येन दोषपूर्ण महंतस्य अन्वेषणे स्थानम्-स्थानम् परिभ्रमति स्मारक्षकः,तत् घटनायुक्तक: ग्रामैव आसीत् ! जिस शातिर महंत की तलाश में दर-दर भटक रही थी पुलिस,वो घटना वाले गांव में ही था !

0
212

फोटो साभार टाइम्स नाउ

उत्तर प्रदेशस्य बदायूंयाम् महिलायाः सह सामूहिक दुष्कर्म जघन्य प्रकारेण च् हननस्य मुख्यारोपी महंत सत्यनारायणम् यूपी आरक्षकः गुरूवावासरं रात्रिम् बन्दीमक्रियते ! महंते आरक्षकः ५० सहस्र रूपयकस्य पारितोषिकम् धारयेत् स्म !

उत्तर प्रदेश के बंदायू में महिला के साथ गैंगरेप और जघन्य तरीके से हत्या करने के मुख्य आरोपी महंत सत्यनारायण को यूपी पुलिस ने गुरुवार रात को गिरफ्तार कर लिया है ! मंहत पर पुलिस ने 50 हजार रुपये का इनाम रखा था !

येन महंतम् अन्वेषणाय यूपी आरक्षकः स्थानम्- स्थानम् परिभ्रमति स्म सः कुत्रैव अन्यत्र न अपितु घटनायुक्तक: उघैती आरक्षकस्थानम् क्षेत्रस्य ग्रामैव स्व एकस्य अनुनायीयाः पार्श्व गुप्यन् स्म ! इत: आरक्षकः आरोपिया अन्वेषणं करोति !

जिस मंहत को खोजने के लिए यूपी पुलिस दर-दर भटक रही थी वह कहीं और नहीं बल्कि घटना वाले उघैती पुलिस थाना क्षेत्र के गांव में ही अपने एक अनुयायी के यहां छिपा हुआ था ! फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है !

त्रय जनवरी इतम् अभवत् इति जघन्य घटनायाः अनंतरेण इव मुख्यारोपी: महंत सत्यनारायण: लुप्तम् चरति स्म आरक्षकस्य च् चत्वारि समूहानि तस्य अन्वेषणाय सततं भाराणि भारयति स्म तु तस्य कश्चित अवशेषं न प्राप्तयेत् स्म !

तीन जनवरी को हुई इस जघन्य वारदात के बाद से ही मुख्य आरोपी महंत सत्यनारायण फरार चल रहा था और पुलिस की चार टीमें उसकी तलाश के लिए लगातार दबिशें दे रही थी लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था !

तु आरक्षकस्य खुफिया सूचनातन्त्रस्य कारणेन सः बहुकालैव आरक्षकम् विश्वासघातम् न दाशक्नुते अंततः च् आरक्षकस्य बंधनम् आगतवान ! इति प्रकरणस्य द्वय अन्यारोपियो जसपालम् वेदरामम् च् आरक्षकः प्रथमैव बन्दीमक्रियते !

लेकिन पुलिस के खुफिया सूचना तंत्र की वजह से वह ज्यादा देर तक पुलिस को धोखा नहीं दे सका और अनंत: पुलिस के हत्थे चढ़ गया ! इस मामले के दो अन्य आरोपियों जसपाल तथा वेदराम को पुलिस पहले ही अरेस्ट कर चुकी है !

भवतम् ज्ञापयतु तत विगत रविवासरं बदायूं जनपदस्य उघैती आरक्षकस्थान क्षेत्रस्य एकस्य ग्रामस्य धार्मिक स्थले पूजनं कृतेनागच्छत् महिलाया सह आरोपिय: पाशवतायाः सीमाम् उल्लंघयते स्म !

आपको बता दें कि बीते रविवार को बदायूं जिले के उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव के धार्मिक स्थल में पूजा करने गई महिला के साथ आरोपितों ने हैवानियत की हद पार कर दी थी !

तैव रात्रि ११ वादनम् धर्मस्थलस्य परिदृष्यक: स्व द्वय सखाभ्यां सह बोलेरो इत्येन महिलायाः रक्तेन युक्तम् शव गृहित्वा गृहमप्राप्तम् ! यदैव परिजन: बाह्यतागच्छन्ति,ते शव गृहस्य बाह्य क्षिप्त्वालुप्यते !

उसी रात 11 बजे धर्म स्थल की देखरेख करने वाला अपने दो साथियों के साथ बोलेरो से महिला का खून से लथपथ शव लेकर घर पहुंचा ! जब तक परिजन बाहर से आते,वे शव घर के बाहर फेंककर फरार हो गए !

वस्तुतः,इति कालम् महिलायाः शिशवः त्रयाणि अपरिज्ञायते ! अस्यानंतरं भौमवासरम् यत् मृत्युकारणपरीक्षा विवरणपत्रमागतवान तर्हि तस्मिन् आरोपिनां पशुता सम्मुख: आगतैव अधिकारिणाम् सचेतनता: उड्डीयते !

हालांकि,इस दौरान महिला के बच्चों ने तीनों को पहचान लिया ! इसके बाद मंगलवार को जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई तो उसमें आरोपियों की दरिंदगी सामने आते ही अधिकारियों के होश उड़ गए !

मृत्युकारणपरीक्षा विवरणपत्रस्य अनुरूपम् महिलाया सह न केवलं सामूहिकदुष्कर्मस्य पुष्टिमभव्यते अपितु तस्या: सह बर्बरता इत्याक्रियते ! मृत्युकारणपरीक्षा विवरणपत्रे तस्य गोपनीयांगे क्षतस्य चिन्हम् बदने चपि घातस्य वार्ता सम्मुखमागतवान !

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार,महिला के साथ न सिर्फ गैंगरेप की पुष्टि हुई है बल्कि उसके साथ बर्बरता की गई ! पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनके प्राइवेट पार्ट में चोट के निशान और शरीर पर भी वार की बात सामने आई है !

इत्यैवस्यानंतरं एसएसपी इति कार्यवाहिम् कृतमानः थानाध्यक्ष इतम् निलम्बितमक्रियते स्म ! पशुतायाः अनंतर हननस्य घटनायाः मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ: संज्ञानमानः एडीजी जोन बरेली इत्येन विवरणपत्र: याचष्यते !

इसी के बाद एसएसपी ने कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया था ! दरिंदगी के बाद हत्या की घटना का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लेते हुए एडीजी जोन बरेली से रिपोर्ट मांगी !

निर्देश: दत्तवान तत यदि एसटीएफ इतमपि नियुक्तस्य आवश्यक्ताम् भवति तर्हि स्थापित्वा शीघ्रम् घटनायाः अन्वेषणमक्रियते प्रकरणस्य च् अन्वेषण: एसआईटी इत्येन कारयस्य निर्देश: अपि दत्तवान ! एतावतैव न आरोपिषु एनएसए इत्यस्यानुरूपम् कार्यवाहिम् कृतस्यादेश: दत्तवान स्म !

निर्देश दिया है कि यदि एसटीएफ को भी लगाना पड़े तो लगाकर जल्द घटना की जांच की जाए और मामले की जांच एसआईटी से कराने के निर्देश भी दिए ! इतना ही नहीं आरोपियों पर NSA के तहत कार्रवाई करने के आदेश दिए गए थे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here