प्रत्यक्षदर्शिन् ज्ञापित:, कीदृशं हननमभवत् स्म कश्मीरी पंडित:, उत्पीडनाय क्षमायाचित: ! चश्मदीद ने बताया, कैसे मौत के घाट उतारे गए थे कश्मीरी पंडित, अत्याचार के लिए माफी मांगी !

0
257

१९९० तमे जम्मू-कश्मीरे आतंकम् सह्यितौ २ वृहत् प्रत्यक्षदर्शिणौ तस्यकालस्य स्थितिं प्रत्यां ज्ञापितौ ! तौ प्रत्यक्षदर्शिणौ, ययो: संमुखम् कश्मीरी पंडितान् हननमभवताम् ! तौ प्रत्यक्षदर्शिणौ यौ न्यूनवयौ इव कश्मीरी पंडितानां पलायनम् दर्शितौ !

1990 में जम्मू-कश्मीर में आतंक को झेल चुके 2 बड़े चश्मदीदों ने उस समय की स्थिति के बारे में बताया है ! वो चश्मदीद, जिनके सामने कश्मीरी पंडितों का कत्लेआम हुआ ! वो चश्मदीद जिन्होंने छोटी सी उम्र में ही कश्मीरी पंडितों का पलायन देखा !

तौ प्रत्यक्षदर्शिणौ यत् द कश्मीर फाइल्स इत्यां प्रदर्शितं एके एके घटनायां प्रमाणितं कुरुत: ! ९० दशके कश्मीरे पंडितै: सह किं नाभवन् स्म ? इमानि सत्य पृथकपृथक प्रकारेणदेशस्य संमुखमागच्छन्ति ! तु नरसंहारस्य वास्तविक फाइल्स कास्ति, इदम् टाइम्स नाउ नवभारते प्रत्यक्षदर्शिणौ ज्ञापितौ !

वो चश्मदीद जो फिल्म द कश्मीर फाइल्स में दिखाई गई एक एक घटना पर मुहर लगा रहे हैं ! 90 के दशक में कश्मीर में पंडितों के साथ क्या कुछ हुआ था ? ये सच अलग अलग तरीके से देश के सामने आते रहे हैं ! लेकिन नरसंहार की रियल फाइल क्या है, ये टाइम्स नाउ नवभारत पर चश्मदीदों ने बताया !

जावेद बेग: कश्मीरी लेखक: सामाजिककार्यकर्ता च् सन्ति एतस्मात् बर्धित्वा एकः सद् कश्मीरी मुस्लिम: अस्ति ! जावेदबेग: सेंट्रल कश्मीरे बडगामस्य वासिन् अस्ति ! १९९७ तमे बीरवां खंडस्य संग्रामपुरा ग्रामे हननम् याभ्यां अद्यापि स्मरणमस्ति ! तदा ययो उम्र १०-११ वर्षे आस्ताम् !

जावेद बेग कश्मीरी लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता हैं और इन सबसे बढ़कर एक सच्चे कश्मीरी मुस्लिम हैं ! जावेद बेग सेंट्रल कश्मीर में बडगाम के रहने वाले हैं ! 1997 में बीरवां तहसील के संग्रामपुरा गांव में कत्लेआम इन्हें आज भी याद है। तब इनकी उम्र 10-11 साल थी !

जावेद बेग: ज्ञापयति तत तदैति ग्रामे वासिन् बहु कश्मीरीपंडितान् पकिस्तानतः आगतवानातंकिण: क्षेत्रीय आतंकिभि: सह मेलित्वा हनिता: ! गृहेभ्यः कर्षित्वा कर्षित्वा कश्मीरी पंडितान् हनिता:, कश्मीरी पंडितानां पलायनमावां १९९० तः संयुक्तवा दर्शयाव: !

जावेद बेग बताते हैं कि तब इस गांव में रहने वाले कई गरीब कश्मीरी पंडितों को पाकिस्तान से आए आतंकवादियों ने लोकल आतंकियों के साथ मिलकर मारा ! घरों से खींच-खींचकर कश्मीरी पंडितों को मौत के घाट उतार दिया, कश्मीरी पंडितों के पलायन को हम 1990 से जोड़कर देखते हैं !

तु जावेद बेग: यत् घटनां ज्ञापित: तत १९९७ तमस्य अस्ति ! जावेदस्यानुरूपम्, कश्मीरी पंडितेषु अत्याचारस्येदं क्रम तस्याग्रमपि दीर्घकालमेव चरितं स्म ! जावेद बेग: स्व ट्वितरस्थले कश्मीरी पंडितानां नरसंहारस्य चर्चायाः अस्ति !

लेकिन जावेद बेग ने जो घटना बताई वो 1997 की है ! जावेद के मुताबिक, कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार का ये सिलसिला उसके आगे भी लंबे वक्त तक चला था ! जावेद बेग ने अपने ट्विटर हैंडल पर कश्मीरी पंडितों के नरसंहार की चर्चा की है !

तौ कश्मीरी पंडित गिरजा टिक्को: हननस्योल्लेखम् कृतौ ! गिरजा टिक्को: हनने अनुताप: व्यक्तौ ! गिरजा टिक्कू, ते कश्मीरी पंडिताः यै: जेकेएलएफ इत्या: आतंकिण: हनित्वा बहु खंडानि कृतवन्तः स्म !

उन्होंने कश्मीरी पंडित गिरजा टिक्कू की हत्या का जिक्र किया है ! गिरजा टिक्कू की हत्या पर अफसोस जताया है ! गिरजा टिक्कू, वो कश्मीरी पंडित जिन्हें JKLF के आतंकवादियों ने मारकर कई टुकड़े कर दिए थे !

गिरजा टिक्को: हननस्य घटनाम् चलचित्रं द कश्मीर फाइल्स इत्यां अपि प्रदर्शितं ! जावेद बेग: टाइम्स नाउ नवभारते आगत्वा कश्मीरी पंडितेषु अभवन् अत्याचाराय क्षमायाचितौ ! कश्मीरस्य सर्वान् मुस्लिमान् प्रत्या कश्मीरी पंडितै: गृहागमनस्य याचनां कुर्वतः !

गिरजा टिक्कू की हत्या की घटना को फिल्म द कश्मीर फाइल्स में भी दिखाया गया है ! जावेद बेग ने टाइम्स नाउ नवभारत पर आकर कश्मीरी पंडितों पर हुए अत्याचार के लिए माफी मांगी ! कश्मीर के सभी मुसलमानों की ओर से कश्मीरी पंडितों से घर लौट आने की अपील कर रहे हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here