नृप महमूदाबाद शत्रु संपत्त्यां सहस्रानां मुस्लिमानां अधिपत्यं, स्थानीय जनाः कथिता:, सर्वकारः रिक्तं कारयेत् भूमिम् ! राजा महमूदाबाद शत्रु संपत्ति पर हजारों संदिग्ध मुस्लिमों का कब्जा, स्थानीय लोगों ने कहा, सरकार खाली करवाए भूमि !

0
73

फोटो साभार पांचजन्य

नैनीताल नगरस्य मध्य उत्तराखंडोच्च न्यायालयेण च् संलग्नम् शत्रु संपत्त्यां संदिग्ध मुस्लिमानां अधिपत्यं अस्ति ! अधिपत्यकः जनानां संख्या सहस्रेषु प्राप्ता:, नैनीताल नगरे जनसंख्यासंतुलनस्येदम् सर्वात् वृहत् उदाहरणमस्ति ! वृहत् प्रश्नमिदमस्ति ततैतान् अवैध अधिपत्यकान् जनपद प्रशासनम् प्रत्येक सौविध्यं उपलब्धमकारयेत् !

नैनीताल शहर के मध्य और उत्तराखंड हाई कोर्ट से लगी हुई शत्रु संपत्ति पर संदिग्ध मुस्लिमों का कब्जा है ! काबिज लोगों की संख्या हजारों में पहुंच गई है ! नैनीताल शहर में जनसंख्या असंतुलन का ये सबसे बड़ा उदाहरण है ! बड़ा सवाल ये है कि इन अवैध कब्जेदारों को जिला प्रशासन ने हर सुविधा मुहैया करवा कर दी हुई है !

फोटो साभार पांचजन्य

नैनीताले उच्च न्यायालयस्य पार्श्व नृप महमूदाबाद (सीतापुर) मोहम्मद अमीर अहमदस्य संपत्तिमासीत् यस्मिन् मेट्रोपाल विश्रामस्थल पुरातन भवनानि सन्ति ! इमानि भवनम् ११३७५ वर्गमीटर क्षेत्रे सन्ति ! सहैव २२४७८ वर्गमीटर इत्या: भूमिम् अतिरिक्तमस्ति यस्मिन् अवैधरूपेण मुस्लिमा: अधिपत्यं कृतवान ! नृप महमूदाबाद स्वतंत्रतायाः काळम् पकिस्तानम् गतवन्तः तत्रैव च् बासित: !

नैनीताल में हाई कोर्ट के पास राजा महमूदाबाद (सीतापुर) मोहम्मद अमीर अहमद की संपति थी जिसमें मेट्रोपोल होटल और पुरानी कोठिया हैं ! ये भवन 11375 वर्ग मीटर क्षेत्र में बने हुए हैं ! साथ ही 22478 वर्ग मीटर का जमीन और भी है जिसमें अवैध रूप से मुस्लिमों ने कब्जे कर लिए हैं ! राजा महमूदाबाद आजादी के समय पाकिस्तान चले गए और वहीं बस गए !

फोटो साभार पांचजन्य

तस्य इमानि अन्यानि च् संपत्तिम् भारत सर्वकारस्य गृहमंत्रालयस्य स्वामित्वे शत्रु संपत्तिम् १९६८ तमस्य शत्रु संपत्ति अधिनियमस्य अनुरूपम् घोषितवन्तः ! यस्मात् पूर्वमपि इति संपत्त्यां सर्वकारस्य इवाधिकारं रमति स्म ! कांग्रेसस्य मनमोहन सिंह सर्वकारे इति शत्रु संपत्तिम् गृहीत्वा सर्वोच्च न्यायालये सलमान खुर्शीद: अभियोगमपि रणित: स्म ! सलमान खुर्शीद: नृप महमूदाबादस्य एकस्य कथित उत्तराधिकारिण: संमुखागमनस्यानंतरम् इति अभियोगस्य अनुगमन कृतमासीत् !

उनकी ये और अन्य संपति भारत सरकार के गृह मंत्रालय के स्वामित्व में शत्रु संपत्ति 1968 के शत्रु संपत्ति अधिनियम के तहत घोषित हो गई ! इससे पहले भी इस संपत्ति पर सरकार का ही हक रहा था ! कांग्रेस की मनमोहन सिंह सरकार में इस शत्रु संपत्ति को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सलमान खुर्शीद ने केस भी लड़ा था ! सलमान खुर्शीद ने राजा महमूदाबाद के एक कथित वारिस के सामने आ जाने के बाद इस केस की पैरवी की थी !

