योगी आदित्यनाथस्य दृढ़कथनं यूपी निर्वाचने ३०० अधिकं लब्धिष्यति भाजपा, १०० आसनेषु रमिष्यति विपक्षम् ! योगी आदित्यनाथ का दावा यूपी चुनाव में 300 प्लस हासिल करेगी भाजपा, 100 सीटों पर सिमटेगा विपक्ष !

0
139

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ: विपक्षे प्रहारम् कृतन् कथित: भाजपा ३०० अधिकेण सह एकदा पुनः पूर्ण बहुमतस्य सर्वकारः निर्मिष्यति, यस्मिन् कश्चितं संदेहम् न भवनीयं ! समाजवादी दळम् शतस्य आंकड़ापि पारम् न यास्यते ! सपा, बसपा, कांग्रेस निर्दलीय च् शतस्याधो इव रमिष्यन्ति !

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा भाजपा 300 प्लस के साथ एक बार फिर प्रचंड बहुमत की सरकार बनाएगी, इसमें किसी को संदेह नहीं होना चाहिए ! समाजवादी पार्टी 100 का आंकड़ा भी क्रास नहीं कर पाएगी ! सपा, बसपा कांग्रेस और निर्दलीय सौ के नीचे ही रहेंगे ।

सः कथित: २०१४ तमेणारंभितं ८० बनाम २० इतस्य रणम् २०२२ तमे चरिष्यति ! २० प्रतिशत जनाः भाजपागमनेण येन कारणं भीता:, कुत्रचित याः जनाः प्रदेशम् लुंठनस्योत्पात कारयस्य यत् स्वप्नं दर्शितं स्म, तेन जनता जनार्दना: त्रोटिताः ! इदृशै: जनैः बहु अन्तरम् न भविष्यति !

उन्होंने कहा 2014 से शुरू हुई 80 बनाम 20 की लड़ाई 2022 में जारी रहेगी ! 20 फीसदी लोग भाजपा के आने से इसलिए भयभीत हैं, क्योंकि इन लोगों ने प्रदेश को लूट-खसोट, दंगा कराने का जो सपना देखा था, उसे जनता जनार्दन ने चकनाचूर कर दिया ! ऐसे लोगों से बहुत फर्क नहीं पड़ेगा !

अस्माकं सर्वकारः भ्रष्टाचारस्य पातकस्य च् विरुद्धम् जीरो टॉलरेंस इतस्य नीत्यां कार्यम् कृतवान ! जनान् सपाया कश्चिताशामपि नास्ति ! इदमपि न विचारणीयं तत सपा कश्चित चमत्कारं करिष्यते, सपाय १०० आसनम् पारम् कृत्वा स्वप्नमेव रमिष्यति !

हमारी सरकार ने भ्रष्टाचार और अपराध के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम किया है ! जनता को सपा से कोई उम्मीद भी नहीं है ! यह सोचना भी नहीं चाहिए कि सपा कोई करिश्मा कर पाएगी, सपा के लिए सौ सीट क्रास करना सपना ही रहेगा !

मुख्यमंत्री योगी केचन वार्ताकारै: वार्तालापे व्यंगम् कृतवान तत सपा तैवास्ति ! २०१२ तमे सर्वकारः निर्मितैव सपातंकवादिभ्य: अभियोगम् पुनर्नियस्य कार्यवाहिम् कृतमासीत्, रामभक्तेषु गुलिकाघातम् कृतवन्तः, यत् व्यापकाराजकतायाः कारणमभवत् स्म !

मुख्यमंत्री योगी ने कुछ पत्रकारों से बातचीत में तंज किया कि सपा वही है ! 2012 में सरकार बनते ही सपा ने आतंकवादियों से मुकदमा वापस लेने की कार्यवाही की थी, रामभक्तों पर गोली चलवायी, जो व्यापक अराजकता का कारण बनी थी !

उत्पातं, लुंठनंकृतं, बाबा साहब अंबेडकरस्यापमानम् कृतं, कांशीरामस्य नाम्ना संयुक्त संस्थानां नाम परिवर्तक: सपाया जनान् कश्चिताशाम् नास्ति ! सपायाः संवेदना दस्युना, कुत्सित पातकिभ्यः, उत्पातकेभ्यः कैरानायां च् हिंदून् पलायनकारिता तत्वभिः सहास्ति !

दंगे-फसाद, लूट-खसोट करना, बाबा साहब अंबेडकर का अपमान करना, कांशीराम के नाम से जुड़े संस्थानों का नाम बदलने वाली सपा से जनता को कोई उम्मीद नहीं है ! सपा की संवेदना माफिया, पेशेवर अपराधियों ,उपद्रवियों और कैराना में हिन्दुओ को पलायन कराने वाले तत्वों के साथ है !

सः बहु निर्लज्जेण तालिबानस्य समर्थनम् करोति ! तस्यानुक्रमणिका (प्रत्यशिणामनुक्रमणिका) तर्हि इदमेव विज्ञापयति ! भाजपा ४३ लक्ष निर्धनानां आवास २.६ कोटि जनान् च् शौचालयं दत्तं ! पीएम मोदिण: प्रेरणाया अस्मान् विना भेदभावम् कृता:, कल्याणकारिन् योजनानां लाभम् दत्ता: !

वह बड़ी बेशर्मी से तालिबान का समर्थन करते हैं ! उनकी सूची (उम्मीदवारों की लिस्ट) तो यही बताती है ! भाजपा ने 43 लाख गरीबों को आवास और 2.6 करोड़ लोगों को शौचालय दिये ! पीएम मोदी की प्रेरणा से हमने बिना भेदभाव किये, कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिया !

योजनासु विकासे च् कश्चित भेदभावं न कृता:, आम् तु तुष्टिकरणमपि न कृता: ! राजनीतिक तुष्टिकरणम् लोकतंत्रस्य सर्वात् वृहत् संकटमस्ति ! प्रदेशस्य २५ कोटि जनानां सुरक्षा मम नैतिक जिम्मेवारिमस्ति !

योजनाओं और विकास में कोई भेदभाव नही किया, हाँ लेकिन तुष्टिकरण भी नहीं किया ! राजनीतिक तुष्टिकरण लोकतंत्र का सबसे बड़ा खतरा है ! प्रदेश की 25 करोड़ जनता की सुरक्षा मेरी नैतिक जिम्मेदारी है !

सपायाः गठबंधनस्य प्रश्ने मुख्यमंत्री एवं भाजपायाः ज्वलन्त नेता योगिन् कथित: तत एतानि दलानि २०१४, २०१७ तमे चपि गठबंधनम् कृतवन्तः स्म ! २०१९ तमस्य गठबंधनं सर्वात् वृहदासीत् येषु सपा, बसपा रालोदमपि च् सम्मिलतानि, परिणाम का रमितं ? जीरो प्लस जीरो, जीरो इव रमिष्यति !

सपा के गठबंधन के सवाल पर मुख्यमंत्री एवं भाजपा के फायर ब्रांड नेता योगी ने कहा कि इन दलों ने 2014 और 2017 में भी गठबंधन किया था ! 2019 का गठबंधन सबसे बड़ा था जिसमें सपा, बसपा और रालोद भी शामिल रही, परिणाम क्या रहा ? जीरो प्लस जीरो, जीरो ही रहेगा !

लखीमपुरस्य प्रश्ने मुख्यमंत्री कथित: ततेदम् दुर्भाग्य पूर्णम् घटनामासीत्, सर्वकारः कार्यवाहिम् कृतः, तथ्यान् संचये काळम् गन्तुं शक्नोति, तु विपक्षम् तत काळम् संघर्षस्य स्थितिमुत्पादितुमिच्छति स्म !

लखीमपुर के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी, सरकार ने कार्रवाई की, तथ्यों को एकत्र करने में समय लग सकता है, लेकिन विपक्ष उस दौरान संघर्ष की स्थिति पैदा करना चाहता था !

अस्माभिः सर्वात् पूर्व शांतिसौहार्दम् च् स्थापित्वा द्वयो समुदाययो विश्वासार्जितं पुनः च् नियमानुसारम् कार्यवाहिम् कृतमासीत् ! सर्वकारः विध्या: अनुसारं यत् कार्यवाहिम् भवितुं शक्नोति स्म, तेनाग्रं बर्धित: ! आम् सर्वकारः कश्चितमराजकतायाः, उत्पातस्य स्वच्छंदता दत्तुम् न शक्नोति !

हमारे लिए सबसे पहले शांति और सौहार्द कायम कर दोनों समुदायों में विश्वास अर्जित करना और फिर नियमानुसार कार्रवाई करना था ! सरकार ने कानून के अनुसार जो कार्रवाई हो सकती थी, उसे आगे बढ़ाया ! हाँ सरकार किसी को अराजकता, दंगा फसाद की छूट नहीं दे सकती है !

इदमुत्तरप्रदेशं विधानसभा निर्वाचनस्य पूर्वस्य मम कथनमस्ति ततेदमशीति विंशत्यां च् रमिष्यति ! २० प्रतिशतम् ततास्ति यतुत्तरप्रदेशस्य विकासस्य, निर्धनकल्याणकारिन् योजनानां, सम्यक् सुरक्षायाः विकासस्य च् विरोधिन् सन्ति, आस्थायाः तत सम्मानम् नापमानम् कृतस्याभ्यस्तम् सन्ति !

यह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले का मेरा बयान है कि यह चुनाव 80 और 20 में सिमटेगा ! 20 प्रतिशत वह हैं जो उप्र के विकास, गरीब कल्याणकारी योजनाओं, बेहतर सुरक्षा और विकास के विरोधी हैं, आस्था का वह सम्मान नही अपमान करने के आदी हैं !

