12.1 C
New Delhi

भारतम् चिनम् अबदत् सखा, बिपिन रावतस्य बचनस्य उपरांत परिवर्तित स्वरम् ! भारत को चीन ने बताया दोस्त, बिपिन रावत के बयान के बाद बदल गए सुर !

Date:

Share post:

लद्दाखस्य पूर्वी क्षेत्रे चिनी भूमिकायाम् भारतम् तीक्ष्ण आपत्तिम् अस्ति ! चिनम् काले काले बचनम् परिवर्तित करोति ! तम् क्रमे भारतम् सम्प्रति चिन शत्रु न अपितु मित्रम् अबदत् !

लद्दाख के पूर्वी सेक्टर में चीनी भूमिका पर भारत को कड़ा ऐतराज है ! चीन समय समय पर बयान बदलता रहता है ! उसी कड़ी में भारत को अब चीन ने दुश्मन नहीं बल्कि दोस्त बताया है !

किं चिनम् भारतम् परस्परस्य मित्रम् भव शक्नोति ! किं भारतम् प्रति चिनम् पूर्ण प्रकारेण उदारम् अस्ति ! इदम् द्वयो प्रश्नम् अद्यस्य संदर्भे अनिवार्यम् स्तः ! चिनम् भारतेन सह सह चलनस्य वार्ताम् तर्हि करोति ! तु भूमौ यस्य प्रकारेण तत् असाधु भावनेन सह समक्षम् आगच्छति, तस्य कारणेन चिने विश्वासम् कृतं सम्भवम् न भवति !

क्या चीन और भारत एक दूसरे के दोस्त हो सकते हैं ! क्या भारत के प्रति चीन पूरी तरह से ईमानदार है ! यह दोनों सवाल आज के संदर्भ में वाजिब हैं ! चीन भारत के साथ साथ चलने की बात तो करता है ! लेकिन जमीन पर जिस तरह से वो बुरी नीयत के साथ पेश आता है, उसकी वजह से चीन पर भरोसा करना मुश्किल होता है !

अभिनवे सीडीएस बिपिन रावतः अकथयत् स्म तत वर्तमान कलहम् समापन कृते यदि कुटनीतिकम् राजनीतिकम् च् प्रयत्नम् असफलम् रहति तर्हि सैन्य विकल्पम् अस्ति ! तस्य उपरांत चिने द्वंदम् अस्ति !

हाल ही में सीडीएस बिपिन रावत ने कहा था कि मौजूदा तनाव को खत्म करने में अगर कूटनीतिक और राजनीतिक कोशिश नाकाम रहती है तो सैन्य विकल्प है ! उसके बाद चीन में हड़कंप है !

भारतम् चिनस्य मध्य वार्तेव मार्गम् – सुन विडोंग: !

भारत चीन के बीच बातचीत ही रास्ता – सुन विडोंग !

इंडिया यूथ चित्रपट द्रुतम् सम्मेलने बदितम् चिनस्य राजदूतम् सुन विडोंग: कथनम् अस्ति तत भारतम् चिनम् प्रतिद्वंदीम् न मित्रम् मान्यति, ललकारस्य स्थाने अवसरम् मान्यति ! मया आशाम् अस्ति तत उचित स्थाने द्वयो देशौ मध्य सिमा सम्बन्धितम् कलहम् निष्पादिष्यते !

इंडिया यूथ वेबिनार में बोलते हुए चीन के एंबेस्डर सुन विडोंग का कहना है कि भारत को चीन प्रतिद्वंदी नहीं दोस्त मानता है, चुनौती की जगह अवसर मानता है ! हमें उम्मीद है कि उचित जगह पर दोनों देशों के बीच सीमा संबंधित विवाद सुलझा लिए जाएंगे !

इदम् वार्ता सतास्ति तत अभिनवस्य दिवसेषु यत् वृत्तांतम् अघटत् तस्य कारणेन अविश्वासस्य परिवेशम् अनिर्मयत् ! तु यदि भवान् द्वयो देशयो आर्थिक सम्बन्धौ अपश्यत् तर्हि विश्वे सर्वात् अधिकम् वणिज्यम् भवति ! आगतम् काले आर्थिक सम्बन्धानां महत्ता सततं बर्धिष्यति ! इति सत्यम् प्रत्येकम् स्वीकारम् करिष्यते !

यह बात सच है कि हाल के दिनों में जो घटना घटी है उसकी वजह से अविश्वास का माहौल बना है ! लेकिन अगर आप दोनों देशों के आर्थिक संबंधों को देखें तो विश्व में सबसे ज्यादा व्यापार हो रहा है ! आने वाला समय में आर्थिक रिश्तों की महत्ता और बढ़ती जाएगी ! इस सच्चाई को हर एक को स्वीकार करना होगा !

अविश्वासस्य इदानीं वातावरणस्य समापने द्वयो देशौ सम्मुखम् आगतेव भविष्यति ! सः वेत्ति तत उचित प्रकारेण वार्तेन कलहयुक्त मुद्दानि निष्पादयस्य दिशायाम् अग्रम् बर्धनीय ! द्विपक्षीयम् सम्बन्धौ दृढ़ कृतस्य अवश्यक्ताम् अस्ति !

अविश्वास के इस वातावरण के छंटने में दोनों देशों को सामने आना ही होगा ! वो समझते हैं कि उचित तरह से बातचीत के जरिए विवादित मुद्दों को सुलझाने की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए ! द्विपक्षीय रिश्तों को और मजबूत करने की जरूरत है !

