25.7 C
New Delhi

चलचित्र सूर्यवंश्यां वंचक: बॉलीवुड इतस्यैकमन्य अशुचि हिंदूविरोधिन् कुचक्रम् ! फिल्म सूर्यवंशी में गद्दार बॉलीवुड की एक और नापाक हिन्दू विरोधी साजिश !

Date:

Share post:

यदि कश्चित हिन्दू सूर्यवंशी चलचित्रम् दर्शित: सः यस्य प्रशंसितः पुनः या केवलं साधारणमपि कथ्यतु तर्हि अवगम्यतु तत तर्हि वा सः बहुमूढ़: अस्ति पुनः वा इदृशं बहु धर्मनिरपेक्ष:, येन हिंदुत्वेन कश्चित सरोकारम् न !

अगर किसी हिन्दू ने सूर्यवंशी फिल्म देखी हो और वह इसकी प्रशंसा करे या फिर सिर्फ साधारण भी कहे तो समझ लीजिए कि या तो वह महामूर्ख है या फिर ऐसा पक्का सेकुलर, जिसे हिन्दुत्व से कोई लेना देना नहीं !

इदृशमहम् किं कथयामि, अधोवर्णित चत्वारै: दृश्यै: सिद्धम् भविष्यति ! चलचित्रस्य प्रारंभे, पकिस्ताने तिष्ठ: आतंकिनां प्रमुख: अलकायदायाः निर्माताम् (जैकी श्राफ) तस्य भार्या आतंकम् त्यजनं कथ्यति, आश्चर्यम् !

ऐसा मैं क्यों कह रहा हूँ, नीचेवर्णित 4 सीन से सिद्ध हो जायेगा ! फिल्म के प्रारम्भ में, पाकिस्तान में बैठे आतंकवादियो के सरगना और अल कायदा के फाउंडर (जैकी श्राफ) को उसकी बीबी आतंकवाद छोड़ने को कहती है, आश्चर्य !

सः दीनः बहु इवासहाय मुखम् निर्मित्वा कथ्यति ! मया हिंदुस्तानम् स्वदेशात् निःसृत:, अर्थतः ते दीन: तर्हि पकिस्तानमिच्छतैव नासीत् ! यद्यपि पकिस्तानं केवलं मुस्लिमानां दुराग्रहस्य कारणमेव निर्मितं स्म !

वह बेचारा बहुत ही बेबस चेहरा बना कर कहता है !
हमें हिन्दुस्तान ने अपने मुल्क से निकाल दिया, यानि वे बिचारे तो पाकिस्तान चाहते ही न थे ! जबकि पाकिस्तान सिर्फ मुसलमानों की जिद के कारण ही बना था !

सः पुनः ज्ञापयति, तदाहम् ५ वर्षस्यासीत् तर्हि मम संमुखमिव मम मातु: पितु: वधम् कृतवन्तः भगन्या च् सह दुष्कर्म इति कृतवान, तर्हि अहम् किं कृतः ? प्रतिशोध: तर्हि मया नीतमिवासीत् !

वह फिर बताता है, तब मैं 5 साल का था तो मेरे सामने ही मेरे माँ बाप का कत्ल कर दिया गया और बहन के साथ बलात्कार किया गया, तो मै क्या करता ? बदला तो हमे लेना ही था !

इदमप्यनुचितमस्ति कुत्रचित इदृशं पकिस्ताने हिंदुभिः सह १९४७ तः अद्यैव भवितुमागतं कश्मीरे च् हिन्दुभिः सह इदृशमभवत् तदापि च् अद्यैव आतंकिन् न निर्मित: ! इति प्रकारेणाधुनैव तर्हि अस्माकं अत्रापि लक्षाणि जनाः आतंकिनः निर्मिता: !

यह भी गलत है क्योंकि ऐसा पाकिस्तान में हिंदुओं के साथ 1947 से आज तक होता आया है और कश्मीर में हिंदुओं के साथ ऐसा हुआ है और तब भी हिंदू आज तक आतंकवादी नहीं बने ! इस तरह से अब तक तो हमारे यहाँ भी लाखों लोग आतंकवादी बन जाते !

यस्यानंतरम् मुम्बय्या: धूमयान विस्फोटम् प्रदर्शयति अजय देवगनस्य च् स्वरम् शृणुते ! अस्माकं पूर्वजा: यत् प्रमादानां तस्य दंडाद्याहम् भुज्यन्ते, अर्थतः वयं १९४७ तमे मुस्लिमेषु अत्याचारा: कृतवान पुनः च् वयं हिंदू विभाजनाय जिम्मेवारमासन्, एतानि च् विस्फोटेभ्यः अस्माकं हिंदू पूर्वजा: जिम्मेवारं सन्ति !