फोटो साभार पांचजन्य

उल्लेखनियमस्ति नैनीताल मेट्रोपाल विश्रामस्थळं तस्य पार्श्वस्य दायस्य मूल्यमेवेति काळम् शतकोटितः अधिकस्यास्ति, यस्यातिरिक्तं उत्तरप्रदेशस्य राजधानी लक्ष्मणनगरे हजरतगंजस्यापणानि, सीतापुर अन्यापि बहवः नगरेषु नृप महमूदाबादस्य शत्रु संपत्तिम् घोषित्वा सर्वकारस्य अधिपत्ये अस्ति !

उल्लेखनीय है नैनीताल मेट्रोपोल होटल और उसके पास की शत्रु संपत्ति की कीमत ही इस वक्त सौ करोड़ से ज्यादा की है, इसके अलावा यूपी की राजधानी लखनऊ में हजरतगंज की दुकानें, सीतापुर और भी कई शहरों में राजा महमूदाबाद की शत्रु संपत्ति घोषित होकर सरकार के कब्जे में है !

इति प्रकरणे सलमान खुर्शीदम् न्यायालयेण पराजयं ळब्धमासीत् इमानि संपत्त्य: च् भारतं राज्यं च् सर्वकारयो अधिपत्यमेव रमिते ! मेट्रोपाल विश्राम स्थलस्यार्श्व पार्श्व यत् भूमिम् शत्रु संपत्तिमस्ति तेषु शतानि मुस्लिम कुटुंबानि आगत्वा बसितानि ! रामपुर, मुरादाबाद, स्वार, टांडा इत्यादयः क्षेत्रेभ्यः आगताः इमे मुस्लिम जनाः स्वपूर्णम् वासम् निर्मिता:, यद्यपि इमानि भूमिम् सर्वकारस्यास्ति !

इस मामले में सलमान खुर्शीद को कोर्ट से हार मिली थी और ये संपत्तियां भारत और राज्य सरकार के अधीन ही रहीं ! मेट्रोपोल होटल के आसपास जो जमीन शत्रु संपत्ति है उस पर सैकड़ों मुस्लिम परिवार आकर बसते चले गए ! रामपुर, मुरादाबाद, स्वार, टांडा आदि क्षेत्रों से आए ये मुस्लिम लोगों ने अपनी पूरी बस्ती बना डाली, जबकि ये जमीन सरकार की है !

दृष्टगतकं वार्ता इदमस्ति तत नैनीताल जनपद कमिश्नरी मुख्यालयमपि अस्ति नैनीताल उच्च न्यायालयस्य च् सम्यक् समे सर्वकारी भूम्यां अधिपत्यस्य क्रीड़ा बहुकालेभ्यः चरितं, जनपद प्रशासनम् नगर पालिका एतान् अधिपत्यकान् सर्वकारी सौविध्यानि अपि प्रदत्तं ! वस्तुतः इदम् मतस्य राजनित्या: कारणेन सर्वमेकं षड्यंत्रस्य अनुरूपमभवत् !

गौर करने वाली बात ये है कि नैनीताल जिला कमिश्नरी मुख्यालय भी है और नैनीताल हाई कोर्ट के ठीक बराबर में सरकारी जमीन पर कब्जा करने का खेल कई सालों से चलता रहा, जिला प्रशासन ने नगर पालिका ने इन कब्जेदारों को सरकारी सुविधाएं भी प्रदान की ! दरअसल ये वोट की राजनीति की वजह से सब एक षडयंत्र के तहत हुआ !

कुत्रचित येषां अधिपत्यकानां स्व राजनैतिक प्रमुखा: सन्ति यै: च् राजनैतिक नेतृणाम् स्पष्टम् संरक्षणम् लब्धितुं रमिताः ! शत्रु संपत्त्यां का: जनाः आगत्वात्र बासिता: ? इति वार्तायाः अद्यैव कश्चित गम्भीर्यताया अन्वेषणमपि नाभवत् ! सूत्रा: ज्ञापयन्ति तत येषु बहवः रोहिंग्या: बांग्लादेशिण: सन्ति ! इति शत्रु संपत्त्यां अवैध अधिपत्यानां कारणेन नैनीताल नगरस्य जनसंख्यासंतुलनम् भवितमस्ति !

क्योंकि इन कब्जेदारों के अपने राजनीतिक आका हैं और इन्हें राजनीतिक नेताओं का खुला संरक्षण मिलता रहा ! शत्रु संपत्ति में कौन लोग आकर यहां बसे ? इस बात की आज तक कोई गंभीरता से जांच भी नहीं हुई ! सूत्र बताते हैं कि इनमें ज्यादातर रोहिंग्या और बंग्लादेशी हैं ! इस शत्रु संपत्ति पर अवैध कब्जों की वजह से नैनीताल शहर का जनसंख्या असंतुलन हुआ है !

