12.1 C
New Delhi

असम सरकारे मंत्री: हेमंत बिस्वा: अकथयत् सरकारी धनेषु न पठेयशक्नोति कुरान इति ! असम सरकार में मंत्री हेमंत बिस्वा ने कहा सरकारी पैसे पर नहीं पढ़ाई जा सकती कुरान !

Date:

Share post:

असमस्य सर्बानंद सोनोवाल सरकारे मंत्री: हेमंत बिस्वा सरमा: मदरसानि गृहित्वा वृहद वार्ता कथमस्ति तस्य कथनमस्ति तत सरकारी धनेषु कुरान इति न पठेयशक्नोति शीघ्रेव च् प्रदेशस्य सर्वाणि सरकारी मदरसानि परिघम् करिष्यते कुत्रचित जनताया: धनै: धार्मिक शिक्षाम् दास्य प्रावधानम् नास्ति !

असम की सर्बानंद सोनोवाल सरकार में मंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने मदरसों को लेकर बड़ी बात कही है उनका कहना है कि सरकारी पैसे पर कुरान नहीं पढ़ाई जा सकती है और जल्दी ही प्रदेश के सभी सरकारी मदरसों को बंद कर दिया जाएगा क्योंकि जनता के पैसों से धार्मिक शिक्षा देने का प्रावधान नहीं है !

यदि सरकारी धनै: कुरान इति पठेयशक्नोति तर्हि पुनः बाइबिल गीतामपि च् पठेयशक्नोति, मम मंत्रणायाम् सरकारी धनै: कुरान इति न पठेयशक्नोति ! यदि इदृशं कृतमस्ति तर्हि पुनः बाइबिल भगवत गीता द्वयो च् शिक्षणीय !इत्याय अहम् शिक्षायाम् समम् नीयतं इच्छामि इति प्रथाम् अवरुद्धम् इच्छामि !

अगर सरकारी पैसों से कुरान पढ़ाई जा सकती है तो फिर बाइबिल और गीता भी पढ़ाई जा सकती है,मेरी राय में सरकारी पैसों से कुरान नहीं पढ़ाई जा सकती ! अगर ऐसा करना है तो फिर बाइबिल और भगवत गीता दोनों सिखाई जानी चाहिए ! इसीलिए हम तालीम (शिक्षा) में बराबरी लाना चाहते हैं इस प्रथा को रोकना चाहते हैं !

धार्मिक प्रयोजनेभ्य: पठनम् कृतेयम् सर्कारस्य कार्यम् नास्ति यदि च् कश्चित असरकारीम् संगठनम् सामाजिक संगठनम् वा स्व धनम् व्ययम् कृत्वा धर्मस्य पठनम् कारयति तर्हि कश्चित संकटम् नास्ति, तु तेनापि एकम् क्षेत्रे येन निष्पत्ति दाष्यते ! इदृशेषु सर्वाणि सरकारीम् मदरसानि परिघम् दाष्यते, इति आदेशम् गृहित्वा आगतमासम् एकम् अधिसूचनाम् प्रसर्ष्यते !

धार्मिक उद्देश्यों के लिए पढ़ाई कराना सरकार का काम नहीं है और अगर कोई गैर सरकारी संगठन या सामाजिक संगठन अपने पैसे खर्च करके धर्म की पढ़ाई कराता है तो कोई समस्या नहीं है, पर उसे भी एक दायरे में इसे अंजाम देना होगा ! ऐसे में सभी सरकारी मदरसों को बंद कर दिया जाएगा, इस आदेश को लेकर अगले महीने एक अधिसूचना जारी की जाएगी !

इत्यात् पूर्वम् सरमा: अकथयत् स्म अहम् विधानसभायां सर्कारस्य सिद्धान्तस्य घोषणाम् कृतमस्ति ! सर्कारस्य दीयते धनै: राज्ये कश्चित धार्मिक शिक्षाम् न दाष्यते ! स्व प्रकारेण चलितम् मदरसा संस्कृतम् च् विद्यालयानामेत् अहम् केचन न कथनमस्ति ! इत्येत् एकम् विधिवत् अधिसूचनाम् नवंबर मासे प्रसर्ष्यते ! मदरसा परिघम् कृतस्य उपरांत संविदायाम् नियुक्तम् ४८ शिक्षकानां स्थानांतरणम् शिक्षा विभागे करिष्यते !

इससे पहले सरमा ने कहा था,हमने विधानसभा में सरकार की पॉलिसी की घोषणा की है ! सरकार की फंडिंग से राज्य में कोई धार्मिक शिक्षा नहीं दी जाएगी ! निजी तरीके से चलने वाले मदरसा एवं संस्कृत स्कूलों के बारे में हमें कुछ नहीं कहना है ! इस बारे में एक विधिवत अधिसूचना नवंबर महीने में जारी होगी !मदरसा बंद किए जाने के बाद संविदा पर रखे गए 48 शिक्षकों का स्थानांतरण शिक्षा विभाग में किया जाएगा !

एआईयूडीएफ इत्यस्य प्रमुखः अजमल: सर्कारस्य इति निर्णयस्य आलोचनां कृतमस्ति ! अजमल: अकथयत् तत भाजपा सरकारं यदि राज्य सरकारं प्रत्येन संचलितम् मदरसानि परिघस्य निर्णयम् करोति तर्हि २०२१ तमे सत्तायाम् आगतस्य उपरांत तस्य दलम् इति शैक्षणिक विद्यालयानि पुनः उद्घाटिष्यति ! मदरसां परिघम् न कृतशक्नोति ! भाजपा सरकारं यदि बलात् इति मदरसानि परिघयति तर्हि अहम् इति ५०-६० मदरसानि पुनः उद्घाटिष्यति !

एआईयूडीएफ के प्रमुख अजमल ने सरकार के इस फैसले की आलोचना की है ! अजमल ने कहा कि भाजपा सरकार यदि राज्य सरकार की ओर से संचालित मदरसों को बंद करने का फैसला करती है तो 2021 में सत्ता में आने के बाद उनकी पार्टी इन शैक्षणिक स्कूलों को दोबारा खोलेगी ! मदरसा को बंद नहीं किया जा सकता ! भाजपा सरकार यदि जबरन इन मदरसों को बंद करती है तो हम इन 50-60 मदरसों को दोबारा खोलेंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया

मध्यप्रदेशे इस्लामनगरम् ३०८ वर्षाणि अनंतरम् पुनः कथिष्यते जगदीशपुरम् ! मध्यप्रदेश में इस्लाम नगर 308 साल बाद फिर से कहलाएगा जगदीशपुर !

मध्यप्रदेशस्य भोपालतः १४ महानल्वम् अंतरे एकं ग्रामम् इस्लामनगरमधुना जगदीशपुर नाम्ना ज्ञाष्यते ! केंद्र सर्वकार: ग्रामस्य नाम परिवर्तनस्याज्ञा दत्तवान्...