रुग्णानां स्थितिम् ज्ञातुं चिकित्सालय प्राप्ता कांग्रेस विधायक, आसन्दिकाय चिकित्सकेन करिष्यते वादयुद्धम् ! मरीजों का हाल जानने अस्पताल पहुंची कांग्रेस विधायक, कुर्सी के लिए डॉक्टर से करने लगीं बहस !

0
332

कोरोनायाः इति संकटकाले यत्र देशम् बहु पीड़ाभिः उद्यच्छति तत्रैव अस्माकं जनप्रतिनिधि सन्ति तत तेन इति काले अपि स्व सम्मानस्य चिंताम् भवति !

कोरोना के इस संकटकाल में जहां देश कई समस्याओं से जूझ रहा है वहीं हमारे जन प्रतिनिधि हैं कि उन्हें इस दौर में भी अपने सम्मान की चिंता हो रही है !

इति महामार्या: काले यत्र अस्माकं स्वास्थ्यकर्मी चिकित्सक: च् दिवारात्रि रुग्णानां प्राणरक्षणे संलग्ना: तत्रैव जनप्रतिनिधि तानि चिकित्सकेन उद्यच्छन्ति !

इस महामारी के दौर में जहां हमारे स्वास्थ्यकर्मी और डॉक्टर दिन रात मरीजों की जान बचाने में जुटे हुए हैं वहीं जनप्रतिनिधि उन्हीं डॉक्टरों से उलझ रहे हैं !

इदृशमेव एकम् प्रकरणमागतवान बिहारस्य वैशाली जनपदात् ! अत्र कांग्रेस विधायक प्रतिमा कुमारी एकस्य चिकित्सालयस्य निरीक्षणं कर्तुम् प्राप्ता तदा चिकित्सकेनैव उद्यच्छिता !

ऐसा ही एक मामला आया है बिहार के वैशाली जिले से ! यहां कांग्रेस विधायक प्रतिमा कुमारी एक अस्पताल का जायजा लेने पहुंची तो डॉक्टर से ही उलझ गई !

विधायक यदा चिकित्सक: डॉ श्याम बाबू सिंहस्य कक्षे प्राप्ता तदा चिकित्सकस्य आसन्दिकायाम् तिष्ठस्य दुराग्रह करिष्यते, यस्मिन् चिकित्सक: कथितः तत भवता संमुख स्थितमासन्दिकायाम् तिष्ठतु, अयम् चिकित्सकस्यासन्दिकास्ति !

विधायक जब डॉक्टर डॉ श्याम बाबू सिंह के कमरे में पहुंची तो डॉक्टर की कुर्सी पर बैठने की जिद करने लगीं, इस पर डॉक्टर ने कहा कि आप सामने वाली कुर्सी पर बैठिए, ये डॉक्टर की कुर्सी है !

इति कथ्यतैव विधायक क्रोधिताभवत् चिकित्सकं शिष्टाचारं स्मरणमानः कथिष्यते, तत् तदा उचितमस्ति, तु शिष्टाचारस्य नियमस्य पालनं कृतमस्ति न !

इतना कहते ही विधायक भड़क गईं और डॉक्टर को प्रोटोकॉल याद दिलाते हुए कहने लगी, वो तो ठीक है, लेकिन प्रोटोकॉल के नियम का पालन करना है ना !

यस्मिन् चिकित्सक: कथितः शिष्टाचारस्य नियमं प्रत्ये मह्यं न ज्ञापितं ! यस्यानंतरम् द्वयो बहु कालैव वादयुद्धम् भवितुम् रमिते अनंतरे च् विधायक बलात् गत्वा चिकित्सकस्य पार्श्वे आसन्दिका धृत्वा तिष्ठिता !

इस पर डॉक्टर ने कहा प्रोटोकॉल के इस नियम के बारे में मुझे नहीं बताया गया है ! इसके बाद दोनों में काफी देर तक बहस होती रही और बाद में विधायक जबरन जाकर डॉक्टर के बगल में कुर्सी लगाकर बैठ गईं !

यस्यानंतरम् मीडिया इत्येन वार्ता कृतमानः विधायक कथिष्यते, सर्वकारस्य किं नियममस्ति, इदम् तदा विपक्षिम् प्रतिनिधि अभिज्ञामेव तत्परं नास्ति !

इसके बाद मीडिया से बात करते हुए विधायक कहने लगी, सरकार का क्या नियम है, क्या कानून है कुछ पता नहीं, ये तो विपक्षी को प्रतिनिधि मानने को ही तैयार नहीं है !

यदा नीतीश सर्वकारे जनप्रतिनिध्याः सम्मानम् न भवति तदा आम जनै: सह किं भविष्यते !

जब नीतीश सरकार में जनप्रतिनिधि का सम्मान नहीं हो रहा है तो आम आदमी के साथ क्या हो रहा होगा !

चिकित्सक महाशयः अबदत् माम ज्ञातं नास्ति, बदित: अयम् चिकित्सकस्यासन्दिकास्ति, इदम् गम्भीर्य प्रकरणमस्ति ! सः नियमानां उल्लंघनं कृतवान !

डॉक्टर साहब बोले ये हमको पता नहीं है, बोले ये डॉक्टर की कुर्सी है, ये गंभीर मामला है ! उन्होने नियमों का उल्लंघन किया है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here