अधिमूल्यतायाः, अदासतायाः प्रकरणे असदुद्दीन ओवैसिन् व्यंगम् कृतः, पीएम मोदिन् न औरंगजेब जिम्मेवारमस्ति ! महंगाई, बेरोजगारी के मुद्दे पर असदुद्दीन ओवैसी ने कसा तंज, पीएम मोदी नहीं औरंगजेब जिम्मेदार है !

0
109

एआईएमआईएम प्रमुख: असदुद्दीन ओवैसी एतानि दिवसानि बहु खिन्न: सन्ति ! प्रकरणम् औरंगजेबस्य हन्त्या गृहीत्वा ज्ञानवापी मस्जिदस्यास्ति ! १६ मईम् न्यायालयायुक्तेन ज्ञानवापी मस्जिदस्यानुसंधानं पूर्णं कृतवान यत् चभिज्ञानम् संमुखमागतं !

एआईएमआईएम मुखिया असदुद्दीन ओवैसी इन दिनों खासे गरम हैं ! मामला औरंगजेब की मजार से लेकर ज्ञानवापी मस्जिद का है। 16 मई को कोर्ट कमिश्ननर से ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा किया और जो जानकारी सामने आई !

तस्यानुरूपमधोकक्षे शिवलिंगं ळब्धं यस्य सुरक्षायाः जिम्मेवारिम् न्यायालयं उच्चाधिकारिभिः सह सह सीआरपीएफ इतम् प्रदत्तमस्ति ! येषां मध्य ओवैसी कथित: तत प्रलयकालैव ज्ञानवापी मस्जिदम् रमिष्यति !

उसके मुताबिक तहखाने में शिवलिंग मिला जिसकी हिफाजत की जिम्मेदारी अदालत ने आला अफसरों के साथ साथ सीआरपीएफ को सौंपी है ! इन सबके बीच ओवैसी ने कहा कि कयामत तक ज्ञानवापी मस्जिद रहेगी !

येन सहैव सः एकमन्यं वृहत् वार्ता कथित: तत यदि इतिहासस्य वार्ता कृतमस्ति तर्हि वार्ता निःसृतमस्ति तर्हि द्रुतमेव गमिष्यति ! अदासतायाः, अधिमूल्यतायाः इत्याद्या: जिम्मेवारम् औरंगजेब: इव सन्ति ! प्रधानमंत्री मोदिन् न, औरंगजेब: इव सन्ति !

इसके साथ ही उन्होंने एक और बड़ी बात कही कि अगर इतिहास की बात करना है तो बात निकली है तो दूर तलक जाएगी ! बेरोजगारी, महंगाई, वगैरह के जिम्मेदार औरंगजेब ही हैं ! प्रधानमंत्री मोदी नहीं, औरंगजेब ही हैं !

ज्ञानवापी मस्जिदस्य अधोकक्षे ळब्धं शिवलिंगस्य दृढ़कथने ओवैसी प्रश्नमुत्थितमस्ति ! सः कथित: तत इदम् एक: उत्स: अस्ति ! न्यायालयस्यायुक्तेन दृढ़ कथनम् किं न उत्थित: !

ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में मिले शिवलिंग के दावे पर ओवैसी ने सवाल उठाया है ! उन्होंने कहा कि यह एक फव्वारा है, शिवलिंग नहीं ! हर मस्जिद में यह फव्वारा है ! कोर्ट के कमिश्नर द्वारा दावा क्यों नहीं उठाया गया ?

अवसरमवरुद्धस्यादेशम् १९९१ अधिनियमस्य उल्लंघनमस्ति एआईएमआईएम प्रमुख: ए ओवैसी एकस्य याचिकाकर्तायाः दृढ़कथने कथित: तत ज्ञानवापी मस्जिदे शिवलिंगम्मम ळब्धमस्ति ! सः कथ्यति ततैकेण प्रकारेण मुस्लिमसमाजम् भयाक्रांतयति !

मौके को सील करने का आदेश 1991 अधिनियम का उल्लंघन है एआईएमआईएम प्रमुख ए ओवैसी ने एक याचिकाकर्ता के दावे पर कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिला है ! वो कहते हैं कि एक तरह से मुस्लिम समाज को डराया धमकाया जा रहा है !

अंततः तानि दलानि कुत्र सन्ति यै: मुस्लिम: केवलं केवलं च् निर्वाचनस्य काळम् स्मरणागच्छन्ति ! वास्तविकतायां सर्वाणि दलानि स्वराजनीतिकेच्छाम् पूर्णकृते संलग्ना: सन्ति ! अधिमूल्यतायादासताया पृथक ज्ञानवाप्या: प्रकरणम् ओवैसिण: जिह्वायां स्थितुं रमति !

आखिर वो दल कहां हैं जिन्हें मुसलमान सिर्फ और सिर्फ चुनाव के समय याद आते हैं ! हकीकत में सभी दल अपने राजनीतिक मकसद को पूरा करने में जुटे हुए हैं ! महंगाई और बेरोजगारी से इतर ज्ञानवापी का मुद्दा ओवैसी की जुबां पर चढ़ा रहता है !

सः कथित: तत यदेदम् देशम् संविधानेण चरति तर्हि सत्तापक्षेण सह सह बहु संगठनानि स्वैच्छाम् किं कुर्वन्ति ! १९९१ तमे यदा स्पष्टम् भवितं स्म तत सम्प्रति यतापि धार्मिक संरचना: सन्ति तानि यथा स्थित्यां रमिष्यन्ति तर्हि अंततः तत विधेयकस्य खण्डनम् किं करोति !

उन्होंने कहा कि जब यह देश संविधान से चल रहा है तो सत्ता पक्ष के साथ साथ कई संगठन मनमर्जी क्यों कर रहे हैं ! 1991 में जब साफ हो गया था कि अब जो भी धार्मिक संरचनाएं हैं और वो यथास्थिति में रहेंगी तो आखिर उस एक्ट की धज्जियां क्यों उड़ायी जा रही हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here