इसके बाद मुंबई का ट्रेन ब्लास्ट दिखाते हैं और अजय देवगन की आवाज सुनाई जाती है ! हमारे बुजुर्गो ने जो गलतियाँ की उसकी सजा आज हम भुगत रहे हैं, यानि हमने 1947 में मुस्लिमों पर अत्याचार किये या फिर हम हिंदू विभाजन के लिये जिम्मेदार थे, और इन बम ब्लास्ट के लिये हमारे हिन्दू बुजुर्ग जिम्मेदार हैं !

एकस्य मस्जिदस्य मन्दिरस्य च् पार्श्व विस्फोटं धृतं, समस्त मुस्लिम: पलायितः न, अपितु मंदिरे एकत्रित हिंदून् बाह्य निस्सरणे सहाय्य करोति, पुनः पादेभ्यः उपानह: पादुका: अवतृत्वा मंदिरे प्रवेशित्वा भगवत: गणेशस्य विशालकाय मूर्ति उत्थित्वा तेन सुरक्षित स्थाने प्राप्यति !

एक मस्जिद और मंदिर के पास बम रखे है, सारे मुस्लिम भागते नही, बल्कि मंदिर में जमा हिंदुओं को बाहर निकलने में मदद करते है, फिर पैरो से जूते चप्पल उतार कर मंदिर में घुस कर भगवान गणेश की विशाल मूर्ति उठा कर उसे सुरक्षित स्थान पर पहुँचाते है !

यद्यपि तत्रस्य पलायिताः हिंदून् भक्तान् गणेश महाशयस्य कश्चित चिंता न ! नेत्राणि अश्रुपरिपूरित: इदम् दर्शित्वा तत मुस्लिमा: कति साधु भवन्ति ! यद्यपि अद्यापि पकिस्ताने, कश्मीरे बांग्लादेशे च् हिन्दुनां मंदिरान् त्रोटन्ते !

जबकि वहाँ के भागते हिन्दु भक्तों को गणेश जी की कोई चिन्ता नहीं ! आँखे भर आयी ये देख कर कि मुस्लिम कितने अच्छे होते हैं ! जबकि आज भी पाकिस्तान, कश्मीर और बांग्लादेश में हिंदुओं के मंदिरों को तोड़ा जाता है !

भारते आतंकिनां प्रमुख: बिलाल: अस्ति ! यत् १९९३ तमस्य मुम्बै: विस्फोटस्य मुख्यारोपिनपि अस्ति ! मुखेण बहुसरळं, बहुभावुक: ! सः आत्म हननेण पूर्व कथ्यति तताहमिमानि विस्फोटानि येन कारणम् कृतः तत मम भार्या शिशून् अत्र जीवितं दग्धा: !

भारत में आतंकवादियों का सरगना बिलाल है ! जो 1993 के मुम्बई ब्लास्ट का मास्टर माइंड भी है ! चेहरे से बेहद मासुम, बेहद इमोशनल ! वह आत्म हत्या करने से पहले कहता है कि मैने ये सब ब्लास्ट इसलिये किये कि मेरी बीबी बच्चे सभी को यहाँ जिन्दा जला दिया गया !

इमे चलचित्रकाः कश्मीरे १९८९ तमे हिन्दुषु अभवत् अत्याचारम् सदैव विस्मृयन्ति ! तत्रेषु हिन्दुषु अभवन् क्रूरतम: अत्याचारानां कारणम्, ५ लक्षान् हिंदून् अद्यापि स्व इव देशे, कश्मीर त्यक्त्वा शरणार्थी निर्मिते विवश भवितुम् जातम् !

ये फिल्म वाले कश्मीर में 1989 में हिंदुओं पर हुए अत्याचार को हमेशा भूल जाते हैं ! जहां पर हिंदुओं पर हुए क्रूरतम अत्याचारों के कारण, 5 लाख हिंदुओं को आज भी अपने ही देश में, कश्मीर छोड़ कर शरणार्थी बनने पर मजबूर होना पड़ा है !

पुनः च् एकापि कश्मीरी पंडिता: आतंकिन: न भूता: ! इदृशं सकारात्मकतायाः संदेशम् कश्चितापि चलचित्रक: न दत्ता: ! इति चलचित्रम् दर्शित्वा परिलक्ष्यति ततेदम् पकिस्ताने निर्मितं !

फिर भी एक भी कश्मीरी पंडित आतंकवादी नहीं बना ! ऐसा सकारात्मकता का संदेश कोई भी फिल्म वाला नहीं देता ! इस फिल्म को देख कर लगता है कि यह पाकिस्तान में बनाई गयी है !

चलचित्रस्य मुख्योद्देश्यं आतंकिनत्याचारस्य लक्ष्ये विवशतायां च् केवलं प्रतिशोधाय निर्मितुम् भवति ! तर्हि पुनः कश्मीरी पंडितानधुना किं करणीया: ? चलचित्रकानां अनुसारम् तै: अप्यस्त्राणि उत्थानीयाः, यानि पकिस्तानी कश्मीरी वा हिंसका: तेषु अत्याचारं कृतवान तै: सम्पादनीया: !

