मथुराप्रकरणमुष्णं करोति भाजपा, निर्वाचनेषु का पश्चिमी उत्तरप्रदेशे अखिलेशजयंतयो विकृष्यत: क्रीड़ाम् ! मथुरा मुद्दा गरमा रही है भाजपा, चुनावों में क्या पश्चिमी यूपी में अखिलेश-जयंत का बिगड़ेगा खेल !

0
208

प्रथमोत्तरप्रदेश सर्वकारे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य:, तस्यानंतरम् कर्नाटकस्य हुबल्या भाजपा विधायक अरविंद बेलाड: सम्प्रति च् मथुराया सांसद हेमा मालिनी, एतेषु त्रिषु नेतृषु एकानि वस्तूनि समन्वयमस्ति !

पहले उत्तर प्रदेश सरकर में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, उसके बाद कर्नाटक के हुबली से भाजपा विधायक अरविंद बेलाड और अब मथुरा से सांसद हेमा मालिनी, इन तीनों नेताओं में एक चीज कॉमन है !

इमे त्रये मथुरायां भगवतः कृष्णस्य जन्मभूम्यां भव्य मंदिर निर्माणस्य वार्ता कुर्वन्ति, त्रयाणां भाजपा नेतृणाम् कथनै: स्पष्टमस्ति तत सम्प्रति भाजपा शनै: -शनै: मथुरा प्रकरणमुष्ण कर्तुमिच्छति !

ये तीनों मथुरा में भगवान कृष्ण की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण की बात कर रहे हैं,तीनों भाजपा नेताओं के बयानों से साफ है कि अब भाजपा धीरे- धीरे मथुरा मुद्दे को गरमाना चाहती है !

तस्मै दळम् प्रारंभिक परीक्षणारंभितं, कुत्रचित अयोध्यायां श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण प्रारंभस्य बनारसे च् काशी विश्वनाथ कॉरिडोर इति निर्माणस्य अनंतरम् सम्प्रति मथुरा इदृशं प्रकरणमस्ति यत् दळं रुचिकरमागतुम् शक्नोति !

उसके लिए पार्टी ने ट्रॉयल शुरू कर दिया है, क्योंकि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण शुरू होने और बनारस में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर बनने के बाद अब मथुरा ऐसा मुद्दा है जो पार्टी को रास आ सकता है !

एकम् दिसंबरम् उत्तरप्रदेशस्य उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य: ट्वीट कृतन् कथित: ततायोध्यायां, काश्यां भव्य मंदिर निर्माणम् प्रारंभम् मथुरायाः च् तत्परतामस्ति !

एक दिसंबर को यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ट्वीट करते हुए कहा कि अयोध्या, काशी में भव्य मंदिर निर्माण जारी है और मथुरा की तैयारी है !

यस्यानंतरम् कर्नाटकस्य हुबल्या भाजपा विधायक अरविंद बेलाडस्यापि कथनमागतः ! सः १३ दिसंबरं कथित: तत हिन्दुभिः मथुरायाः वाराणस्या: प्रकरणे संपादिते नाभवत् !

इसके बाद कर्नाटक के हुबली से भाजपा विधायक अरविंद बेलाड का भी बयान आया है ! उन्होंने 13 दिसंबर को कहा कि हिंदुओं के लिए मथुरा और वाराणसी का मुद्दा खत्म नहीं हुआ है !

वयं हिंदो: रूपे अनुभवाम: तत अस्माकं महान धार्मिक महत्वस्य स्थानै: सहान्यायं अभवन् ! येन समीचीनम् करणीयं मथुराया च् वाराणस्या च् सह न्यायं करणीयं !

हम हिंदू के रूप में महसूस करते हैं कि हमारे महान धार्मिक महत्व के स्थानों के साथ अन्याय किया गया है ! इसे ठीक किया जाना चाहिए और मथुरा और वाराणसी के साथ न्याय किया जाना चाहिए !

