30.8 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021

चिनस्य सर्वात् वृहदकुचक्रे वामदळम् अंशभू आसीत् ? वामदळम्-कांग्रेसम् किं पराजयमनुमन् ? चीन की सबसे बड़ी साजिश में लेफ्ट भागीदार था ? लेफ्ट-कांग्रेस ने क्यों टेके घुटने ?

Must read

अस्माकं देशस्य केचन राजनीतिक दलानि खादितानि तर्हि हिन्दुस्तानस्य सन्ति तु स्व स्वार्थाय चिनस्य-पकिस्तानस्य गुणगानम् कुर्वन्ति अवरुद्ध द्वारस्य पश्च चिन यथा देशै: ज्ञप्ति कुर्वन्ति !

हमारे देश की कुछ राजनीतिक पार्टियां खाती तो हिंदुस्तान का हैं लेकिन अपने स्वार्थ के लिए चीन-पाकिस्तान का गुणगान करती हैं या बंद दरवाजे के पीछे चीन जैसे देशों से डील करती हैं !

एतानि राजनीतिक दलानां प्रयोजनम् देशहिते अस्ति न वा भवन्तः स्वयं ज्ञायन्ति ! इदृशमेव अवरुद्ध द्वारस्य पश्च गोपनीय ज्ञप्ति कर्तानि अधुनानावृत अपि भवन्ति ! पूर्व विदेश सचिव विजय गोखले इतस्य पुस्तके यत् उद्घाटनमभवत् तानि अचंभित कर्तानि सन्ति !

इन राजनीतिक पार्टियों का मकसद देशहित है या नहीं आप खुद जानते हैं ! ऐसे ही बंद दरवाजे के पीछे गुप्त डील करने वाले अब बेनकाब भी हो रहे हैं ! पूर्व विदेश सचिव विजय गोखले की किताब में जो खुलासे हुए हैं वो चौकाने वाले है !

गोखले: स्व पुस्तके अलिखत् तत भारतामेरिकायाः मध्य न्यूक्लियर ज्ञप्ति अवरोधाय चिनम् वामदलान् स्व अस्त्राणि निर्मितं ! अर्थतः चिनम् वामदळम् च् मेलित्वा अस्य ज्ञप्ति अवरोधितुम् इच्छन्ति स्म !

गोखले ने अपनी किताब में लिखा है कि भारत अमेरिका के बीच न्यूक्लियर डील को रोकने के लिए चीन ने वामदलों को अपना हथियार बनाया ! मतलब चीन और वामदल मिलकर इस डील को रोकना चाहते थे !

अधुना वाम दलानि येनानुचित कथ्यते संलग्ना: तु किंचित दिवस पूर्वमेव चिनस्य वेबिनार इत्ये वाम दलानां उपस्थिति आसीत् ! वाम दलानि इव न कांग्रेसस्य चिनस्य च् मध्यापि गोपनीय ज्ञप्तिम् प्रति भवन्तः ज्ञायतैव भविष्यन्ति !

अब लेफ्ट पार्टियां इसे गलत बताने में लगी है लेकिन चंद दिन पहले ही चीन के वेबिनार में लेफ्ट पार्टियों की मौजूदगी थी ! लेफ्ट पार्टियां ही नहीं कांग्रेस और चीन के बीच भी गुफ्त डील के बारे में आप जानते ही होंगे !

प्रश्नमस्ति का चिनस्य सर्वात् वृहद कुचक्रे वाम दळम् अंशभू आसीत् ? प्रश्नमेदमपि अस्ति तत चिनस्य चरण वंदनाय कांग्रेसं वामदळं च् पराजयमनुमना: !

सवाल है क्या चीन की सबसे बड़ी साजिश में लेफ्ट भागीदार था ? सवाल ये भी है कि चीन की चरण वंदना के लिए कांग्रेस और लेफ्ट ने घुटने टेक दिए !

पूर्व विदेश सचिव विजय गोखले: वर्तमानैव प्रस्तुत स्व नव पुस्तके भारत-अमेरिका परमाणु ज्ञप्तिम् गृहीत्वा दृढ़कथनं कृतः तत यस्य विरोधाय चिनम् कम्युनिस्ट दलानां प्रयोगम् कृतमासीत् !

पूर्व विदेश सचिव विजय गोखले ने हाल ही में रिलीज अपनी नई किताब में भारत-अमेरिका परमाणु समझौते को लेकर दावा किया है कि इसके विरोध के लिए चीन ने कम्युनिस्ट पार्टियों का इस्तेमाल किया था !

स्व नव पुस्तकम् द लॉन्ग गेम हाऊ द चाइनीज निगोशिएट विद इंडिया इत्ये गोखले: अलिखत् तत वर्षम् २००७-२००८ तमे भारतामेरिका न्यूक्लियर ज्ञप्त्या: काळम् तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंहस्य यूपीए सर्वकारे वाम दलानां प्रभावम् दर्शमानः !

अपनी नई किताब द लॉन्ग गेम हाऊ द चाइनीज निगोशिएट विद इंडिया में गोखले ने लिखा है कि साल 2007-2008 में भारत अमेरिका न्यूक्लियर डील के दौरान तत्कालीन पीएम डॉ मनमोहन सिंह की यूपीए सरकार में लेफ्ट पार्टियों के प्रभाव को देखते हुए !

चिनम् सम्भवतः अमेरिकाम् प्रति भारतस्य प्रीतिम् प्रति तस्य भयस्य प्रयोगम् कृतं ! भारतस्य गृह राजनीत्यां चिनस्य हस्तक्षेपस्येदम् प्रथमोदाहरण अस्ति !

चीन ने शायद अमेरिका के प्रति भारत के झुकाव के बारे में उनके डर का इस्तेमाल किया ! भारत की घरेलू राजनीति में चीन के दखल का ये पहला उदाहरण है !

इत्येव न गोखले: स्वपुस्तके जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख: मसूद अजहरस्यापि उल्लेखित: तत कीदृशं चिनम् मसूदस्य प्रयोगम् कृतवान ! किंचित दिवस पूर्वमेव चिनस्य कम्युनिस्ट दलस्य शत वर्ष पूर्णे वेबिनार इत्ये वाम दलस्य बहु नेतारः सम्मिलिता: अभवन् स्म !

इतना ही नहीं गोखले ने अपनी किताब में जैश-ए-मोहम्मद चीफ मसूद अजहर का भी जिक्र किया है कि कैसे चीन ने मसूद का इस्तेमाल किया है ! चंद दिन पहले ही चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के सौ साल पूरे होने पर वेबिनार में लेफ्ट पार्टी के कई नेता शामिल हुए थे !

यस्मिन् भाजपा तीक्ष्णापत्तिमपि व्यक्तम् स्म ! वामैव न कांग्रेसमपि सदैव चिनम् प्रति नम्र रमति ! सोनिया गांध्या: राजीव गांधी फाउंडेशन इतम् चिनमोपहारम् दत्तुम् रमति !

इस पर बीजेपी ने कड़ी आपत्ति भी जताई थी ! लेफ्ट ही नहीं कांग्रेस भी हमेशा चीन के प्रति नरम रही है ! सोनिया गांधी के राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन डोनेशन देता रहा है !

इत्येव न २००१७-१८ तमे राहुल गांधिण: चिनी राजदूतेन सह गोपनीय गोष्ठ्याः वार्तापि संमुखम् आगतमासीत् ! विना सर्वकारम् ज्ञापित: राहुल: किं गोपनीय मेलनम् कृतः, इदं अद्यापि प्रश्नमेव निर्मितुम् अभवत् !

इतना ही नहीं 2017-18 में राहुल गांधी के चीनी राजदूत के साथ गुप्त मीटिंग की बात भी सामने आई थी ! बिना सरकार को बताए राहुल ने क्यों गुप्त मुलाकात की, ये आज भी सवाल ही बना हुआ है !

प्रश्नमस्ति यत् चिन पुनः पुनः भारतस्य विरुद्धम् कुचक्रम् रचयति तत चिनेण सहानुचित संबंधम् किं ? का देशस्य विरुद्धम् सर्वात् वृहद कुचक्रे वामदळम् कांग्रेसम् अंशभू सन्ति ? प्रश्नमेदमपि अस्ति तत चिनस्य अग्रम् वामदलानि कांग्रेसम् च् किं पराजयमनुमना: !

सवाल है जो चीन बार बार भारत के खिलाफ साजिश रचता रहा है उस चीन के साथ सांठगांठ क्यों ? क्या देश के खिलाफ सबसे बड़ी साजिश में वामदल और कांग्रेस भागीदार हैं ? सवाल ये भी है कि चीन के आगे लेफ्ट दलों और कांग्रेस ने क्यों घुटने टेके हैं ?

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article