28.1 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021

कृषकानां ट्रैक्टर इति यात्राम्,तोमर: अबदत्- विधेयकानां पश्च भावनाम् अवगमष्यते कृषक संगठन: ! किसानों का ट्रैक्टर मार्च,तोमर बोले-कानूनों के पीछे भावना को समझेंगे किसान संगठन !

Must read

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर: बुधवासरम् अकथयत् तत कृषि विधेयकानां विरुद्धम् प्रदर्शन: करोति कृषक संगठन: कृषि क्षेत्रे संशोधनायानयत् विधेयकानि अवगमष्यते चर्चायाः अनन्तरं ते वेगेन एके समाधाने प्राप्यिष्यन्ति !

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठन कृषि क्षेत्र में सुधारों के लिए लाए गए कानूनों को समझेंगे और चर्चा के बाद वे तेजी से एक समाधान पर पहुचेंगे !

तोमर: मीडिया इति कर्मिकै: वार्तायामकथ्यत्, भारत सरकारः कृषकानां क्षेमाय प्रतिबद्धमस्ति ! वयं विधेयकानां विरोधकानि समर्थकानि च् द्वाभ्याम् सह सभाम् कृतेनागतवन्तः ! गुरूवासरं कृषकः ट्रैक्टर इति यात्राम् निस्सरक: सन्ति !

तोमर ने मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा, भारत सरकार किसानों की भलाई के लिए प्रतिबद्ध है ! हम कानूनों की खिलाफत करने वालों और समर्थन करने वालों दोनों के साथ बैठक करते आए हैं ! गुरुवार को किसान ट्रैक्टर मार्च निकालने वाले हैं !

केंद्रीय मंत्री: अकथयत् मह्यं आशामस्ति तत प्रदर्शक: कृषक संगठन: कृषिविधेयकानां पश्चस्य विचारमवगमष्यते ते च् कृषकानां क्षेमस्य प्रति विचारिष्यन्ति ! वयं आशाम् कुर्वन्ति तत शीघ्रैव सकारात्मक वार्ताभिः ते एके हले प्राप्यिष्यन्ति !

केंद्रीय मंत्री ने कहा मुझे उम्मीद है कि प्रदर्शन करने वाले किसान संगठन कृषि कानूनों के पीछ के विचार को समझेंगे और वे किसानों की भलाई के बारे में सोचेंगे ! हम उम्मीद करते हैं कि जल्द ही सकारात्मक बातचीत के जरिए वे एक समाधान पर पहुंचेंगे !

कृषि विधेयकेषु अभवत् गतिरोधम् त्रोटाय सरकारः कृषकसंगठनानां च् मध्य सप्त चक्रस्य वार्तामभव्यते तु अद्यापि इति संकटस्य हलम् न निःसृताशक्नुते !

कृषि कानूनों पर बने गतिरोध को तोड़ने के लिए सरकार और किसान संगठनों के बीच सात दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन अभी इस समस्या का हल नहीं निकल सका है !

कृषकानां चत्वारः प्रमुखः प्रकरणेषु द्वये सरकारेण सह सहमतिमनिर्मयते ! सर्कारस्य कथनमस्ति तत एषः ता कृषि विधेयकानि न पुनरगृहीष्यते यद्यपि कृषकसंगठन: इति विधेयकानि निरस्तकृतस्य याचनायाम् अडिग: सन्ति !

किसानों के चार प्रमुख मुद्दों में दो पर सरकार के साथ सहमति बन गई है ! सरकार का कहना है कि वह कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी जबकि किसान संगठन इन कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं !

कृषकानां याचनां एमएसपी इतम् विधिरूप स्थानम् दत्तस्य याचनामस्ति ! इत्ये सर्कारस्य कथनमस्ति तत ता एमएसपी इत्यस्य प्रसृते लिखिते आश्वासनम् दाशक्नोति !

किसानों की मांग एमएसपी को कानूनी दर्जा दिए जाने की मांग है ! इस पर सरकार का कहना है कि वह एमएसपी के जारी रहने पर लिखित में आश्वासन दे सकती है !

कृषिविधेयकेषु सर्कारस्य स्थिते परिवर्तनं आगतः न पश्य कृषकसंगठना: भौमवासरम् स्वांदोलनम् तीव्र कृतस्य संकेत: दत्तवान !

कृषि कानूनों पर सरकार के रुख में बदलाव आता न देख किसान संगठनों ने मंगलवार को अपना आंदोलन तेज करने का संकेत दिया !

स्वराज इंडियायाः योगेंद्र यादव: बुधवासरम् अकथयत् तत सप्त जनवरी इतम् इन्द्रप्रस्थस्य सर्वेषु सीमाषु कृषकः ट्रैक्टर इति यात्राम् निःसर्ष्यते ! २६ नवंबर तः कृषकः इन्द्रप्रस्थस्य सीमाषु स्थितः सन्ति ! कृषकानां कथनमस्ति तत यदैव सरकारः त्रयाणां कृषिविधेयकानां न पुनरगृह्यते तदैव ते स्वांदोलनम् न पुनरगृहीष्यन्ते !

स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव ने बुधवार को कहा कि सात जनवरी को दिल्ली की सभी सीमाओं पर किसान ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे ! गत 26 नवंबर से किसान दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं ! किसानों का कहना है कि जब तक सरकार तीनों कृषि कानूनों का वापस नहीं लेती तब तक वे अपना आंदोलन वापस नहीं लेंगे !

पंजाब-हरियाणा अन्य च् राज्यानां सहस्राणि कृषका: टिकरी,सिंघु गाजियाबाद च् सीमाषु विरोध प्रदर्शनम् कुर्वन्ति ! प्रदर्शनस्य कालम् बहु कृषकानां प्राणमगम्यते !

पंजाब-हरियाणा एवं अन्य राज्यों के हजारों किसान टिकरी,सिंघु और गाजियाबाद बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं ! प्रदर्शन के दौरान कई किसानों की जान जा चुकी है !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: कृषकानि बहुधा विश्वासमदीयते तत इति विधेयकै: तस्य आये वृद्धिम् भविष्यति ! प्रधानमंत्रिण: कथनमस्ति तत विपक्ष: कृषिविधेयकानां प्रति भ्रांतिनि प्रसृतमानः कृषकानि पथभ्रमित: करोति !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को कई बार भरोसा दे चुके हैं कि इन कानूनों से उनकी आय में वृद्धि होगी ! पीएम का कहना है कि विपक्ष कृषि कानूनों के बारे में भ्रांतियां फैलाते हुए किसानों को गुमराह कर रहा है !

प्रधानमंत्री पूर्व मासे मध्यप्रदेशस्य कृषकानि संबोधितमानः अकथयत् तत एमएसपी इति यदि अवरुद्धम् कृतेन्भवति तर्हि तस्य सरकारः स्वामीनाथन आयोगस्य सूचनां प्रारम्भैव न करोति !

पीएम ने पिछले महीने में मध्य प्रदेश के किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि एमएसपी यदि बंद करनी होती तो उनकी सरकार स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू ही नहीं करती !

सः अकथयत् तत तस्य सरकारः काले-काले एमएसपी इति बर्धयेत् पूर्वस्य च् सर्कारणां तुलनायाम् शष्यानां क्रय अधिकमभव्यते !

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने समय-समय पर एमएमपी बढ़ाई है और पहले की सरकारों की तुलना में फसलों की खरीद ज्यादा हुई है !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article