अस्यैव प्रकारम् १९ दिसंबरम् मथुराया सांसद हेमा मालिनी इंदौरे कथिता मथुरायाः सांसद भवस्य कारणं यत् तत भगवत: कृष्णस्य जन्मभूमि प्रीत्या: प्रतिकमस्ति, अहमिदमेव कथिष्यामि ततात्रापि भव्य मंदिरम् भवनीयं ! अत्रैकम् मंदिरम् पूर्वेणास्ति !

इसी तरह 19 दिसंबर को मथुरा से सांसद हेमा मालिनी ने इंदौर में कहा मथुरा का सांसद होने के नाते जो कि भगवान कृष्ण की जन्मभूमि प्रेम का प्रतीक है, मैं यही कहूंगी कि यहां भी भव्य मंदिर होना चाहिए ! यहां एक मंदिर पहले से है !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर इतस्य येन प्रकारेण निर्माणम् कारित: तादृशमेव अत्रापि भव्य मंदिरस्य निर्माणम् भवनीयं ! रामजन्म भूमि मंदिरनिर्माण आंदोलनेण येन प्रकारम् भाजपां पुनः-पुनः लाभम् लब्धते !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का जिस तरह से निर्माण कराया है वैसा ही यहां भी भव्य मंदिर का निर्माण होना चाहिए ! राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण आंदोलन से जिस तरह भाजपा को बार-बार फायदा मिलता रहा है !

तेनदर्शयन् भाजपा उत्तरप्रदेशस्य निर्वाचनान् दर्शयन् एकदा पुनः अयोध्य्यां, काशिं लाभनीतस्य प्रयत्नानि आरंभितानि ! यं प्रकारम् प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न केवलं स्वयं द्वे दिवसे बनारसे स्थित्वा काशी विश्वनाथ कॉरिडोर इतस्योद्घाटन समारोहम् कृतः !

उसे देखते हुए भाजपा ने यूपी के चुनावों को देखते हुए एक बार फिर से अयोध्या, काशी को भुनाने की कोशिशें शुरू कर दी हैं ! जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न केवल खुद दो दिन बनारस में रुककर काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह किया !

तस्यानंतरम् भाजपायाः १२ राज्यानां मुख्यमंत्रिणां उपमुख्यमंत्रिणां च् पुनः च् शततः अधिकं महापौरस्य गोष्ठिम् कृतः तस्यानंतरं च् भाजपायाः मुख्यमंत्रिण: उपमुख्यमंत्रिण: शततः अधिकम् च् महापौरा: अयोध्या प्राप्ता: !

उसके बाद भाजपा के 12 राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उप मुख्यमंत्रियों और फिर 100 से ज्यादा मेयर की मीटिंग की और उसके बाद भाजपा के मुख्यमंत्रियों, उप मुख्यमंत्रियों और 100 से ज्यादा मेयर अयोध्या पहुंचे !

तस्यानंतरम् मथुराम् गृहीत्वा भाजपा नेतृणाम् कथनानि आगच्छन्ति, तस्मात् स्पष्टमस्ति तत भाजपायोध्यायाः-काश्या:-मथुरायाः स्मरणं सततं मतदातान् स्मरणं दत्तुमिच्छन्ति ! यूपी सत्तायाः पुनः आगमनाय भाजपायाः पश्चिमी उत्तरप्रदेशे दृढ़ प्रदर्शनम् कृतमावश्यकमस्ति !

उसके बाद मथुरा को लेकर भाजपा नेताओं के बयान आ रहे हैं, उससे साफ है कि भाजपा अयोध्या-मथुरा-काशी की याद लगातार वोटरों को याद दिलाते रहना चाहती हैं ! यूपी सत्ता में दोबारा वापसी के लिए भाजपा का पश्चिमी यूपी में मजबूत प्रदर्शन करना जरूरी है !

तु कृषक आंदोलनस्यानंतरम् येन प्रकारेण भाजपा नेतृणाम् क्षेत्रे विरोधमभवत् समाजवादी दलस्य च् राष्ट्रीय लोकदलस्य च् गठबंधनमभवत्, तस्यानंतरम् भाजपाय पश्चिमी उत्तरप्रदेशे २०१७ तमम् यथा प्रदर्शनम् कृतं सरळं न रमितं !