यदि भवान् पूर्वस्य इतिहासम् अपश्यत् तर्हि प्रापिष्यति तत कलहस्य मध्यापि द्वयो देशम् अग्रम् बर्धयते ! येन सहैव सः अकथयत् तत यत् तथ्यम् अस्ति, तस्मिन् वार्ताम् कृतं सरलम् भवति ! यदि प्रकरणम् कश्चित धारणे सम्बन्धितम् असि तर्हि तस्य निराकरणे कालम् लगति !

अगर आप पीछे के इतिहास को देखें तो पाएंगे कि विवाद के बीच भी दोनों देश आगे बढ़ते रहे हैं ! इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो तथ्य हैं, उस पर बातचीत करना आसान होता है ! अगर मामला किसी धारणा से संबंधित हो तो उसके निराकरण में समय लगता है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

[tds_leads input_placeholder="Email address" btn_horiz_align="content-horiz-center" pp_checkbox="yes" pp_msg="SSd2ZSUyMHJlYWQlMjBhbmQlMjBhY2NlcHQlMjB0aGUlMjAlM0NhJTIwaHJlZiUzRCUyMiUyMyUyMiUzRVByaXZhY3klMjBQb2xpY3klM0MlMkZhJTNFLg==" msg_composer="success" display="column" gap="10" input_padd="eyJhbGwiOiIxNXB4IDEwcHgiLCJsYW5kc2NhcGUiOiIxMnB4IDhweCIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCA2cHgifQ==" input_border="1" btn_text="I want in" btn_tdicon="tdc-font-tdmp tdc-font-tdmp-arrow-right" btn_icon_size="eyJhbGwiOiIxOSIsImxhbmRzY2FwZSI6IjE3IiwicG9ydHJhaXQiOiIxNSJ9" btn_icon_space="eyJhbGwiOiI1IiwicG9ydHJhaXQiOiIzIn0=" btn_radius="0" input_radius="0" f_msg_font_family="521" f_msg_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsInBvcnRyYWl0IjoiMTIifQ==" f_msg_font_weight="400" f_msg_font_line_height="1.4" f_input_font_family="521" f_input_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEzIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMiJ9" f_input_font_line_height="1.2" f_btn_font_family="521" f_input_font_weight="500" f_btn_font_size="eyJhbGwiOiIxMyIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_btn_font_line_height="1.2" f_btn_font_weight="600" f_pp_font_family="521" f_pp_font_size="eyJhbGwiOiIxMiIsImxhbmRzY2FwZSI6IjEyIiwicG9ydHJhaXQiOiIxMSJ9" f_pp_font_line_height="1.2" pp_check_color="#000000" pp_check_color_a="#309b65" pp_check_color_a_h="#4cb577" f_btn_font_transform="uppercase" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjQwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGUiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjMwIiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJsYW5kc2NhcGVfbWF4X3dpZHRoIjoxMTQwLCJsYW5kc2NhcGVfbWluX3dpZHRoIjoxMDE5LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMjUiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" msg_succ_radius="0" btn_bg="#309b65" btn_bg_h="#4cb577" title_space="eyJwb3J0cmFpdCI6IjEyIiwibGFuZHNjYXBlIjoiMTQiLCJhbGwiOiIwIn0=" msg_space="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIwIDAgMTJweCJ9" btn_padd="eyJsYW5kc2NhcGUiOiIxMiIsInBvcnRyYWl0IjoiMTBweCJ9" msg_padd="eyJwb3J0cmFpdCI6IjZweCAxMHB4In0=" msg_err_radius="0" f_btn_font_spacing="1"]
spot_img

Related articles

रामचरितमानसस्यानादर:, रिक्तं रमवान् सपायाः हस्तम् ! रामचरितमानस का अपमान, खाली रह गए सपा के हाथ ?

उत्तर प्रदेशे वर्तमानेव भवत् विधान परिषद निर्वाचनस्य परिणाम: आगतवान् ! पूर्ण ५ आसनेभ्यः निर्वाचनमभवन् स्म् ! यत्र ४...

चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

एक अमेरिकी रिपोर्ट के अनुसार, "पाकिस्तान के बजाय अब चीन, भारतीय परमाणु रणनीति के केंद्र में है।" चीन भी समझता है कि परमाणु संपन्न भारत 1962 की पराजित मानसिकता से मीलों बाहर निकल चुका है।

हमारी न्याय व्यवस्था पर बीबीसी का प्रहार

बीबीसी ने अपनी प्रस्तुति में भारत के तथाकथित सेकुलरवादियों, जिहादियों और इंजीलवादियों के उन्हीं मिथ्या प्रचारों को दोहराया है, जिसे भारतीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने न केवल वर्ष 2012 में सिरे से निरस्त कर दिया

मध्यप्रदेशे इस्लामनगरम् ३०८ वर्षाणि अनंतरम् पुनः कथिष्यते जगदीशपुरम् ! मध्यप्रदेश में इस्लाम नगर 308 साल बाद फिर से कहलाएगा जगदीशपुर !

मध्यप्रदेशस्य भोपालतः १४ महानल्वम् अंतरे एकं ग्रामम् इस्लामनगरमधुना जगदीशपुर नाम्ना ज्ञाष्यते ! केंद्र सर्वकार: ग्रामस्य नाम परिवर्तनस्याज्ञा दत्तवान्...