विशेषज्ञम् उद्घाटयत् गलवाने चिनी सैनिकानां हननस्य यथार्थतास्य रहस्यम् ! एक्सपर्ट ने खोली गलवान में चीनी सैनिकों के मारे जाने की असलियत की पोल !

0
230

गलवान घट्याम् विगत १५ जूनम् भारतम् चिनस्य च् सैनिकानां मध्य रक्तयुक्तम् कलहम् अभवत् इति कलहे च् भारतस्य २० सैनिकानि हुतात्मा अभवत् ! बहु मीडिया सूचनायाम् चिनी सैनिकानां हननस्यपि दृढ़ कथनम् अकरोत् तु चिनम् कदापि आधिकारिक रूपेण इदम् न स्वीकार्यते तत इति कलहे तस्य सैनिकम् हताहतम् अभवत् !

गलवान घाटी में गत 15 जून को भारत और चीन के सैनिकों के बीच खूनी झड़प हुई और इस हिंसा में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए ! कई मीडिया रिपोर्टों में चीनी सैनिकों के मारे जाने का भी दावा किया, लेकिन चीन ने कभी भी आधिकारिक रूप से यह नहीं माना कि इस संघर्ष में उसके सैनिक हताहत हुए !

इति मध्य एकम् विशेषज्ञम् दृढ़ बन्धनम् अकरोत् तत कलहे हनम् एकम् चिनी सैनिकस्य समाधिस्य चित्रम् सोशल मीडिया वीबो इते प्रसरित अभवत् ! बदयति तत इदम् समाधि चिनम् भारतम् सीमा रक्षा कलहे अहनत् १९ वर्षीय एकम् युवकस्य अस्ति !

इस बीच एक एक्सपर्ट ने दावा किया है कि संघर्ष में जान गंवाने वाले एक चीनी सैनिक के कब्र की तस्वीर सोशल मीडिया वीबो पर वायरल हुई है ! बताया जा रहा है कि यह कब्र चीन भारत सीमा रक्षा संघर्ष में मारे गए 19 साल के एक जवान की है !

साभार ट्वीटर

चिनस्य विदेशस्य सुरक्षानीतिस्य वा विशेषज्ञ एम टेलर फ्रावेल: स्व एकम् ट्विते अकथयत् तत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो इते एकम् चित्रम् प्रसरित भवति ! १९ वर्षस्य एकम् चिनी सैनिकस्य समाधिस्य चित्रस्य अधो अलिखत् तत अयम् सैनिक: जून २०२० तमे चिनम् भारतम् सीमा रक्षा कलहस्य कालम् अहनत् !

चीन की विदेश एवं सुरक्षा नीति के जानकार एम टेलर फ्रावेल ने अपने एक ट्वीट में कहा है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो पर एक तस्वीर वायरल हो रही है ! 19 साल के एक चीनी सैनिक के कब्र की तस्वीर के नीचे लिखा है कि यह सैनिक जून 2020 में चीन भारत सीमा रक्षा संघर्ष के दौरान मारा गया !

साभार ट्वीटर
साभार ट्वीटर
साभार ट्वीटर

अयम् सैनिक: चिनस्य फुजियान प्रान्तस्य आसीत् ! समाधिम् चित्रे सैनिकस्य टुकड़ीस्य क्रमांक ६९३१६ प्रदयते ! इदम् लगति तत अयम् गलवान घट्याया: उत्तरे चिप चाप नदी घट्याया: निकषा तियेवेनदियाने एकम् सीमा सुरक्षा टुकड़ीम् अस्ति !

यह सैनिक चीन के फुजियान प्रांत का था ! कब्र वाली तस्वीर में सैनिक के यूनिट का नंबर 69316 दिया गया है ! ऐसा लगता है कि यह गलवान घाटी के उत्तर में चिप चाप नदी घाटी के समीप तियेवेनदियान में एक सीमा सुरक्षा कंपनी है !

