21.1 C
New Delhi

हिन्दू भावनात् PETA इत्यस्य उपेक्षा कदा पर्यन्तम् ? लेदर फ्री कैंपेन ! हिंदू भावनाओं से PETA का खिलवाड़ कब तक ? लेदर फ्री कैंपेन !

Date:

Share post:

पशु अधिकारनाम् वार्ता करोतीति अंतरराष्ट्रीय संस्था PETA रक्षाबन्धने विवादित साग्रह प्रार्थना कृतवान ! PETA गो: नाम गृहीत्वा, लेदर फ्री रक्षाबंधन कैंपेन अचालयत् ! एतेषाम् अस्य सम्पूर्ण कैम्पेनसि मंशैव प्रश्नम् उद्तिष्ठत् ! PETA इते हिन्दू भावनानाम् विघट्टनस्य प्रत्यारोप लगति ! सहैव प्रश्नम् इदानिमपि प्रश्नम्यापि उद्तिष्ठत् ! अन्ते गो: रक्षिताति पोस्टरे PETA रक्षाबंधन किं अलिखत् ? इदम् जानीतुमपि रक्षाबन्धन चर्ममस्य च् प्रयोगस्य मध्य अस्य उत्सवे कोपि सम्बंधम् न स्तः ! अपितु PETA इत्यस्य अयम् कैंपेन किं ?

पशु अधिकारों की बात करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था PETA ने रक्षाबंधन पर विवादित अपील की है ! PETA ने गाय का नाम लेकर, लेदर फ्री रक्षाबंधन कैंपेन चलाया है ! ऐसे में इस पूरे कैंपेन की मंशा पर ही सवाल उठ रहे हैं ! PETA पर हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लग रहा है ! वहीं सवाल ये भी पूछे जा रहे हैं कि आखिर गाय को बचाने वाले पोस्टर पर PETA ने रक्षाबंधन क्यों लिखा ? ये जानते हुए भी कि रक्षाबंधन और चमड़े के इस्तेमाल के बीच इस त्योहार में कोई संबंध नहीं है ! फिर भी PETA का ये कैंपेन क्यों ?

अहमदाबाद,भोपाल,चंडीगढ़,पुणेषु पोस्टर इति अलागयत् ! अस्य कैंपेन गृहीत्वा PETA अलोचनापि उपभुजति ! प्रत्येक पेटा भारतेन इदम् प्रश्नम् पृच्छतु,अन्ते रक्षाबन्धने चर्मस्य प्रयोगम् कुत्र भवति ! इसकानपि पेटा इते प्रश्नम् उत्थायत् हिन्दू भावनानाम् विघट्टनस्य प्रत्यारोप अलागयत् च् ! जनाः तर्हि अयमेव अपृच्छतु ईद बकरीदे इदानीं प्रश्न किं न उत्थायतु ?

अहमदाबाद, भोपाल, चंडीगढ़, पुणे में बोर्ड लगाए गए हैं ! इस कैंपेन को लेकर PETA को आलोचना भी झेलनी पड़ रही है ! हर कोई पेटा इंडिया से यही सवाल पूछ रहा है, कि आखिर रक्षाबंधन में लेदर का उपयोग कहां होता है ! इस्कॉन ने भी पेटा पर सवाल उठाए हैं और हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया है ! लोगों ने तो यहां तक पूंछ लिया है ईद व बकरीद पर ऐसे प्रश्न क्यों नहीं उठाते ?

PETA किं अस्ति ?

PETA क्या है ?

पीपुल फ़ॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स
PETA एकः अंतरराष्ट्रीय संस्था अस्ति ! अस्य स्थापना 22 मार्च ,1980 अभवत् आसीत् ! अमेरिकास्य वर्जिनिये PETA इत्यस्य मुख्यालयम् अस्ति ! वर्ष 2000 तमे मुम्बईम् PETA भारतस्य स्थापना अभवत् ! अयम् संस्था पशवाः अधिकारेभ्यः कार्यम् करोति ! PETA विश्वानाम् सर्वात् वृहद पशवः अधिकार संगठनम् अस्ति सम्पूर्ण विश्वे अस्य 60 लक्षात् बहु सदस्याणि सन्ति !

पीपुल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स
PETA एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है ! इसकी स्थापना 22 मार्च, 1980 को हुई थी ! अमेरिका के वर्जीनिया में PETA का मुख्यालय है ! साल 2000 में मुंबई में PETA इंडिया की स्थापना हुई ! ये संस्था पशु अधिकारों के लिए काम करती है ! PETA विश्व का सबसे बड़ा पशु अधिकार संगठन है और पूरी दुनिया में इसके 60 लाख से ज्यादा सदस्य हैं !

किं केवलं हिन्दू भावनानाम् आहत कृतस्य उद्देश्यम् !

क्या केवल हिन्दू भावनाओं को आहत करने का उद्देश्य !

इदानीं कति अवसरम् आगतवान्, यदा अयम् संगठन विवादेषु उपभुजत् तस्य गतिविधिनाम् शंकस्य अक्ष्येण अपश्यत् ! 2015 तमे तमिलनाडे हस्तीनाम् यात्रास्य विरोधम् ! 2017 तमे तमिलनाडुस्य जल्लिकुट्टुस्य विरोधम् ! 2017 तमे धार्मिक कार्येषु हस्तीनाम् प्रयोगस्य विरोधम् ! 2017 तमे नागपंचमे नागानां पूजसि विरोधम् ! निपात तर्हि अभवत् यद् 2018 तमे जन्माष्टमे गो: दुग्धस्य शाकाहारी घृतस्य न खादतस्य साग्रह प्रार्थना कृत्वा बहु वृहद विवाद उत्पन्नम् अकरोत् आसीत् !

ऐसे कई मौके आए हैं, जब यह संगठन विवादों में पड़ा और उसकी गतिविधियों को शक की नजरों से देखा गया है ! 2015 में तमिलनाडु में हाथियों की परेड का विरोध ! 2017 में तमिलनाडु के जल्लीकट्टू का विरोध ! 2017 में धार्मिक कार्यों में हाथियों के इस्तेमाल का विरोध ! 2017 में नागपंचमी पर नागों की पूजा का विरोध ! हद तो तब हो गयी जब 2018 में जन्माष्टमी पर गाय के दूध के शाकाहारी घी को न खाने की अपील करके बहुत बड़ा विवाद पैदा कर दिया था !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

अंकुरस्य प्रीतौ सबाभवत् सोनी ! अंकुर के प्यार में सबा बन गई सोनी !

उत्तर प्रदेशस्य बरेल्यां सबा बी नामक बालिका हिंदू बालक: अंकुर देवलतः पाणिग्रहण कर्तुं पुनः गृहमागतवती ! सम्प्रति सा...

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया