निर्वाचनात् पूर्व केरल कांग्रेसात् पीसी चाको: दत्त: त्यागपत्रम् ! चुनाव से पहले केरल कांग्रेस से पीसी चाको ने दिया इस्तीफा !

0
317

केरल कांग्रेसस्य वरिष्ठ नेता पीसी चाको: दलात् त्यागपत्रम् दत्तवान ! स्व त्यागपत्रे सः दले दल बंद्या: आरोपमारोपित: ! सः कथितः तत दलस्य अभ्यांतरम् दलबंदी आच्छादितं !

केरल कांग्रेस के कद्दावर नेता पीसी चाको ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है ! अपने इस्तीफे में उन्होंने पार्टी में गुटबाजी का आरोप लगाया है ! उन्होंने कहा कि पार्टी के अंदर गुटबाजी हावी है !

तस्य विरुद्धम् बहुधा स्वरम् उत्थायत: ! तु कश्चित ध्यानम् न दत्तम् ! केरल कांग्रेसे वस्तूनि साधु न सन्ति ! सः स्वतंत्र रूपेण कार्यम् कर्तुम् न लभ्धति स्म !

उसके खिलाफ कई बार आवाज उठाई !लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया ! केरल कांग्रेस में चीजें ठीक नहीं हैं ! वह स्वतंत्र रूप से काम नहीं कर पा रहे थे !

केरल कांग्रेसम् निर्मितम् अहम् च् अहम् च् दलम् ! केवलं ओमान चांडिना रमेश चेनीतालाया च् प्रत्याशीनां निश्चितं कृतौ ! प्रत्याशीनां नाम समितिम् पूर्णतः न ददाते !

केरल कांग्रेस बन गई है और मैं और मैं पार्टी ! केवल ओमान चांडी और रमेश चेनीताला द्वारा उम्मीदवारों के नाम तय किए गए ! उम्मीदवारों का नाम समिति को बिल्कुल नहीं दिया जा रहा है !

नाम केवलं ओमान चांडिना रमेश चेनीतालाया च् निश्चितं क्रियते ! अहम् केरलेन केरले कश्चित कांग्रेसम् नास्ति ! तु केरले समूह ए समूह आई चस्ति !

नाम केवल ओमान चांडी और रमेश चेनीताला द्वारा तय किए जाते हैं ! मैं केरल से केरल में कोई कांग्रेस नहीं है ! लेकिन केरल में ग्रुप ए और ग्रुप आई है !

अत्र केरलस्य शीर्ष नेतैव निर्णयम् ग्रहणतः ! प्रत्याशीनां चयनाय यत् समितिम् गठित: अक्रियते तस्य कश्चित अर्थम् नास्ति !

यहां केरल के शीर्ष नेता ही फैसले लेते हैं ! उम्मीदवारों के चयन के लिए जो समिति गठित की गई है उसका कोई मतलब नहीं है !

तः सततं शीर्ष नेतृत्वेण अनुरोधित: स्म तत येन अवरुद्धाय केचन कृतैति ! तु परिणाम ढाकस्य त्रय पत्राणि रमितम् !

वो लगातार शीर्ष नेतृत्व से अनुरोध कर चुके थे कि इसे रोकने के लिए कुछ किया जाए ! लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात रहा !

तः निर्वाचन समित्या: सदस्यम् सन्ति,तु सलाहकार मंडलस्य माध्यमेन गता प्रत्याशीनां नामानामपेक्षा,केवलं ओमान चांडिम् रमेशं च् ज्ञातमस्ति तत केन प्रत्याशिन् निर्वाचनपत्रम् लभ्धिष्यति !

वो चुनाव समिति के सदस्य हैं,लेकिन पैनल के माध्यम से जाने वाले उम्मीदवारों के नामों के बजाय,केवल ओमान चांडी और रमेश को पता है कि किन उम्मीदवारों को टिकट मिलेगा !

मह्यं न परिलक्ष्यति तत इदम् कश्चितापि अन्य राज्ये भवति ! अहम् दलप्रमुखस्य हस्तक्षेपस्य याचनां कृतः तु कश्चित लाभम् नाभवत् !

मुझे नहीं लगता कि यह किसी भी अन्य राज्य में होता है,मैंने हाईकमान के हस्तक्षेप की मांग की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ !

यदा वयं ४०-५० वर्ष पूर्वम् कांग्रेसे सम्मिलित: तु तत् कांग्रेसम् न रमितम् यस्य तः अंशमासीत् ! येन प्रकारस्य कांग्रेस दलप्रमुखः, दलबंदिम् गृहित्वा मौनमस्ति,तेन किं अकथ्यते ! यदि कथ्यतु तत तः दलबंद्या: मौन साक्षी सन्ति तदानृतं न भविष्यति !

जब हम 40-50 साल पहले कांग्रेस में शामिल हो गए लेकिन अब वो कांग्रेस नहीं रही जिसके वो हिस्सा थे ! जिस तरह के कांग्रेस हाईकमान, गुटबाजी को लेकर खामोश है,उसे क्या कहा जाए ! अगर कहें कि वो गुटबाजी के मूक गवाह हैं तो गलत ना होगा !

केरले भाजपाम् कश्चित लाभम् न भविष्यति,१- २ आसने भिन्नम् न भविष्यति,दुर्भाग्यतः कांग्रेस बामपंथेन रणति !

केरल में बीजेपी को कोई फायदा नहीं होगा, 1-2 सीटें अलग नहीं होंगी,दुर्भाग्य से कांग्रेस वामपंथ से लड़ रही है !

यदा राहुल गांधी वायनाडे वामस्य विरुद्धम् निर्वाचनम् रणस्य निर्णयम् कृतः तदा अहम् तस्य पार्श्व गन्तुम् तेन पुनर्विचार कर्तुम् गतः कुत्रचित वाम कांग्रेस च् वैचारिक रूपेण समः स्तः !

जब राहुल गांधी ने वायनाड में वाम के खिलाफ चुनाव लड़ने का फैसला किया तो मैं उनके पास जाने के लिए उनसे पुनर्विचार करने के लिए गया क्योंकि वाम और कांग्रेस वैचारिक रूप से समान हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here