25.1 C
New Delhi

पूजा स्थल अधिनियम को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में दायर दसवीं याचिका, इस बार सुप्रीम कोर्ट अधिवक्ता और भारत युवा पुरस्कार विजेता करुणेश शुक्ला !

Date:

Share post:

फोटो साभार ट्विटर

सुप्रीम कोर्ट में एक अन्य जनहित याचिका में पूजा स्थल अधिनियम के प्रावधानों को चुनौती दी गई है, जिसमें कहा गया है कि मुस्लिम किसी भी जमीन के टुकड़े के संबंध में किसी भी अधिकार का दावा नहीं कर सकते जब तक कि यह कानूनी रूप से स्वामित्व वाली और कब्जे वाली सामान्य भूमि पर नहीं बनाया गया हो !

सुप्रीम कोर्ट के वकील और भारत यूथ अवार्डी करुणेश शुक्ला ने याचिका दायर की है ! केस टाइटल करुणेश कुमार शुक्ला बनाम भारत संघ और अन्य ! याचिका में कहा गया है कि छत, दीवारों, खंभों, नींव और यहां तक ​​कि नमाज अदा करने के बाद भी मंदिर का धार्मिक चरित्र नहीं बदलता है !

मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के बाद, एक मंदिर हमेशा एक मंदिर होता है जब तक कि मूर्ति को विसर्जन के अनुष्ठान के साथ दूसरे मंदिर में स्थानांतरित नहीं किया जाता है, याचिका में कहा गया है कि इसमें यह भी कहा गया है कि जिन संरचनाओं का निर्माण इस्लाम के सिद्धांतों के अनुसार किया गया है और इस्लामी कानून में निहित प्रावधानों के खिलाफ निर्मित मस्जिदों को मस्जिद नहीं कहा जा सकता है !

मंदिरों (पूजा के स्थान) और मस्जिदों (प्रार्थना के स्थान) का धार्मिक चरित्र पूरी तरह से अलग है ! इसलिए, एक ही कानून दोनों पर लागू नहीं किया जा सकता है, जनहित याचिका में कहा गया है कि मंदिर पूजा का स्थान है क्योंकि उसमें भगवान निवास करते हैं और इसीलिए मंदिर हमेशा एक मंदिर होता है और इसका धार्मिक चरित्र कभी नहीं बदलता है !

जबकि मस्जिद केवल प्रार्थना का स्थान है इसीलिए, खाड़ी देशों (इस्लाम का जन्मस्थान) में, इसे सड़क, स्कूल अस्पताल और सार्वजनिक कार्यालय बनाने के लिए भी ध्वस्त/स्थानांतरित कर दिया जाता है !तदनुसार, याचिका में पूजा स्थल अधिनियम, 1991 की धारा 2, 3 और 4 को चुनौती दी गई है, जिसमें कहा गया है कि प्रावधान संविधान के अनुच्छेद 14, 15, 21, 25, 26, 29 का उल्लंघन है !

यह भी ध्यान दिया जा सकता है कि पूजा स्थल अधिनियम 1991 को चुनौती देने वाली एक अन्य याचिका अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय द्वारा दायर सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष लंबित है, जिसमें कहा गया है कि इस अधिनियम ने अपने पूजा स्थलों को बहाल करने के लिए न्यायालय और धार्मिक संप्रदायों की शक्ति को छीन लिया है ! मार्च 2021 में याचिका पर नोटिस जारी किया गया था !

पूजा स्थल (विशेष प्रावधान) अधिनियम, 1991 को चुनौती देने वाली सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष यह 10वीं याचिका है ! अंतिम (आठवीं) जनहित याचिका पूर्व संसद सदस्य चिंतामणि मालवीय द्वारा दायर की गई थी, जिसमें कहा गया था कि पूजा स्थल अधिनियम हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों और सिखों के अधिकारों को छीन लेता है, ताकि बर्बर आक्रमणकारियों द्वारा नष्ट किए गए उनके पूजा स्थलों और तीर्थों को बहाल किया जा सके !

उक्त जनहित याचिका अधिवक्ता राकेश मिश्रा के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई थी ! इसमें भगवान राम के जन्मस्थान को शामिल नहीं किया गया है, लेकिन इसमें भगवान कृष्ण का जन्मस्थान शामिल है, हालांकि दोनों ही निर्माता भगवान विष्णु के अवतार हैं और पूरी दुनिया में समान रूप से पूजे जाते हैं ! पीआईएल में कहा गया है !

याचिका में आगे आरोप लगाया गया है कि पूजा स्थल अधिनियम भारतीय संविधान के अनुच्छेद 26 के तहत गारंटीकृत पूजा स्थलों और तीर्थस्थलों को पुनर्स्थापित करने, प्रबंधित करने, बनाए रखने और प्रशासन करने के हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों और सिखों के अधिकार का स्पष्ट रूप से उल्लंघन करता है ! उक्त जनहित याचिका में कानून और न्याय मंत्रालय, गृह मंत्रालय और संस्कृति मंत्रालय को प्रतिवादी बनाया गया है !

इसके अतिरिक्त, याचिका कानून के निम्नलिखित प्रश्न उठाती है:-

1.क्या केंद्र के पास न्यायालयों के दरवाजे बंद करने की शक्ति है ?

2.क्या केंद्र के पास पूजा स्थलों और तीर्थस्थलों पर अवैध अतिक्रमण के खिलाफ न्यायिक उपचार पर रोक लगाने की शक्ति है ?

3.क्या केंद्र ने बना कर अपनी शक्ति का अतिक्रमण किया है आक्रमणकारियों और कानून तोड़ने वालों द्वारा की गई गलती के खिलाफ पीड़ित हिंदुओं जैन बौद्ध सिखों के लिए उपलब्ध न्यायिक उपचार पर रोक लगाने के प्रावधान ?

4.क्या संविधान के लागू होने के बाद अनुच्छेद 372(1) के अर्थ में हिंदू कानून लागू कानून है ?

5.क्या आक्षेपित अधिनियम की धारा 2, 3, और 4 अनुच्छेद 13 (2) के तहत शून्य है और अनुच्छेद 14, 15, 21, 25, 26 और 29 के अल्ट्रा वायर्स हैं ?

6.क्या कोई नियम विनियम कस्टम उपयोग, कानून के बल पर, अनुच्छेद 25-26 के विरुद्ध चलना अनुच्छेद 13(1) के आधार पर शून्य है ?

7.क्या 15.8.1947 से पहले धार्मिक स्थलों पर अवैध निर्माण अनुच्छेद 13(1) के तहत निषेधाज्ञा के आधार पर शून्य और गैर-स्थायी हो गया है ?

8.क्या भगवान राम के जन्मस्थान का बहिष्कार और भगवान कृष्ण के जन्मस्थान को शामिल करने से अनुच्छेद 14 का उल्लंघन होता है क्योंकि दोनों भगवान विष्णु के अवतार हैं ?

9.क्या आक्षेपित अधिनियम धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांत का उल्लंघन करता है, जैसा कि हिंदुओं, जैन, बौद्ध, सिखों के अपने पूजा स्थलों और तीर्थयात्रा को न्यायालय के माध्यम से बहाल करने के अधिकार पर अंकुश लगाने के लिए किया गया है ?

याचिकाकर्ता का तर्क है कि पूजा स्थल अधिनियम को सार्वजनिक व्यवस्था की आड़ में अधिनियमित किया गया है, जो राज्य का विषय है (प्रविष्टि-1, सूची-द्वितीय) इसी तरह, तीर्थयात्रा, भारत के बाहर के स्थानों की तीर्थयात्राओं के अलावा भी राज्य का विषय है (प्रविष्टि-7, सूची-द्वितीय) ! इसलिए, केंद्र आक्षेपित अधिनियम को अधिनियमित नहीं कर सकता है !

अनुच्छेद 13 (2) राज्य को भाग-III के तहत प्रदत्त अधिकारों को छीनने के लिए कानून बनाने से रोकता है, लेकिन अधिनियम हिंदुओं के जैन बौद्ध सिखों के अधिकारों को छीन लेता है, जो बर्बर आक्रमणकारियों द्वारा नष्ट किए गए उनके पूजा स्थलों और तीर्थस्थलों को बहाल करते हैं ! इसमें भगवान राम के जन्मस्थान को शामिल नहीं किया गया है, लेकिन इसमें भगवान कृष्ण का जन्मस्थान शामिल है !

हालांकि दोनों सृष्टिकर्ता भगवान विष्णु के अवतार हैं और पूरी दुनिया में समान रूप से पूजे जाते हैं, इसलिए मनमाना, तर्कहीन और अनुच्छेद 14-15 का उल्लंघन करता है ! न्याय का अधिकार, न्यायिक उपचार का अधिकार, गरिमा का अधिकार अनुच्छेद 21 के अभिन्न अंग हैं, लेकिन आक्षेपित अधिनियम उन्हें बेशर्मी से अपमानित करता है !

प्रार्थना करने, मानने और हिंदुओं के धर्म का प्रचार करने के अधिकार जैन बौद्ध सिखों को अनुच्छेद 25 के तहत गारंटी दी गई है, अधिनियम द्वारा जानबूझकर और खुले तौर पर अपमानित किया गया है ! यह अधिनियम अनुच्छेद 26 के तहत गारंटीकृत पूजा स्थलों को पुनर्स्थापित करने, प्रबंधित करने, बनाए रखने और प्रशासन करने के लिए हिंदुओं, जैन बौद्ध सिखों के अधिकारों का स्पष्ट रूप से उल्लंघन करता है !

