राहुल गाँधीस्य अरोपम् – भारते फेसबुक व्हाट्सएप्पे बी जे पी – आर एस एस इत्यस्य नियंत्रणम् ! राहुल गांधी का आरोप – भारत में फेसबुक व्हाट्सएप पर BJP – RSS का नियंत्रण !

0
176

रविशंकर प्रसादः अकरोत् प्रत्युत्तरम् !

रविशंकर प्रसाद ने किया पलटवार !

कांग्रेस नेतृ राहुल गांधी: भारतीय जनता दले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघे च् तीक्ष्ण अरोपम् आरोपयत् ! सः अकथयत् तत भाजपा आर एस एस च् भारते फ़ेसबुक व्हाट्सएप्पम् नियंत्रित कुरुतः ! अस्यां सह राहुल: द वॉल स्ट्रीट जर्नलस्य एकम् लेखमपि वितरितम् अकरोत् !

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर गंभीर आरोप लगाए हैं ! उन्होंने कहा है कि भाजपा और आर एस एस भारत में फेसबुक और व्हाट्सएप को नियंत्रित करते हैं ! इसके साथ राहुल ने द वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट को भी शेयर किया है !

कांग्रेस नेतृ राहुल गांधी: स्व एकम् ट्विते अकथयत्, भाजपा आर एस एस च् भारते फ़ेसबुक व्हाट्सएप्पम् च् नियंत्रित कुरुतः ! तौ अस्य माध्यमाभ्यां अनर्गलम् समाचारम् द्वेषम् च् प्रस्सरतः अस्य च् प्रयोगम् मतदातानि प्रभावितं कृताय कुरुतः ! अंतम् अमेरिकी मीडिया फ़ेसबुक प्रति सतेन सह सम्मुखम् आगतः !

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने एक ट्वीट में कहा है, भाजपा और आर एस एस भारत में फेसबुक और व्हाट्सएप को नियंत्रित करते हैं ! वे इसके माध्यम से फर्जी खबरें और नफरत फैलाते हैं और इसका इस्तेमाल मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए करते हैं ! आखिरकार अमेरिकी मीडिया फेसबुक के बारे में सच्चाई के साथ सामने आया है !

इते प्रत्युत्तरम् कृतं रविशंकर प्रसादः अकथयत् स्वेव दलस्य जनानि प्रभावितं न कृत शक्नुम् पराजित जनः अस्य वार्तास्य उदाहरणम् दीयते तत सम्पूर्ण विश्वम् भाजपा आर एस एस एतेन नियांत्रितम् अस्ति ! मतदान पूर्वे संग्रहम् अस्त्र निर्माणाय भवतः कैम्ब्रिज एनालिटिका फ़ेसबूक इतेन सह गटबन्धनम् कर्तुम् सुस्पष्टम् ग्राह्यते स्म सम्प्रति च् मया प्रश्नम् करोमि !

इस पर पलटवार करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, अपनी ही पार्टी के लोगों को प्रभावित नहीं कर सकने वाले हारे हुए लोग इस बात का हवाला देते रहते हैं कि पूरी दुनिया भाजपा और आर एस एस द्वारा नियंत्रित है ! चुनाव से पहले डेटा को हथियार बनाने के लिए आपको कैंब्रिज एनालिटिका और फेसबुक के साथ गठजोड़ करते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया था और अब हमसे सवाल कर रहे हैं !

तथ्य अयमस्ति तत अद्य सूचना अभिव्यक्तिस्य च् स्वतंत्रतेव आगमस्य लोकतंत्रीकरणम् भव्यते ! अयम् सम्प्रति भवतः परिवारस्य अनुचरेण नियांत्रितम् न क्रियते अतएव च् अयम् पीड़ाम् भवति ! तदापि एव बंगलुरुम् कलहानां भवता निन्दाम् न अशृणोत् ! भवतः साहसं कुत्र अगोप्यत् ?

तथ्य यह है कि आज सूचना और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता तक पहुंच का लोकतंत्रीकरण हो गया है ! यह अब आपके परिवार के अनुचर द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है और इसीलिए यह दर्द होता है ! अभी तक बंगलुरु दंगों की आपसे निंदा नहीं सुनी है ! आपका साहस कहां गायब हो गया ?

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला: अपि अस्य मुद्दाम् नियतुम् जे पी सी जांचस्य याचनाम् अकरोत् ! सः अकथयत् भक्त टी वी चैनल – प्रिंट मीडिया उपरांत फेसबुक व्हाट्सएप्पस्य मोदी सरकारेन सम्बन्धस्य उजागरम् कृते ! किं फ़ेसबुक माध्यमेन फेक न्यूज़ भोंडे प्रचारम् च् प्रस्सरयति ? फ़ेसबुक इंडिया मुखियानां भाजपेन किं सम्बंधम् अस्ति ? किं अस्य षड्यंत्रस्य जे पी सी तः जांचम् भवनीय ?

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी इस मसले को उठाते हुए जे पी सी जांच की मांग की ! उन्होंने कहा, भक्त टी वी चैनल – प्रिंट मीडिया के बाद फ़ेसबुक और व्हाट्सएप्प की मोदी सरकार से साँठगाँठ का पर्दाफ़ाश करे ! क्या फ़ेसबुक के माध्यम से फ़ेक न्यूज़ और भोंडे प्रचार को फैलाया जा रहा है ? फ़ेसबुक इंडिया के मुखियाओं का भाजपा से क्या रिश्ता है ? क्या इस षड्यंत्र की जे.पी.सी से जाँच होनी चाहिए ?

वस्तुतः वॉल स्ट्रीट जर्नलस्य एकम् लेखे आरोपम् आरोपयतु तत फ़ेसबुक भाजपा सह सम्मिलितम् समूहेभ्यः घृणा प्रसारम् नियमानि प्रारम्भ कृतस्य विरोधम् अकरोत् स्व मंचे च् मुस्लिम विरोधिम् लेखस्य अनुमतिम् अददात् ! समाचारपत्रम् वर्तमानम् पूर्वम् वा फ़ेसबुक कर्मचारिणाम् उदाहरणम् दात्तुम् दावाम् अकरोत् तत कथित रूपेण बीजेपी विधायकम् टी राजा सिंह: अन्य च् हिन्दू राष्ट्रवादी पुरुषाणि समूहेभ्यः च् कम्पनी अभद्र भाषा नियमानि प्रारम्भ कृतेन निषेधम् अकरोत् !

दरअसल, वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि फेसबुक ने भाजपा के साथ जुड़े समूहों के लिए नफरत फैलाने वाले नियमों को लागू करने का विरोध किया और अपने मंच पर मुस्लिम विरोधी पोस्ट्स की अनुमति दी ! अखबार ने वर्तमान और पूर्व फेसबुक कर्मचारियों का हवाला देते हुए दावा किया कि भारत में एक शीर्ष फेसबुक कार्यकारी ने कथित रूप से बीजेपी विधायक टी राजा सिंह और अन्य हिंदू राष्ट्रवादी व्यक्तियों और समूहों के लिए कंपनी के अभद्र भाषा नियमों को लागू करने से इनकार कर दिया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here