गलवान घट्याया: कलहस्य उपरांत अमेरिकी प्रतिवेदनेषु दृढ़ कथनम् क्रियते तत इति कलहे अनुमानतः ३५ ४० वा चिनी सैनिकम् हताहत अभवत् ! चिनस्य सरकारी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स सम्पादकमपि गलवान घट्यायाम् चिनी सैनिकानां हताहत भवस्य वार्ताम् स्वीकार्यते तु चिनम् कदापि आधिकारिक रूपेण अयम् न मान्यति तत तस्य सैनिक: हतवान !

गलवान घाटी की हिंसा के बाद अमेरिकी रिपोर्टों में दावा किया गया है कि इस संघर्ष में करीब 35 से 40 चीनी सैनिक हताहत हुए ! चीन के सरकारी मुख पत्र ग्लोबल टाइम्स के संपादक ने भी गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के हताहत होने की बात स्वीकार की लेकिन चीन ने कभी भी आधिकारिक रूप से यह नहीं माना कि उसके सैनिक मारे गए !

चिनस्य प्रति कथयति तत सः स्व नीतिस्य अनुरूपम् स्व सैनिकानां हताहत भवस्य प्रति सूचनां सार्वजनिकम् न करोति ! वस्तुतः चिने अस्य नीतिम् गृहित्वा सेवानिवृत्त अभवत् सैनिक: स्व क्रोधमपि स्पष्टम् अकारयत् ! पूर्व सैनिकानां कथनम् अस्ति तत भारतम् यस्य प्रकारेण स्व हुतात्मा सैनिकानि सम्मानम् अददात् तस्य प्रकारमपि स्व सैनिकानां अपि आदरम् करणीय !

चीन के बारे में कहते है कि वह अपनी नीति के चलते अपने सैनिकों के हताहत होने के बारे में जानकारी सार्वजनिक नहीं करता ! हालांकि चीन में इस नीति को लेकर रिटायर हो चुके सैनिक अपना आक्रोश भी जाहिर कर चुके हैं ! पूर्व सैनिकों का कहना है कि भारत ने जिस तरह से अपने शहीद सैनिकों को सम्मान दिया उसी तरह चीन को भी अपने सैनिकों का भी आदर करना चाहिए !

गलवाने हिंसाय भारतम् चिनम् उत्तरदायी कथयति ! भारतम् स्पष्ट रूपेण अकथयत् तत चिनस्य सैनिकाः वास्तविक नियंत्रण रेखे (एलएसी) एकपक्षीय यथास्थितिस्य परिवर्तितम् करोति स्म यस्य भारतस्य सैनिकाः विरोधम् अकरोत् ! भारतम् चिनम् स्पष्ट शब्देषु अकथयत् तत सः स्व क्षेत्रीय एकताम् राष्ट्रीय संप्रभुतेन वा सह किमपि ज्ञप्ति न करिष्यति !

गलवान में हिंसा के लिए भारत ने चीन को जिम्मेदार कहता है ! भारत ने स्पष्ट रूप से कहा कि चीन के सैनिक वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर एकतरफा यथास्थिति का बदलाव कर रहे थे जिसका भारत के सैनिकों ने विरोध किया ! भारत ने चीन को दो टूक शब्दों में कहा है कि वह अपनी क्षेत्रीय एकता एवं राष्ट्रीय संप्रभुता के साथ कोई समझौता नहीं करेगा !

गलवान घट्याया: कलहस्य उपरांत द्वय देशयो मध्य सिम्नी कलहम् बहु बर्धयते ! गतिरोधम् द्रुतम् कृतं सिम्नी सौहार्द बर्धनाय सैन्य स्तरे बहु कालस्य वार्ताम् अभवत् तु अद्यैव असमंजसस्य स्थायीम् हलम् न निस्सरति !

गलवान घाटी की हिंसा के बाद दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव काफी बढ़ गया है ! गतिरोध दूर करने एवं सीमा पर सौहार्द बहाल करने के लिए सैन्य स्तर पर कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अभी तक समस्या का स्थायी समाधान नहीं निकला है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here