स्वासि वंचकम्, तर्हि किं कुर्यात् सरकारं ! अपने हो दगाबाज, तो क्या करे सरकार !

0
181

वार्तायन प्रकरणे बन्दी पत्रकार राजीव शर्मादा स्तब्धम् ज्ञानम् सम्मुखम् आगतवान ! हस्तिनापुर आरक्षकम् शानिवासरम् अकथयत् तत बन्दी पत्रकार राजीव शर्मा: कथित रूपेण भारतस्य सिम्नी संलग्नम् रणनीतिक ज्ञानम् सेनास्य नियुक्तिस्य वर्णन च् चिनस्य गुप्त संस्थानैव प्रेषयति स्म !

जासूसी मामले में गिरफ्तार पत्रकार राजीव शर्मा के बारे में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है ! दिल्ली पुलिस ने शनिवार को कहा कि गिरफ्तार पत्रकार राजीव शर्मा कथित रूप से भारत की सीमा से जुड़ी हुई रणनीतिक जानकारी और सेना की तैनाती के ब्योरे चीन की खुफिया एजेंसियों तक पहुंचा रहे थे !

एकम् संवाददाता सम्मेलने हस्तिनापुर आरक्षकस्य विशेष टुकड़ीस्य डीसीपी संजीव कुमार यादव: अकथयत् तत शर्मा: केचन भारतीय मीडिया प्रतिष्ठानि चिनस्य मुखपत्रम् ग्लोबल टाइम्स इत्याय च् रक्षात् संलग्नम् प्रकरणेषु लेखम् लिख्यते स्म ! आरक्षक अधिकारिम् बदेत् तत चिनस्य गुप्त विभागस्य प्रतिनिधिम् कथित रूपेण शर्मात् वर्ष २०१६ तमे सम्पर्कम् कृतवान !

एक संवाददाता सम्मेलन में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव कुमार यादव ने कहा कि शर्मा कुछ भारतीय मीडिया प्रतिष्ठानों और चीन के मुख पत्र ग्लोबल टाइम्स के लिए रक्षा से जुड़े मुद्दों पर लेख लिख रहे थे ! पुलिस अधिकारी ने बताया कि चीन के खुफिया विभाग के एजेंट ने कथित रूप से शर्मा से वर्ष 2016 में संपर्क किया !

इयमेव न, चिनस्य केचन गुप्त विभागस्य अधिकारिणाम् सम्पर्के शर्मापि आसीत् ! आरक्षक अधिकारिम् दृढ़कथनम् अकरोत् तत इति स्वतंत्र पत्रकारम् एकार्द्ध वर्षेषु ४० लक्ष रूप्यकानि प्राप्यत् प्रत्येक सूचनाय च् १००० अमेरिकी डॉलर इत्यस्य भुगतानम् क्रियते स्म !

यही नहीं, चीन के कुछ खुफिया विभाग के अधिकारियों के संपर्क में शर्मा भी थे ! पुलिस अधिकारी ने दावा किया कि इस फ्रीलांस जर्नलिस्ट को डेढ़ सालों में 40 लाख रुपए मिले और प्रत्येक इंफार्मेशन के लिए उन्हें 1000 अमेरिकी डॉलर का भुगतान किया जा रहा था !

हस्तिनापुर आरक्षकम् प्राप्यत् स्म गुप्त ज्ञानम् ! बदयतु तत हस्तिनापुर आरक्षकम् शर्माम् गत १४ सितम्बरम् बन्दी कृतवान ! डीसीपी अबदत् तत आरक्षकम् वार्तायन प्रकरणे शर्मादा गुप्त सूचनां प्राप्यत् स्म ! आरक्षकम् शर्मास्य पार्श्वेन रक्षात् संलग्नम् गोपनीय दस्तावेजम् ग्राह्यते !

दिल्ली पुलिस को मिली थी खुफिया जानकारी ! बता दें कि दिल्ली पुलिस ने शर्मा को गत 14 सितंबर को गिरफ्तार किया ! डीसीपी ने बताया कि पुलिस को जासूसी मामले में शर्मा के बारे में इनपुट्स मिले थे ! पुलिस ने शर्मा के पास से रक्षा से जुड़े गोपनीय दस्तावेज जब्त किए हैं !

चिन नयपालस्य च् नागरिकमपि बन्दी !

चीन और नेपाल के नागरिक भी गिरफ्तार !

आरक्षक अधिकारिम् अकथयत् तत प्रकरणे चिनस्य एक महिला तस्य च् नयपाली सहयोगिमपि बन्दी कृतवान ! एतत् द्वयो आरोपमस्ति तत ते कृत्रिम उद्योगै: शर्माम् बहु मात्रायाम् धनम् उप्लब्धम् क्रियते स्म !

पुलिस अधिकारी ने कहा कि इस मामले में चीन की एक महिला और उसके नेपाली सहयोगी को भी गिरफ्तार किया गया है ! इन दोनों पर आरोप है कि वे फर्जी कंपनियों के जरिए शर्मा को बड़ी मात्रा में रकम मुहैया करा रहे थे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here