अस्य कृषकः गोधूमस्य स्थितं शस्यं हलयंत्रम् चरित्वा कृतः नष्ट:,किं राकेश टिकैतस्य वार्ताया: अभवत् प्रभावः ? इस किसान ने गेंहू की खड़ी फसल को ट्रैक्टर चलाकर किया नष्ट,क्या राकेश टिकैत की बात का हुआ असर ?

0
385

उत्तर प्रदेशस्य बिजनौरे एकः कृषकः शनिवासरं स्व विरोधम् व्यक्तमानः स्व षड वीघा इति कृषि क्षेत्रे स्थितं गोधूमस्य शस्यं नष्टम् कृतवान !

उत्तर प्रदेश के बिजनौर में एक किसान ने शनिवार को तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ अपना विरोध जताते हुए अपने छह बीघा खेत में खड़ी गेहूं की फसल को नष्ट कर दिया !

चांदपुर प्रखण्डस्य कुलचाना ग्रामस्य सोहित अहलावत: गोधूमस्य शस्ये हलयंत्रम् चरितमानः चलचित्रम् निर्मित: ! सम्प्रति इदम् चलचित्रम् बहु प्रसिद्ध: भवति !

चांदपुर तहसील के कुलचाना गांव के सोहित अहलावत ने गेहूं की फसल पर ट्रैक्टर चलाते हुए वीडियो बनाया ! अब ये वीडियो खूब वायरल हो रहा है !

चलचित्रे द्रक्षयतुम् शक्नोति तत गोधूमस्य कृषि क्षेत्रे सोहित: हलयंत्रम् चरित्वा शस्यं नष्टम् क्रियते ! अस्य कालम् चलचित्रम् निर्मितमानः सोहित: कथ्यति,साधु गोधूमस्य शस्यं स्थितं,तु अद्याहम् येन कर्षयामि अस्य कारणम् इदमेव अस्ति तत यत् नव विधेयकानि आगतम् तैवस्य विरोधे अहम् इदृशं कुर्यामि !

वीडियो में देखा जा सकता है कि गेंहू की खेती में सोहित ट्रैक्टर चलाकर फसल नष्ट कर देता है ! इस दौरान वीडियो बनाते हुए सोहित कहता है,बढ़िया गेंहू की फसल खड़ी हुई है,लेकिन आज मैं इन्हें जोत रहा हूँ और इसका कारण ये ही है कि जो नए कानून आए है उन्हीं के विरोध में मैं ऐसा कर रहा हूँ !

अहम् न इच्छामि तत अनपेक्षितस्य विधेयकानि मयि आरोपितम् ! सोहितस्य कथनमस्ति तत सः सम्प्रति गोधूम् विक्रितुम् न इच्छत: ! तस्य कथनमस्ति तत सः सम्प्रति कृषकाणाम् आन्दोलने सम्मिलताय इंद्रप्रस्थम् गच्छति !

हम नहीं चाहते कि फालतू के कानून हम पर थोपे जाएं ! सोहित का कहना है कि वह अब गेंहू बेचना नहीं चाहता ! उसका कहना है कि वह अब किसानों के आंदोलन में शामिल होने दिल्ली जा रहा है !

यस्मात् एकम् दिवसं पूर्वेव कृषकमहापंचायते भारतीय किसान दलस्य नेता राकेश टिकैत: कृषकै: आंदोलनम् महत्वम् दत्तस्य निवेदनम् कृतः स्म कथितः स्म च् तत यदि आवश्यकता भवितम् तदा शस्यान् नष्टम् कुर्वन्तु !

इससे एक दिन पहले ही किसान महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने किसानों से आंदोलन को महत्व देने का आग्रह किया था और कहा था कि अगर जरूरत पड़े तो फसलों को नष्ट कर दें !

शनिवासरम् मध्यान्हम् टिकैत: कथितः तत अहलावतस्य चलचित्रम् तेन पीड़ाम् दत्त: ! यदि सरकारः अस्माकं वार्ता न मान्यति,तदाधिकम् कृषकाः इदृशैव करिष्यन्ति !

शनिवार दोपहर को टिकैत ने कहा कि अहलावत के वीडियो ने उन्हें पीड़ा दी है ! अगर सरकार हमारी बात नहीं मानती है,तो अधिक किसान ऐसा ही करेंगे !

टिकैत: कथितः सरकारः मया एकम् इदृशैव स्थितायै बला कृतम् यत्र कृषका: शस्यान् नष्टम् कुर्वन्ति,यत् साधु वार्ता नास्ति ! चलचित्रम् पश्ये मह्यं व्यक्तिगत रूपेण पीड़ाम् अभवत् !

टिकैत ने कहा सरकार ने हमें एक ऐसी स्थिति के लिए मजबूर कर दिया है जहां किसान फसलों को नष्ट कर रहे हैं,जो अच्छी बात नहीं है ! वीडियो देखने पर मुझे व्यक्तिगत रूप से पीड़ा हुई !

तु अयम् तत् नास्ति तत यत् अहम् कृषकान् एकस्य मौसमस्य शस्याणां बलिदानाय तत्पराय कथितः स्म ! अस्य प्रकारस्य क्षत्या: अर्थम् न निर्मयति !

लेकिन यह वो नहीं है कि जो मैंने किसानों को एक सीजन की फसलों का बलिदान करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा था ! इस तरह का नुकसान का मतलब नहीं बनता है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here