फिल्म का मुख्य उद्देश्य आतंकवादियों को अत्याचार का शिकार और मजबूरी में सिर्फ प्रतिशोध लेने के लिये बनना पड़ता है ! तो फिर कश्मीरी पंडितों को अब क्या करना चाहिए ? फिल्मकारों के अनुसार उन्हें भी हथियार उठा लेने चाहिए, जिन पकिस्तानी व कश्मीरी दरिंदों ने उन पर जुल्म किएं हैं उन्हें समाप्त कर देना चाहिए !

इति चलचित्रस्य प्रस्तुतकर्ता करनजौहर: रोहित शेट्टी च् स्त: ! निर्देशक: अपि रोहित शेट्टी अस्ति ! चलचित्र निर्माणस्यानंतरम् अक्षय:, अजय देवगन:, रणवीर सिंह: अपि द्रष्टुम् भविष्यन्ति ! इमे सन्ति अस्माकं विक्रेया:, पिशुना:, हिन्दुनां शत्रवः, भांडानां वृहद समूह: यत् पणानां हेतु केचनापि कर्तुम् तत्परं रमन्ति !

इस फिल्म के प्रोड्यूसर करन जौहर और रोहित शेट्टी है ! निर्देशक भी रोहित शेट्टी हैं ! फिल्म बनने के बाद अक्षय, अजय देवगन ने भी देखी होगी ! ये है हमारा बिकाऊ, गद्दार, हिन्दुओं का शत्रु, भांडो का बड़ा समूह जो पैसों के खातिर कुछ भी करने के लिए तैयार रहतें हैं !

एतै: चलचित्रकै: अपि निंदनीय तत हिन्दू समाजम् सन्ति यत् चलचित्रम् दर्शित्वा बाह्यागत्वा इति प्रकारस्य चलचित्रानां परिवादमपि न कुर्वन्ति ! द्वितीयकान् हतोत्साहितमपि न कुर्वन्ति ! सेंसर इत्ये अपि तर्हि तैव गृध्रा: इव तिष्ठा:, तदापि तर्हि हैदर, पीके, ओएमजी यथैव चलचित्राणि आगतुं शक्नुतं !

इन फिल्मकारों से भी अधिक निंदनीय वह हिन्दू समाज हैं जो फिल्म देख कर बाहर आकर इस तरह की फिल्मों की निन्दा भी नही करते हैं ! दूसरो को हतोत्साहित भी नही करते हैं ! सेंसर में भी तो वही गिद्ध ही बैठे हैं, तभी तो हैदर, पीके, ओएमजी जैसी फिल्में आ सकी !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

कन्हैया लाल तेली इत्यस्य किं ?:-सर्वोच्च न्यायालयम् ! कन्हैया लाल तेली का क्या ?:-सर्वोच्च न्यायालय !

भवतम् जून २०२२ तमस्य घटना स्मरणम् भविष्यति, यदा राजस्थानस्योदयपुरे इस्लामी कट्टरपंथिनः सौचिक: कन्हैया लाल तेली इत्यस्य शिरोच्छेदमकुर्वन् !...

१५ वर्षीया दलित अवयस्काया सह त्रीणि दिवसानि एवाकरोत् सामूहिक दुष्कर्म, पुनः इस्लामे धर्मांतरणम् बलात् च् पाणिग्रहण ! 15 साल की दलित नाबालिग के साथ...

उत्तर प्रदेशस्य ब्रह्मऋषि नगरे मुस्लिम समुदायस्य केचन युवका: एकायाः अवयस्का बालिकाया: अपहरणम् कृत्वा तया बंधने अकरोत् त्रीणि दिवसानि...

यै: मया मातु: अंतिम संस्कारे गन्तुं न अददु:, तै: अस्माभिः निरंकुश: कथयन्ति-राजनाथ सिंह: ! जिन्होंने मुझे माँ के अंतिम संस्कार में जाने नहीं दिया,...

रक्षामंत्री राजनाथ सिंहस्य मातु: निधन ब्रेन हेमरेजतः अभवत् स्म, तु तेन अंतिम संस्कारे गमनस्याज्ञा नाददात् स्म ! यस्योल्लेख...

धर्मनगरी अयोध्यायां मादकपदार्थस्य वाणिज्यस्य कुचक्रम् ! धर्मनगरी अयोध्या में नशे के कारोबार की साजिश !

उत्तरप्रदेशस्यायोध्यायां आरक्षकः मद्यपदार्थस्य वाणिज्यकृतस्यारोपे एकाम् मुस्लिम महिलाम् बंधनमकरोत् ! आरोप्या: महिलायाः नाम परवीन बानो या बुर्का धारित्वा स्मैक...