानते है उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव होना निश्चित है, इसी कारण भाजपा विधायक महसी जनपद बहराइच एक नुक्कड़ सभा कर रहे थे, जब उनसे इस बाबत प्रश्न पूंछा गया तो उन्होंने कहा कि भारत सरकार में गृहमंत्री अमित शाह जी ने इस मामले में पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी है, रिपोर्ट के बाद ही कोई कार्यवाही होगी !

विधानसभा महसी बहराइच उत्तरप्रदेश विधायक सुरेश्वर सिंह

द्वितीय प्रश्नम् कृतवन्तः तत चन्नी सर्वकारः प्रकरणेन स्वम् पृथक करोति तथा सपायाः कार्यकर्ता एकम् चलचित्रम् फेसबुक इत्ये स्थापित्वा कथ्यन्ति तत तत्र आसंदिकानि रिक्तानि आसनस्यैव कारणेन इदम् नाटकम् कृतवन्तः, यस्योत्तरे विधायक: कथित: तत भवान् ज्ञापयतु तत नेतु: आगमने आसंदिकानि परिपूर्णयन्ति पूर्वम् वा ? पूर्वम् तर्हि आसंदिकानि रिक्तानीव रमन्ति !

दूसरा प्रश्न किया गया कि चन्नी सरकार मामले से अपने को अलग कर रही है तथा सपा के कार्यकर्ता एक वीडियो फेसबूक पर पोस्ट करके कह रहे हैं कि वहां कुर्सियां खाली थी इसी वजह से यह ड्रामा किया गया, इसके उत्तर में विधायक ने कहा कि आप बताएं कि नेता के आने पर कुर्सियां भरती हैं या पहले ? पहले तो कुर्सियां खाली ही रहती हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here