मस्जिदेषु अजानाय लाउडस्पीकर स्थापनम् मौलिक अधिकारम् नास्ति, प्रयागराजोच्चन्यायालयं ! मस्जिदों में अजान के लिए लाउडस्पीकर लगाना मौलिक अधिकार नहीं है, प्रयागराज हाईकोर्ट !

0
264

प्रयागराजोच्चन्यायालयं मस्जिदेषु लाउडस्पीकर स्थापनस्य याचिकां निरस्तन् कथितं तत मस्जिदेषु लाउडस्पीकर स्थापनम् मौलिकाधिकारम् नास्ति ! न्यायमूर्ति विकास कुमार बिड़लायाः न्यायमूर्ति विकासस्य च् खंडपीठम् बुधवासरमादेशम् कृतन् कथितं !

प्रयागराज हाईकोर्ट ने मस्जिदों में लाउडस्पीकर लगाने की मांग वाली याचिका खारिज करते हुए कहा कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर लगाना मौलिक अधिकार नहीं है ! न्यायमूर्ति विवेक कुमार बिड़ला और न्यायमूर्ति विकास की खंडपीठ ने बुधवार को आदेश पारित करते हुए कहा !

विधि कथ्यति तत मस्जिदेषु लाउडस्पीकर इत्या: प्रयोगम् संवैधानिकाधिकारम् नास्ति ! इरफान: नाम्ना: जनम् प्रत्या प्रस्तुत याचिकायां बिसौली अनुमंडल दंडाधिकारिणा प्रस्तुतादेशम् अह्वेयता दत्तमासीत् !

कानून कहता है कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करना संवैधानिक अधिकार नहीं है ! इरफान नाम के शख्स की ओर से दायर याचिका में बिसौली अनुमंडल दंडाधिकारी द्वारा जारी आदेश को चुनौती दी गई थी !

बदायूं जनपदस्य एसडीएम ३ दिसंबर २०२१ तमम् पूर्व धोरानपुर ग्रामस्य नूरी मस्जिदे अजानाय लाउड स्पीकर स्थापनस्याज्ञा दत्तेन न कृतः स्म ! याचिका कर्ता स्वयाचिकायां कथित: ततोपजिलाधिकारिण: आदेशमवैधमासीत् इदम् च् मौलिकाधिकाराणां विधीयाधिकाराणां उल्लंघनम् करोति !

बदायूं जिले के एसडीएम ने 3 दिसंबर 2021 को पहले धोरानपुर गांव की नूरी मस्जिद में अजान के लिए लाउडस्पीकर लगाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था ! याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में कहा कि एसडीएम का आदेश अवैध था और यह मौलिक अधिकारों और कानूनी अधिकारों का उल्लंघन करता है !

बदायो: बिसौली प्रखंडस्य धोरानपुरग्रामस्य नूरी मस्जिदस्य प्रमुख: इरफानम् प्रत्या इति संबंधे याचिका प्रस्तुत्वा कथितवन्तः स्म तत मौलिक अधिकारस्यानुरूपम् लाउडस्पीकर बादनस्याज्ञाम् मेलनीयं ! याचिकायां उपजिलाधिकारिणा सह त्रयान् जनान् पक्षकारा: कृतवन्तः स्म !

बदायूं के बिसौली तहसील के धोरानपुर गांव की नूरी मस्जिद के मुतवल्ली इरफान की तरफ से इस संबंध में याचिका दायर कर कहा गया था कि मौलिक अधिकार के तहत लाउडस्पीकर बजाने की इजाजत मिलनी चाहिए ! याचिका में एसडीएम समेत तीन लोगों को पक्षकार बनाया गया था !

न्यायालयं शृणुनस्य काळम् कथितं तत मस्जिदे अजानाय लाउडस्पीकर इत्या: प्रयोगम् मौलिक अधिकारे कदापि नागच्छति ! न्यायालयं कथितं तत लाउडस्पीकर इत्या: आज्ञायै कश्चितन्य दृढ़ाधारम् न दत्तवान इति प्रकरणे च् हस्तक्षेपेण न कृतवान !

अदालत ने सुनवाई के दौरान कहा कि मस्जिद में अजान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करना मौलिक अधिकार में कतई नहीं आता है ! कोर्ट ने कहा कि लाउडस्पीकर की इजाजत के लिए कोई अन्य ठोस आधार नहीं दिए गए हैं और इस मामले में दखल देने से इनकार कर दिया !

न्यायालयं याचिकायां कृतं याचनां सम्यक् न ज्ञापितं याचिकां च् निरस्तं कृतवान ! भवतम् ज्ञापयतु तत वर्तमानैवे महाराष्ट्र नवनिर्माण सेनायाः अध्यक्ष: राज ठाकरे धार्मिकस्थलेभ्यः लाउडस्पीकर निर्वर्तस्य याचनां काकृतः तत संपूर्ण देशे येन गृहीत्वा कलहम् उत्पादितं !

अदालत ने याचिका में की गई मांग को गलत बताया और अर्जी को खारिज कर दिया ! आपको बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने की मांग क्या की कि पूरे देश में इसे लेकर हंगामा मच गया !

प्रकरणम् बर्ध्यन् बहुराज्यानि एव प्रसृतानि ! राज ठाकरे भर्त्सयन् कथित: स्म तत यदैव लाउडस्पीकर तः अजान दाष्यते, तदैव हनुमान चालीसा वादिष्यते !

मामला तूल पकड़ते हुए कई राज्यों तक फैल गया ! राज ठाकरे ने धमकी देते हुए कहा था कि जब तक लाउडस्पीकर से अजान दी जाएगी तब तक हनुमान चालीसा बजाया जाएगा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here