लेकिन किसान आंदोलन के बाद जिस तरह से भाजपा नेताओं का क्षेत्र में विरोध हुआ और समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल का गठबंधन हुआ है, उसके बाद भाजपा के लिए पश्चिमी यूपी में 2017 जैसा प्रदर्शन करना आसान नहीं रह गया है !

भाजपाम् २०१७ तमस्य निर्वाचनेषु पश्चिमी उत्तर प्रदेशस्य १३० आसनेषुतः ८० तः अधिकमासनानि ळब्धानि स्म ! अतएव भाजपा स्थानीय क्षेत्रस्य जनसांख्यिकिं धार्मिक मान्यतान् च् दर्शयन् मथुरा प्रकरणान् उष्णकर्तुमिच्छन्ति !

भाजपा को 2017 के चुनावों में पश्चिमी यूपी की 130 सीटों में से 80 से ज्यादा सीटें मिली थीं !इसलिए भाजपा स्थानीय क्षेत्र की जनसांख्यिकी और धार्मिक मान्यताओं को देखते हुए मथुरा मुद्दे को गरमाना चाहती हैं !

इति क्षेत्रे भगवत: श्रीकृष्णं मान्यकानां वृहद संख्याम् अस्ति ! येषु यादव, जाट, गुर्जर यथैव जात्य: अपि सम्मिलितमस्ति, एकस्य सूत्रस्य कथनमस्ति तत मथुरा इदृशं प्रकरणमस्ति यत् समाजवादी दलस्य प्रमुख: अखिलेश यादवायासंयमित स्थितिमुत्पादितुं शक्नोति !

इस क्षेत्र में भगवान श्रीकृष्ण को मानने वालों की बड़ी संख्या है ! जिसमें यादव, जाट, गुर्जर जैसी जातियां भी शामिल है, एक सूत्र का कहना है कि मथुरा ऐसा मुद्दा है जो समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के लिए असहज स्थिति पैदा कर सकता है !

तस्य कारणमिदमस्ति तत भगवतः कृष्ण: स्वयं यदुवंशिन् अस्ति समाजवादी दळम् च् सर्वातधिकम् समर्थनम् यादवानां इवास्ति ! यत्रैव भाजपायाः प्रकरणनिर्माणस्य वार्तास्ति तत तर्हि अद्यापि एव औपचारिकरूपेण काश्यां मथुरायां च् मंदिर निर्माणस्यौपचारिकरूपेण स्वीकारम् न कृतं !

उसकी वजह यह है कि भगवान कृष्ण खुद यदुवंशी हैं और समाजवादी पार्टी को सबसे ज्यादा समर्थन यादवों का ही है ! जहां तक भाजपा के मुद्दा बनाने की बात है कि तो अभी तक औपचारिक रूप से काशी और मथुरा में मंदिर निर्माण का औपचारिक रूप से स्वीकार नहीं किया है !

तु दलस्य नेतारः काश्या: मथुरायाः च् प्रकरणम् उत्थितुम् रमिष्यन्ति ! स्पष्टमस्ति तत भाजपा मथुरा जन्मभूम्या: प्रकरणेन पश्चिमी उत्तरप्रदेशे हिंदू मतान् एकत्रितं कर्तुमिच्छति तत च् शनैः-शनैः प्रकरणम् लाभम् नीतुम् नेतृभि: संकेतम् दत्तुमारंभितानि !

लेकिन पार्टी के नेता काशी और मथुरा के मुद्दे को उठाते रहते हैं ! साफ है कि भाजपा मथुरा जन्मभूमि के मुद्दे के जरिए पश्चिमी यूपी में हिंदू वोटों को एक जुट करना चाहती है और उसने धीरे-धीरे मुद्दे को भुनाने के लिए नेताओं के जरिए संकेत देने शुरू कर दिए हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here