आर्थिक संकटस्य मध्य श्रीलंकायाः सर्वा: मंत्रि परिषद मंत्रिण: दत्तं त्यागपत्राणि ! आर्थिक संकट के बीच श्रीलंका के सभी कैबिनेट मंत्रियों ने दिया इस्तीफा !

0
234

देशे आर्थिक संकटम् गृहीत्वा सर्वकारस्य विरुद्धम् बर्धितं जनाक्रोशस्य मध्य प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे इत्या: अतिरिक्तं श्रीलंकायाः पूर्णमंत्रिपरिषदम् त्याग पत्रम् दत्तस्य निर्णयम् कृतं ! आंग्ल वार्तापत्र डेली मिररस्य सूचनायाः अनुरूपम् !

देश में आर्थिक संकट को लेकर सरकार के खिलाफ बढ़ते जनाक्रोश के बीच प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के अलावा श्रीलंका की पूरे कैबिनेट ने इस्तीफा देने का फैसला किया है ! अंग्रेजी अखबार डेली मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक !

पीएम एषा: मंत्रिण: च् एके सामान्यपत्रे हस्ताक्षरम् कृताः, यस्मिन् त्यागपत्रदत्तस्य सहमत्या नव मंत्रि परिषदस्य गठनस्य मार्गप्रशस्तं अभवत्, इदम् पत्रम् केवलं श्रीलंकायाः प्रधानमंत्रिण: पार्श्वास्ति येन च् राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षेम् प्रदाष्यते !

पीएम और इन सभी मंत्रियों ने एक सामान्य पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं, जिसमें इस्तीफा देने की सहमति से नए कैबिनेट के गठन का मार्ग प्रशस्त हुआ है, यह पत्र फिलहाल श्रीलंका के प्रधानमंत्री के पास है और इसे राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे को सौंपा जाएगा !

ज्ञाप्यते ततागतेषु दिवसेषु नवमंत्रिपरिषदस्य गठनम् करिष्यते ! सूचनायाः अनुरूपमिति घटनाक्रमस्य पुष्टिकृतन् सांसद: दिनेश गुणवर्धन: कथित: तत महिंदा राजपक्षे कार्यकर्तुं रमिष्यति मंत्रिपरिषदस्य च् अन्य सर्वा: सदस्या: प्रधानमंत्रिम् त्यागपत्रम् दत्ता: !

बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में नई कैबिनेट का गठन किया जाएगा ! रिपोर्ट के मुताबिक इस घटनाक्रम की पुष्टि करते हुए सांसद दिनेश गुणवर्धन ने कहा कि महिंदा राजपक्षे काम करते रहेंगे और कैबिनेट के अन्य सभी सदस्यों ने प्रधानमंत्री को इस्तीफा दे दिया है !

राजपक्षे इत्या: पुत्र दत्त: स्म सर्वात् प्रथम त्यागपत्रम् इदम् घटनाक्रम इदृशे काले अभवत् यदा देशस्य क्रीड़ामंत्री पीएम राजपक्षे इत्या: पुत्र च् नमल राजपक्षे इत्या: स्वसर्वेभ्यः विभागेभ्यः त्यागपत्रम् दत्त: स्म यस्यानंतरम् एकेन घटकेनापि न्यून काले इदम् घटनाक्रम घटितं !

राजपक्षे के बेटे ने दिया था सबसे पहले इस्तीफा, यह घटनाक्रम ऐसे समय में हुआ है जब देश के खेल मंत्री और पीएम राजपक्षे के बेटे नमल राजपक्षे के अपने सभी विभागों से इस्तीफा दे दिया था जिसके बाद एक घंटे से भी कम समय में यह घटनाक्रम घटा !

नमल राजपक्षे एके ट्वीते कथित: अहम् सचिवम् तत्कालप्रभावतः सर्वेभ्यः विभागेभ्यः स्वत्यागपत्रम् प्रत्यां राष्ट्रपतिम् सूचित:, आशामस्ति ततेदम् जनेभ्यः श्रीलंकायाः सर्वकाराय च् स्थिरता स्थापिताय महामहिमस्य प्रधानमंत्रिण: च् निर्णयस्य सहाय्य कर्तुं शक्नोति !

नमल राजपक्षे ने एक ट्वीट में कहा मैंने सचिव को तत्काल प्रभाव से सभी विभागों से अपने इस्तीफे के बारे में राष्ट्रपति को सूचित कर दिया है, उम्मीद है कि यह लोगों और श्रीलंका की सरकार के लिए स्थिरता स्थापित करने के लिए महामहिम और प्रधान मंत्री के निर्णय की सहायता कर सकता है !

अहम् स्व मतदातृभ्यः मम दलाय हंबनटोटायाः च् जनेभ्यः प्रतिबद्धोस्मि ! भवतः ज्ञापयन्तु तत श्रीलंका अधुनैवस्य स्वसर्वातसाधु आर्थिकसंकटेण विचरति ! कोविड १९ महामार्या: काळम् पर्यटने अवरोधस्य कारणं वैदेशिमुद्रायाः न्युनतायाः अनंतरमिदम् स्थितिं उत्पादितमस्ति !

मैं अपने मतदाताओं, मेरी पार्टी और हंबनटोटा के लोगों के लिए प्रतिबद्ध हूँ ! आपको बता दें कि श्रीलंका अब तक के अपने सबसे खराब आर्थिक संकट से गुजर रहा है ! कोविड 19 महामारी के दौरान पर्यटन पर रोक के कारण विदेशी मुद्रा की कमी के बाद यह हालात उपजे हैं !

यस्मात् पूर्वरविवासरम् श्रीलंकायाः प्रधानमंत्री कार्यालयम् पीएम राजपक्षे इत्या: त्यागपत्रस्य वार्तायाः खंडनम् कृतं तै: चनृतं शपितं कथितं च् तत वर्तमाने इदृशमेव कश्चित योजनाम् नास्ति !

इससे पहले रविवार को श्रीलंका के प्रधानमंत्री कार्यालय ने पीएम राजपक्षे के इस्तीफे की खबरों का खंडन किया और उन्हें झूठा करार दिया और कहा कि वर्तमान में ऐसी कोई योजना नहीं है !

देशे आर्थिक संकटेन निर्वाहनाय सर्वकारस्य प्रयासै: जनानां असंतोषम् गृहीत्वा कोलंबो इत्यां वृहत् रूपे विरोधप्रदर्शनानां अनंतरम् श्रीलंकाम् शनिवासरम् त्रीणि दिवसीय पूर्णदेशे विचरणे प्रतिबंधम् स्थापितं !

देश में आर्थिक संकट से निपटने के लिए सरकार के प्रयासों से जनता के असंतोष को लेकर कोलंबो में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शनों के बाद श्रीलंका ने शनिवार को तीन दिवसीय द्वीप-व्यापी कर्फ्यू लगा दिया है !

श्रीलंकायाः राष्ट्रपतिशुक्रवासरं सार्वजनिकसुरक्षायाः सार्वजनिकव्यवस्थायाः परिचर्याम् सुनिश्चिताय पूर्ण देशे आपातकालस्य घोषणाम् कृतमासीत् !

श्रीलंका के राष्ट्रपति ने शुक्रवार को सार्वजनिक सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के रखरखाव को सुनिश्चित करने के लिए देशव्यापी आपातकाल की घोषणा की थी !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here