इयम् भारतम्-चिनस्य मध्यस्य गोपनीय वार्ताम् एलएसी इते गतिरोधस्य मध्य अबदत् विदेश मंत्री: ! यह भारत-चीन के बीच की गोपनीय बात LAC पर गतिरोध के बीच बोले विदेश मंत्री !

0
158

चिनेन कलहस्य मध्य विदेश मंत्री: एस जयशंकर: गुरूवासरम् अकथयत् तत वार्ताम् निरन्तरति ! लद्दाखे वास्तविक नियंत्रण रेखायाम् (LAC) स्थितिस्यदा पृच्छे जयशंकर: अकथयत् तत कार्यम् प्रगतियामस्ति !

चीन से तनाव के बीच विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा कि बातचीत जारी है ! लद्दाख में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हालात के बारे में पूछे जाने पर जयशंकर ने कहा कि कार्य प्रगति पर है !

तस्मै यदा अपृच्छयत् तत द्वयो देशयो मध्य किं वार्ताम् भवति तर्हि विदेश मंत्री: इयम् कथयत: इतिदा विस्तृत ज्ञानम् दीयेन स्पष्टम् न इति अकरोत् तत इयम् भारतं चिनस्य मध्यस्य च् गोपनीय वार्तास्ति !

उनसे जब पूछा गया कि दोनों देशों के बीच क्‍या बातचीत हो रही है तो विदेश मंत्री ने यह कहते हुए इस बारे में विस्‍तृत जानकारी देने से इनकार कर दिया कि यह भारत और चीन के बीच की गोपनीय बात है !

विदेश मंत्रिस्य इयम् टिप्पणिका एकम् कार्यक्रमस्य कालम् आगतवान, यत्र तेन भारतं चिनस्य च् मध्य पूर्वी लद्दाखे वास्तविक नियंत्रण रेखायाम् निरन्तरति गतिरोधस्य मध्य वर्तमान स्थितिदा अपृच्छयत् स्म !

विदेश मंत्री की यह टिप्‍पणी एक कार्यक्रम के दौरान आई, जहां उनसे भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा पर जारी गतिरोध के बीच मौजूदा स्थिति के बारे में पूछा गया था !

सः अकथयत् तत यत् केचनपि अद्यापि चलति, तमदा सः कश्चित टिप्पणिका न कृतं इच्छति ! विदेश मंत्री: अकथयत् अयम् मम कार्यम् कृतस्य प्रथम नियममस्ति तत यत् अद्यापि चलति, तमदा प्रथमं केचनपि न अकथ्यते !

उन्‍होंने कहा कि जो कुछ भी अभी चल रहा है, उस बारे में वह कोई टिप्‍पणी नहीं करना चाहते ! विदेश मंत्री ने कहा यह मेरे काम करने का पहला नियम है कि जो अभी चल रहा है, उस बारे में पहले कुछ भी नहीं कहें !

इत्यात् पूर्व विदेश मंत्रालयम् लद्दाखम् गृहित्वा चिनस्य टिप्पणिकां गृहित्वा सख्त प्रतिक्रियाम् दत्त: अकथयत् तत केन्द्रशासितम् प्रदेश जम्मू – कश्मीर लद्दाख च् देशस्य अभिन्नम् अंशम् रहति, रहिष्यति च् !

इससे पहले विदेश मंत्रालय ने लद्दाख को लेकर चीन की टिप्‍पणी को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख देश के अभिन्न हिस्से रहे हैं, और रहेंगे !

चिनम् भारतस्य आंतरिक प्रकरणेषु टिप्पणिका कृतस्य कश्चित अधिकारम् नास्ति, विदेश मंत्रालयस्य इयम् प्रतिक्रिया चिनस्य तम् टिप्पणिकास्य उपरांत आगतवान, यस्मिन् तत् अकथयत् स्म तत तः लद्दाख अरुणाचल प्रदेशम् च् मान्यताम् न ददाति !

चीन को भारत के आंतरिक मामलों में टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है, विदेश मंत्रालय की यह प्रतिक्रिया चीन की उस टिप्‍पणी के बाद आई, जिसमें उसने कहा था कि वह लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं देता !

विदेश मंत्रालयस्य प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव: अकथयत्, वयं आशामस्ति तत चिनस्य जनः भारत देशस्य स्व आंतरिक प्रकरणेषु कश्चितापि प्रकरणेषु टिप्पणिका न करिष्यति यथा तत तः द्वितीयेन अपेक्षाम् करोति !

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, हमें उम्मीद है कि चीन के लोग भारत देश के अपने आंतरिक मामलों में किसी भी मुद्दे पर टिप्पणी नहीं करेंगे जैसा कि वे दूसरों से अपेक्षा करते हैं !

जम्मू-कश्मीर लद्दाखेन च् सह अरुणाचल प्रदेश भारतस्य अभिन्नम् अंशमस्ति ! अस्माकं व्यवहारम् बहुधा स्पष्टम् अक्रियते ! चिनी पक्षम् सर्वोच्च स्तरेव बहुधा स्पष्ट रूपेण इयम् वार्ता अबद्यते !

जम्मू-कश्‍मीर और लद्दाख के साथ अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है ! हमारा रुख कई बार स्पष्ट किया जा चुका है ! चीनी पक्ष को सर्वोच्च स्तर तक कई बार स्पष्ट रूप से यह बात बताई गई है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here