अशीति जनाः यत् उत्तर प्रदेशस्य विकासस्य, सुरक्षायाः, निर्धनकल्याणकारिन् योजनानामास्थायाः च् सम्मानित्वा समर्थनित्वा भाजपायाः पक्षे आगमिष्यन्ति ! २० प्रतिशतम् भाजपायाः पूर्वमपि विरोधिण: आसीत् अग्रमपि च् रमिष्यन्ति ! ८० बनाम २० इतस्य रणम् २०१४, २०१७, २०१९ तमेषु अपि चरितमासीत् २०२२ तमे अपीदमेव दर्शितुं ळब्धिष्यति !

80 लोग जो उत्तर प्रदेश के विकास, सुरक्षा, गरीब कल्याणकारी योजनाओं और आस्था के सम्मान समर्थन कर भाजपा के पक्ष में आएंगे ! 20 फीसदी भाजपा के पहले भी विरोधी थे और आगे भी रहेंगे ! 80 बनाम 20 की लड़ाई 2014, 2017 और 2019 में भी चली थी और 2022 में भी यही देखने को मिलेगा !

स्वामी प्रसाद मौर्य: यथा नेतृणाम् दल परिवर्तनस्य प्रश्ने मुख्यमंत्री कथित: तत अपना दल निषाद दल च् भाजपायाः पुरातन सहायके दले स्त: ! ममाभिप्राय कश्चित जनेण नास्ति ! भाजपा ३०० तः अधिकं आसनानि जयित्वा पूर्णबहुमतस्य सर्वकारः निर्मिष्यति !

स्वामी प्रसाद मौर्य जैसे नेताओं के पाला बदलने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अपना दल और निषाद पार्टी भाजपा के पुराने सहयोगी दल हैं ! मेरा अभिप्राय किसी व्यक्ति से नहीं है ! भाजपा तीन सौ से अधिक सीटें जीतकर प्रचंड बहुमत की सरकार बनाएगी !

यस्मिन् कश्चितं कश्चित संदेहम् न भवनीयं, सः कथित: तत राजनीत्यां एकमावसरवादितामस्ति द्वितीय जनः च् वैचारिकप्रकरणभि: संलग्नयति ! यस्मात् जनाः संलग्नयति ! द्वयो अंतरम् स्त: ! निर्वाचनस्य काळम् दलपरिवर्तनम् भवति तर्हि यस्य ऋणात्मक धनात्मक च् परिणाम दर्शितुं ळब्धति !

इसमें किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए,उन्होंने कहा कि राजनीति में एक अवसरवादिता है और दूसरा व्यक्ति वैचारिक मुद्दों से जुड़ता है ! जिससे लोग जुड़ते हैं ! दोनों में अंतर है ! चुनाव के समय दलबदल होता है तो इसके निगेटिव और पाजीटिव ब्यूज देखने को मिलता है !

एकस्य प्रश्नस्योत्तरे सः कथित: तत भाजपा वंशवादिन् कुटुंबिक च् दळं नापितु एकं राजनीतिक दलमस्ति ! अत्र जनाः भाजपायाः नीतिभिः प्रभावितं भूत्वा दलस्य सदस्यता नयन्ति कार्यम् च् कुर्वन्ति ! कश्चित निर्वाचनपत्रस्य संकल्पम् गृहीत्वा नागच्छति !

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भाजपा वंशवादी और पारिवारिक दल नहीं अपितु एक राजनीतिक दल है ! यहाँ लोग भाजपा की नीतियों से प्रभावित होकर पार्टी की सदस्यता लेते हैं और काम करते हैं ! कोई टिकट का वायदा लेकर नहीं आता है !

दळम् अनुभूयति तत सः जन: दलाय समाजाय च् उपयोगिन् भवितुं शक्नोति तर्हि अवसरम् ददाति ! कश्चित कथ्यतु तताद्यैव सम्मिलितं सर्वाणि निर्मितु, इदम् वस्तूनि न्यून दर्शितुं ळब्धन्ति ! यद्यपि सपा एकस्य कुटुंबस्य दलमस्ति !

पार्टी को लगता है कि वह व्यक्ति पार्टी और समाज के लिए उपयोगी हो सकता है तो अवसर देती है ! कोई कहे कि आज ही शामिल और सब कुछ बना दिया जाए, यह चीजें कम देखने को मिलती हैं ! जबकि सपा एक परिवार की पार्टी है !

यस्य प्रमुखे, पदाधिकार्यां कार्यकारिणी इत्ये च् कुटुंबस्य सदस्यमेव द्रक्ष्यते ! इदम् भाजपायां सपायां च् अंतरम् स्त: ! भाजपायाः वैचारिक प्रतिबद्धताम् अस्ति ! येषु प्रकरणेषु वयं सार्वजनिकजीवने कार्यम् कुर्याम: !

जिसका मुखिया, पदाधिकारी और कार्यकारिणी में परिवार का सदस्य ही दिखेगा ! यह भाजपा और सपा में अंतर है ! भाजपा की वैचारिक प्रतिबद्धता है ! इन्ही मुद्दों पर हम लोग सार्वजनिक जीवन में काम करते हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here