भाजपा कांग्रेसम् दत्तं नव नाम, आईएनसी इतस्य अर्थम् आई नीड कमीशन इति ! बीजेपी ने कांग्रेस को दिया नया नाम, आईएनसी का मतलब आई नीड कमीशन !

0
205

राफेल वाणिज्यं एकदा पुनः चर्चायामस्ति ! तु चर्चाम् येनकारणं भवति कुत्रचित फ्रांसस्य मीडिया दृढ़कथनं कृतवान तत यदा भारते यूपीए इतस्य सर्वकारः आसीत् तर्हि तत काळम् नियोगं खादितं !

राफेल डील एक बार फिर चर्चा में है ! लेकिन चर्चा इसलिए हो रही है क्योंकि फ्रांस की मीडिया ने दावा किया है कि जब भारत में यूपीए की सरकार थी तो उस समय कमीशन खाया गया !

इति प्रकारस्य वार्ताम् कांग्रेस निराधार ज्ञापयति, तु भाजपायाः राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा आईएनसी इतम् एकः नाम दत्त: ! सः कथित: तत यस्यार्थम् आई नीड कमीशन इत्यास्ति !

इस तरह की खबर को कांग्रेस बेबुनियाद बता रही है, लेकिन बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने आईएनसी को एक नाम दिया ! उन्होंने कहा कि इसका अर्थ आई नीड कमीशन है !

कांग्रेसस्य कार्यालये एग्रीमेंट ऑफ कमीशन इत्ये हस्ताक्षरम् क्रियते ! भाजपायाः आरोपेषु कांग्रेसम् कथितं वस्तुतः बहु प्रकरणेषु आवृत: मोदी सर्वकारः मिथ्यारोपं आरोप्यति !

कांग्रेस के कार्यालय में एग्रीमेंट ऑफ कमीशन पर दस्तखत किए जाते थे ! बीजेपी के आरोपों पर कांग्रेस ने कहा कि दरअसल तमाम मुद्दों पर घिरी हुई मोदी सरकार अनर्गल आरोप लगा रही है !

४० प्रतिशतस्य मूल्येण नियोगं नीष्यति ! भ्रष्टाचारस्य ज्ञानमस्ति १० जनपथ राहुल गांधी सोनिया गांधी च् ४० प्रतिशतस्य मूल्येण नियोगम् नीतौ इमे नियोगम् अपि नयत: वाणिज्यम् चपि कर्तुम् न शक्नुत: !

40 फीसद की रेट से कमीशन लेंगे ! भ्रष्टाचार का पता है 10 जनपथ राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने 40 फीसद की दर से कमीशन ली ये कमीशन भी लेते हैं और डील भी नहीं कर पाते हैं !

फ्रांसस्य पब्लिकेशन मीडियापार्ट एकदा पुनः वृहद रहस्योद्घाटनम् कृतं तत राफेल वाणिज्याय दसॉ एविएशन सुशेन गुप्ता नाम्न: मध्यकाम् २००७ तमेण २०१२ तमस्य मध्य ७.५ मिलियन यूरो दत्तं स्म !

फ्रांस के पब्लिकेशन मीडियापार्ट ने एक बार फिर से बड़ा खुलासा किया है कि राफेल डील के लिए दसॉ एविएशन ने सुशेन गुप्ता नाम के बिचौलिए को 2007 से 2012 के बीच 7.5 मिलियन यूरो दिए थे !

एकः प्रसिद्ध वार्ता चैनल टाइम्स नाउ नवभारतस्य पार्श्व इदृशं एक्सक्ल्युसिव प्रपत्रं हस्ते आगतं यस्मिन् इति वार्तायाः रहस्योद्घाटनम् भवति तत २०१३ तः पूर्व राफेल इतस्य वाणिज्ये नियोगमभवत् !

एक प्रसिद्ध न्यूज चैनल टाइम्स नाउ नवभारत के पास ऐसे EXCLUSIVE पेपर हाथ लगे हैं जिसमें इस बात का खुलासा होता है कि 2013 से पहले राफेल के सौदे में घूसखोरी हुई !

मीडिया सूचनायां दृढ़कथनं कृतवान तत सुशेन गुप्ता एकम् शेल संस्थाम् निर्मितः दसॉ संस्थाया च् ४० प्रतिशतम् नियोगं याचिष्यति स्म ! सुशेन गुप्ता साफ्टवेयर इंजीनियर भूत्वा मेलित: स्म !

मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सुशेन गुप्ता ने एक शेल कंपनी बनाई थी और दसॉ कपंनी से 40% कमीशन मांगा था ! सुशेन गुप्ता सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनकर मिला था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here