हिंदुओं की लिपि और संस्कृति को बहाल करने और संरक्षित करने का अधिकार, जैन बौद्ध सिख, अनुच्छेद 29 के तहत गारंटीकृत अधिनियम द्वारा खुले तौर पर अपमानित किया गया है ! निर्देश फिर भी देश के शासन में मौलिक हैं और अनुच्छेद 49 राज्य को राष्ट्रीय महत्व के स्थानों को विरूपण और विनाश से बचाने का निर्देश देता है ! राज्य आदर्शों और संस्थानों का सम्मान करने और भारतीय संस्कृति की समृद्ध विरासत को महत्व देने और संरक्षित करने के लिए बाध्य है !

केवल उन्हीं स्थानों की रक्षा की जा सकती है, जो उस व्यक्ति के व्यक्तिगत कानूनों के अनुसार बनाए गए थे, जिन्होंने उन्हें बनाया था, लेकिन व्यक्तिगत कानून के उल्लंघन में बनाए गए स्थानों को पूजा स्थल नहीं कहा जा सकता है ! बर्बर आक्रमणकारियों और विदेशी शासकों के अवैध कृत्यों को वैध बनाने के लिए पूर्वव्यापी कटऑफ-तिथि यानी 15.8.1947 तय की गई थी !

संविधान के प्रारंभ में अनुच्छेद 372(1) के आधार पर हिंदू कानून लागू कानून था !वहाल ही में, सेवानिवृत्त सेना अधिकारी और 1971 के युद्ध के दिग्गज लेफ्टिनेंट कर्नल अनिल काबोत्रा ​​ने भी पूजा स्थल (विशेष प्रावधान) अधिनियम 1991 की धारा 2, 3 और 4 की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की ! जो न केवल अनुच्छेद 14, 15, 21, 25, 26 और 29 का उल्लंघन करता है बल्कि धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों का भी उल्लंघन करता है, जो संविधान की प्रस्तावना और बुनियादी ढांचे का एक अभिन्न अंग है !

पूजा स्थल अधिनियम, 1991 के खिलाफ अन्य नौ लंबित याचिकाएं निम्नलिखित याचिकाकर्ताओं द्वारा दायर की गई हैं:-

  1. अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय !

2.सुब्रमण्यम स्वामी !

3.विश्व पुजारी पुरोहित महासंघ एड के माध्यम से ! अधिवक्ता विष्णु जैन !

4.अधिवक्ता चंद्र शेखर !

5.गुरु देवकीनंदन ठाकुर !

6.अधिवक्ता रुद्र विक्रम सिंह !

7.स्वामी जितेंद्रानंद !

8.लेफ्टिनेंट कर्नल अनिल काबोत्रा !

9.पूर्व सांसद चिंतामणि मालवीय !

इस अधिनियम को पहले अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय द्वारा चुनौती दी गई थी ! याचिका पर मार्च 2021 में नोटिस जारी किया गया था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

कन्हैया लाल तेली इत्यस्य किं ?:-सर्वोच्च न्यायालयम् ! कन्हैया लाल तेली का क्या ?:-सर्वोच्च न्यायालय !

भवतम् जून २०२२ तमस्य घटना स्मरणम् भविष्यति, यदा राजस्थानस्योदयपुरे इस्लामी कट्टरपंथिनः सौचिक: कन्हैया लाल तेली इत्यस्य शिरोच्छेदमकुर्वन् !...

१५ वर्षीया दलित अवयस्काया सह त्रीणि दिवसानि एवाकरोत् सामूहिक दुष्कर्म, पुनः इस्लामे धर्मांतरणम् बलात् च् पाणिग्रहण ! 15 साल की दलित नाबालिग के साथ...

उत्तर प्रदेशस्य ब्रह्मऋषि नगरे मुस्लिम समुदायस्य केचन युवका: एकायाः अवयस्का बालिकाया: अपहरणम् कृत्वा तया बंधने अकरोत् त्रीणि दिवसानि...

यै: मया मातु: अंतिम संस्कारे गन्तुं न अददु:, तै: अस्माभिः निरंकुश: कथयन्ति-राजनाथ सिंह: ! जिन्होंने मुझे माँ के अंतिम संस्कार में जाने नहीं दिया,...

रक्षामंत्री राजनाथ सिंहस्य मातु: निधन ब्रेन हेमरेजतः अभवत् स्म, तु तेन अंतिम संस्कारे गमनस्याज्ञा नाददात् स्म ! यस्योल्लेख...

धर्मनगरी अयोध्यायां मादकपदार्थस्य वाणिज्यस्य कुचक्रम् ! धर्मनगरी अयोध्या में नशे के कारोबार की साजिश !

उत्तरप्रदेशस्यायोध्यायां आरक्षकः मद्यपदार्थस्य वाणिज्यकृतस्यारोपे एकाम् मुस्लिम महिलाम् बंधनमकरोत् ! आरोप्या: महिलायाः नाम परवीन बानो या बुर्का धारित्वा स्मैक...