पूर्व १५ वर्षेषु नैनीताल मुस्लिम जनसंख्यायां चतुर्गुणितस्य वृद्धिम् भवितमस्ति ! पूर्वदिवसानि खुफियाविभागस्यैकं सूचनापत्रमपि आगतं स्म तत नैनीतालस्य पर्यटनवणिजे रोहिंग्यानां प्रवेशं अभवत् ! नौका चालक, मांस, शाकम्, मार्गदर्शकम्, विश्राम स्थलम् कार्ये, टैक्सी व्यवसाय इत्यादयेषु येषां अधिपत्यं अभवन् ! येषु अधिकांशतः शत्रु संपत्त्यां अवैध रूपेण अधितिष्ठा: सन्ति !

पिछले 15 सालों में नैनीताल मुस्लिम आबादी में चार गुना की वृद्धि हुई है ! पिछले दिनों खुफिया विभाग की एक रिपोर्ट भी आई थी कि नैनीताल के पर्यटन कारोबार में रोहिंग्यों की घुसपैठ हो गई है ! बोट चालक, मांस, सब्जी, गाइड, होटल में काम करने, टैक्सी व्यवसाय आदि में इनका कब्जा हो चुका है ! इनमें अधिकांश शत्रु संपत्ति पर अवैध रूप से काबिज हैं !

येषां संख्या शतेषु न सहस्रेषु प्राप्ता: ! एकं काळम् आसीत् तत नैनीतालस्य मस्जिदे स्थानीय पुरातन जनाः, नमाज अभ्यांतरम् तिष्ठ्वा पठन्ति स्म ! अद्य शुक्रवासरस्य नमाज मार्गे ईदस्य च् नमाज फ्लैट, क्षेत्रे यदा पाठ्यते तर्हि ज्ञातम् भवति तत जनसंख्या असंतुलनस्य वार्ता: किं उत्थीतुं आरंभिष्यति ?

इनकी संख्या सैकड़ों में नहीं हजारों में पहुंच गई है ! एक वक्त था कि नैनीताल की मस्जिद में स्थानीय पुराने लोग, नमाज अंदर बैठकर पढ़ लेते थे ! आज जुमे की नमाज सड़क पर और ईद की नमाज फ्लैट, मैदान पर जब पढ़ी जाती है तो पता चलता है कि जनसंख्या असंतुलन के बातें क्यों उठने लगी हैं ?

२०१८ तमे उत्तर प्रदेशस्य क्षेत्रस्य शत्रु संपत्तिम् अभिरक्षा कार्यालयस्य अधिकारी धर्मपाल सिंह: अत्रागत्वा, हजरुद्दीन एहमदस्य, केशजहां बेगमस्य रुखसाना एहमदस्य च् त्रिषु संपत्तिषु स्व बोर्ड इति स्थापितं स्म ! तस्य एकं सम्पत्तिम् दरऊ इत्यां, किच्छायां अपि चिन्हितं कृतं स्म ! सूत्रा: ज्ञापयन्ति तत इति संपत्त्यां अपि मुस्लिमानां अधिपत्यं अभवन् !

2018 में यूपी सर्किल के शत्रु संपत्ति अभिरक्षा कार्यालय के अधिकारी धर्म पाल सिंह ने यहां आकर, हजरुद्दीन एहमद, केशजहां बेगम और रुखसाना एहमद की तीन संपत्तियों पर अपना बोर्ड लगाया था ! उनकी एक संपत्ति दरऊ, किच्छा में भी चिन्हित की गई थी ! सूत्र बताते हैं कि इस संपत्ति पर भी मुस्लिमों के कब्जे हो चुके हैं !

नैनीताले शत्रु संपत्त्यां अवैध अधिपत्यं प्रत्यां स्थानीय नागरिक: नितिन कार्की एकं पत्रम् पीएम नरेंद्र मोदिमपि लिखितमस्ति ! सः डीएम नैनीतालेण अपि इदम् निवेदित: तत सः इति वार्तायाः अन्वेषणं कारयतु तत इमे अधितिष्ठा: जनाः का: सन्ति अत्र च् आगत्वा कीदृशेभ्यः बासिता: ! यै: सर्वकारी सौविध्याणि कीदृशेभ्यः ळब्धिष्यते ! सर्वकारः स्व इति भूमिम् मुक्तं कारयेत् !

नैनीताल में शत्रु संपत्ति पर अवैध कब्जे के बारे में स्थानीय नागरिक नितिन कार्की ने एक पत्र प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को भी लिखा है ! उन्होंने डीएम नैनीताल से भी ये निवेदन किया है कि वो इस बात की जांच करवाएं कि ये काबिज लोग कौन हैं और यहां आकर कैसे बस गए ! इन्हे सरकारी सुविधाएं कैसे मिलने लगी ? सरकार अपनी इस जमीन को खाली करवाए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here