पकिस्ताने प्रचालयेत् पीएम मोदे: प्ररोचनम् !पाकिस्तान में लहराये गए PM मोदी के पोस्टर !

0
640

पकिस्ताने बलूचिस्ताने,पाकाधिकृत कश्मीरे तथा सिंध प्रान्ते स्वतंत्रतायाः तीव्रतावगमयति ! रविवासरम् सिन्धे आहूत एकम् स्वतंत्रता यात्रायाः कालम् प्रदर्शनकारिण: हस्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदिना सह अन्य वैश्विक नेतृणाम् प्ररोचनम् अक्षरभूमिकानि उत्थित्वा प्रदर्शनम् कृतमानः स्वतंत्रतायाः उद्घोषमुद्घोषयत् !

पाकिस्तान में बलूचिस्तान,पाक अधिकृत कश्मीर तथा सिंध प्रांत में आजादी की मांग जोर पकड़ती जा रही है ! रविवार को सिंध में आयोजित एक आजादी मार्च के दौरान प्रदर्शनकारियों ने हाथ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य वैश्विक नेताओं के पोस्टर और तख्तियों को उठाकर प्रदर्शन करते हुए आजादी के नारे लगाए !

एतानि प्रदर्शनकारिणि वैश्विक नेतृभिः स्वतंत्रतायाः याचनां कृतमानः हस्तक्षेप कृतस्य अनुरोधम् कृता: ! प्रत्यावृत्ये भिन्नात् सिंधु देश अर्थतः सिन्धुस्तान इति निर्मयस्य याचनां गृहित्वा उद्घोषमुद्घोषयते !

इन प्रदर्शनकारियों ने वैश्विक नेताओं से आजादी की मांग करते हुए हस्तक्षेप करने का आग्रह किया ! रैली में अलग से सिंधु देश यानि सिंधुस्तान बनाने की मांग को लेकर नारे लगाए गए !

आधुनिक सिंधी राष्ट्रवादस्य संस्थापकेषु एकः जीएस सैयदस्य शत सप्तदशानि जयंत्या: अवसरे अत्र एकम् विशाल प्रत्यावृत् विरोध यात्रायाः च् आहूताक्रियते यस्मिन् पकिस्तानस्य विरुद्धम् उद्घोष: अभवत् वैश्विक नेतृणाम् अक्षरभूमिकानि हस्तेषु प्रचालयित्वा स्वतंत्रतायाः याचनामक्रियते !

आधुनिक सिंधी राष्ट्रवाद के संस्थापकों में एक जीएम सैयद की 117वीं जयंती के अवसर पर यहां एक विशाल रैली और विरोध मार्च का आयोजित किया गया जिसमें पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी हुई है वैश्विक नेताओ की तख्तियों को हाथों में लहराकर आजादी की मांग की गई !

प्रदर्शनकारिण: पीएम मोदी,अमेरिकायाः निर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन,न्यूजीलैंडस्य पीएम जेसिंडा अन्य च् वैश्विक नेतृणाम् अक्षरभूमिकानि उत्थायत् सिंधुदेशस्य च् स्वतंत्रतायै हस्तक्षेप कृतस्य याचनां कृतः !

प्रदर्शनकारियों ने पीएम मोदी,अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन,न्यूजीलैंड की पीएम जेसिंडा और अन्य वैश्विक नेताओं के तख्तियों को उठाया और सिंधुदेश की स्वतंत्रता के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की !

प्रदर्शनकारिण: दृढ़कथनं कृतः तत सिंध सिंधु घाटी सभ्यतायाः वैदिक धर्मस्य च् गृहमस्ति यस्मिन् ब्रिटिश साम्रज्येन अवैध रूपेण अधिपत्याक्रियते स्म तेन च् १९४७ तमे पकिस्तानस्य असाधु इस्लामी हस्तान् संप्रदत्त: !

प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि सिंध सिंधु घाटी सभ्यता और वैदिक धर्म का घर है जिस पर ब्रिटिश साम्राज्य द्वारा अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया था और उनके द्वारा 1947 में पाकिस्तान के दुष्ट इस्लामी हाथों को सौंप दिया !

सिंधे बहु राष्ट्रवादिन् दलमस्ति यत् एकस्य स्वतंत्र सिंध राष्ट्रस्य चर्चा: कुर्वन्ति ! ते विभिन्न अंतरराष्ट्रीय स्थानेषु एतानि प्रकरणानि सततं उत्थायन्ति पकिस्तानम् एकम् इदृशं अधिपति ज्ञापयन्ति यत् संसाधनानि शोषणम् कृतेन सह अत्र वासिन् जनानां मानवाधिकाराणां उल्लंघयति !

सिंध में कई राष्ट्रवादी दल हैं जो एक स्वतंत्र सिंध राष्ट्र की चर्चा कर रहे हैं ! वे विभिन्न अंतरराष्ट्रीय प्लेटफार्मों पर इस मुद्दे को लगातार उठा रहे हैं और पाकिस्तान को एक ऐसा कब्जेदार बता रहे हैं जो संसाधनों का दोहन करने के साथ यहां रहने वाले लोगों के मानवाधिकारों का उल्लंघन करता है !

मीडिया इत्येन वार्ता कृतमानः विरोध प्रदर्शनस्य आयोजक: शफी मोहम्मद बुरफत: अकथयत् एताः जनाः अस्माकं इतिहासे संस्कृत्यां च् बर्बर प्रहारम् कृतः हननम् कृतः च् ! सिंधे अधिपत्य अक्रियते तत्र वासिन् च् जनाः पुनः अपि स्व भिन्न ऐतिहासिकं सांस्कृतिकं च् परिचयं अनिर्मयते !

मीडिया से बात करते हुए विरोध प्रदर्शन के आयोजक शफी मोहम्मद बुरफत ने कहा,इन लोगों ने हमारे इतिहास और संस्कृति पर बर्बर हमला किया और हनन किया ! सिंध पर कब्जा किया है और वहां रहने वाले लोगों ने फिर भी अपनी अलग ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पहचान को बनाए है !

पूर्वस्य पश्चिमस्य च् धर्माणि,दर्शनस्य सभ्यतायाः इति ऐतिहासिक संश्लेषण: अस्माकं मातृभूमि सिंधम् मानवतायाः इतिहासे एकम् भिन्नम् स्थान: दत्तम् ! सिंधे सदैव पकिस्तानी सैन्यस्य अत्याचाराणां कथानक सम्मुख: आगच्छति ! अत्र यतापि पकिस्तानस्य विरुद्धम् बदति तेन तर्हि वा लोपम्कारयते पुनः हन्यते वा !

पूर्व और पश्चिम के धर्मों,दर्शन और सभ्यता के इस ऐतिहासिक संश्लेषण ने हमारी मातृभूमि सिंध को मानवता के इतिहास में एक अलग स्थान दिया है ! सिंध में अक्सर पाकिस्तानी आर्मी के अत्याचारों की कहानी सामने आते है ! यहां जो भी पाकिस्तान के खिलाफ बोलता है उसे या तो गायब करा दिया जाता है या फिर मार दिया जाता है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here