12.1 C
New Delhi

फेसबुक इंडियास्य पॉलिसी डायरेक्टर आरक्षके परिवेदनाम् अकरोत् ! फेसबुक इंडिया की पॉलिसी डायरेक्‍टर ने पुलिस में शिकायत की !

Date:

Share post:

फेसबुक इंडियास्य पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखी दास दिल्ली आरक्षके भर्तस्कः प्राप्तस्य परिवेदनाम् अलिखितवान ! सः रविवासरम् रात्रि दिल्ली आरक्षकस्य साइबर सेलम् लिखित परिवेदनाम् अददात् ! यस्मिन् अकथ्यते तत ते ऑनलाइन लेखम् प्रति प्राणेन हननस्य भर्तस्कः ददाते ! ते च् गृहित्वा असाधु टिप्पणानि अपि क्रियते ! दिल्ली आरक्षकस्य साइबर सेल वस्तुतः प्रकरणस्य जांचम् करोति !

फेसबुक इंडिया की पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखी दास ने दिल्ली पुलिस में धमकी मिलने की शिकायत दर्ज कराई है। उन्‍होंने रविवार रात दिल्ली पुलिस की साइबर सेल को लिखित शिकायत दी है, जिसमें कहा गया है कि उन्‍हें ऑनलाइन पोस्ट के जरिये जान से मारने की धमकी दी जा रही है और उन्‍हें लेकर अश्‍लील टिप्‍पणियां भी की जा रही हैं ! दिल्ली पुलिस की साइबर सेल फिलहाल मामले की जांच कर रही है !

किमस्ति प्रकरणम् ?

क्‍या है मामला ?

अंखी दासस्य अरोपमस्ति तत ते इदम् भर्तस्काणि १४ अगस्तम् वॉल स्ट्रीट जर्नले प्रकाशितं एकम् लेखस्य उपरांत मिलति, यस्मिन् अरोपम् अलागयते तत फेसबुक भारते सत्ताधारी दलस्य सम्मुख अस्त्रम् अपरित्यक्तम् ! तस्मिन् इदमपि अकथ्यते तत फेसबुके भारते कश्चित इदानीं सामग्रियानि अगच्छत्, येन द्वेष बर्धनम् अवद्यते, तु अंखी दासः विपणनस्य वार्ताम् दात्तुम् तानि उन्मूलनस्य विरोधम् अकरोत् !

अंखी दास का आरोप है कि उन्‍हें ये धमकियां 14 अगस्त को वॉल स्ट्रीट जर्नल में प्रकाशित एक लेख के बाद मिल रही हैं, जिसमें आरोप लगाया गया है कि फेसबुक ने भारत में सत्ताधारी पार्टी के सामने हथियार डाल दिए हैं ! इसमें यह भी कहा गया कि फेसबुक पर भारत में कई ऐसी सामग्रियां आईं, जिन्‍हें नफरत फैलाने वाली बताया गया, लेकिन अंखी दास ने बिजनेस का हवाला देते हुए उन्हें हटाने का विरोध किया !

परिणामे घोषणाम् अकार्यते तत फेसबुक स्व मंचेन भाजपेन सम्बंधित जनानि समूहानाम् च् द्वेष प्रस्सरम् उद्बोधनानि अवरुद्धाय अयम् कथितुम् केचन न अकरोत् तत सत्ताधारी दलस्य सदस्यानि अवरुद्धेन भारते तस्य व्यावसायिक हितानि क्षतिम् भवशक्नोति यस्मिन् च् फेसबुक इंडियास्य पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टरस्य तौरे अंखी दासस्य महत्वपूर्णम् भूमिकाम् अरहत् !

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि फेसबुक ने अपने मंच से बीजेपी से जुड़े लोगों और समूहों के नफरत फैलाने वाले भाषणों को रोकने के लिए यह कहते हुए कुछ नहीं किया कि सत्ताधारी दल के सदस्यों को रोकने से भारत में उसके व्यावसायिक हितों को नुकसान हो सकता है और इसमें फेसबुक इंडिया की पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर के तौर पर अंखी दास की अहम भूमिका रही !

sabhar googal

फेसबुक किं अकथयत् ?

फेसबुक ने क्‍या कहा ?

अंखी दासस्य कथनम् अस्ति इति लेखस्य उपरांत सः भर्तस्काणि मिलति ! सः वस्तुतः अयमपि अकथयत् तत यस्मिन् तथ्यानि त्रोटित्वा प्रस्तुतम् अकार्यते ! चत्वारि पृष्ठस्य परिवेदने अंखी दासः अकथयत् तत सोशल मीडिया लेखेन सः भर्तस्काणि दीयते तस्य च् चित्राणामपि प्रयोगम् अकार्याति !

अंखी दास का कहना है कि इसी लेख के बाद उन्‍हें धमकियां मिल रही हैं ! उन्‍होंने हालांकि यह भी कहा कि इसमें तथ्यों को तोड़मरोड़कर पेश किया गया है ! चार पेज की शिकायत में अंखी दास ने कहा है कि सोशल मीडिया पोस्‍ट के जरिये उन्‍हें धमकियां दी जा रही हैं और उनकी तस्‍वीरों का भी इस्‍तेमाल किया जा रहा है !

अस्य मध्य फेसबुकस्य एकम् प्रवक्ता: अरोपाणि नकार्तुम् तत सोशल मीडिया कंपनी हेट वार्ते कश्चितस्य राजनीतिक स्थितिम् दलेन वा तस्य सम्बद्ध भवस्य प्रमादम् अकरोत् विना स्व नीतानि आरम्भयति !

इस बीच फेसबुक के एक प्रवक्ता ने आरोपों को नकारते हुए कहा कि सोशल मीडिया कंपनी हेट स्‍पीच पर किसी की राजनीतिक स्थिति या पार्टी से उसके संबद्ध होने की परवाह किए बगैर अपनी नीतियों को लागू करती है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया

मध्यप्रदेशे इस्लामनगरम् ३०८ वर्षाणि अनंतरम् पुनः कथिष्यते जगदीशपुरम् ! मध्यप्रदेश में इस्लाम नगर 308 साल बाद फिर से कहलाएगा जगदीशपुर !

मध्यप्रदेशस्य भोपालतः १४ महानल्वम् अंतरे एकं ग्रामम् इस्लामनगरमधुना जगदीशपुर नाम्ना ज्ञाष्यते ! केंद्र सर्वकार: ग्रामस्य नाम परिवर्तनस्याज्ञा दत्तवान्...